‘श्रीराम जन्मभूमि ट्रस्ट’ के प्रमुख महंत नृत्य गोपाल दास की तबीयत हुई खराब

अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि न्यास और श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के प्रमुख महंत नृत्य गोपाल दास को सीने में दर्द, अत्यधिक पेशाब की परेशानी और ऑक्सीजन के स्तर में उतार-चढ़ाव की शिकायत के बाद मेदांता अस्पताल में भर्ती कराने के लिए लखनऊ लाया जा रहा है।

अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि न्यास और श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के प्रमुख महंत नृत्य गोपाल दास को सीने में दर्द, अत्यधिक पेशाब की परेशानी और ऑक्सीजन के स्तर में उतार-चढ़ाव की शिकायत के बाद मेदांता अस्पताल में भर्ती कराने के लिए लखनऊ लाया जा रहा है।
सूत्रों से प्राप्त जानकारी के मुताबिक, डॉक्टरों की एक टीम ने रविवार सुबह अयोध्या में बीमार महंत की जांच की और फिर अस्पताल में भर्ती होने की सलाह दी जिसके बाद महंत को अस्पताल में भर्ती के लिए लखनऊ लाया जा रहा है। पिछले साल, 83 वर्षीय महंत नृत्य गोपाल दास को कोविड के लिए सकारात्मक परीक्षण के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था। तब से, उन्होंने सार्वजनिक कार्यक्रमों से परहेज किया और अपने निवास तक ही सीमित रहे।
ऐसे बने थे महंत नृत्य गोपाल दास श्रीरामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष:-
अब से करीब दो वर्ष पहले नवंबर 2019 में अयोध्या मंदिर-मस्जिद विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद उन्हेंं रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट का अध्यक्ष बनाया गया था। इससे पहले बीते वर्ष नवंबर में भी नृत्य गोपाल दास को लखनऊ के मेदांता अस्पताल में भर्ती कराया गया था। यहां उनका ऑपरेशन किया गया था। महंत नृत्य गोपाल दास कोरोना संक्रमण से उबरने के बाद अयोध्या पहुंचे थे। वह अपने स्वास्थ्य को लेकर बेहद सजग हैं।
अयोध्या आंदोलन में अहम भूमिका निभाने वाले और श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास बीते वर्ष अगस्त के महीने में कोरोना वायरस से संक्रमित हो गए थे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने नृत्यगोपाल दास को गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में भर्ती करवाया था।
महंत नृत्यगोपाल दास का परिचय:-
अयोध्या में मणिराम दास (छोटी छावनी) के महंत नृत्यगोपाल दास का जन्म मथुरा में हुआ है। वह राम जन्म भूमि न्यास के साथ कृष्ण जन्म भूमि न्यास के भी अध्यक्ष हैं। वह मथुरा में कृष्ण जन्माष्टमी के मौके पर जाते हैं। महंत नृत्य गोपाल दास का जन्म मथुरा के बरसाना के कहोला गांव में 1938 में हुआ। उन्होंने सिर्फ 12 वर्ष की उम्र में ही संन्यास ले लिया था और मथुरा से अयोध्या आ गए। 1953 में उन्होंने अयोध्या में मणिराम दास छावनी में राम मनोहर दास से दीक्षा ली।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

sixteen + four =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।