वायु प्रदूषण एक घातक संयोजन, बढ़ जाता है स्वास्थ्य जोखिम

गर्मी की एक और लहर मानव स्वास्थ्य के लिए खतरा बन रही है और जंगल की आग की संभावना को बढ़ा रही है। इन गर्म दिनों और रातों के अलावा, वायु गुणवत्ता के आंकड़े प्रदूषण का अस्वास्थ्यकर स्तर दिखा रहे हैं।

 दुनिया के कई हिस्सों में तेजी से सामान्य होता जा रहा है।ताप लहरें और वायु प्रदूषण एक घातक संयोजन, बढ़ जाता है स्वास्थ्य जोखिम(एरिका गार्सिया, एमडी मुस्तफिजुर रहमान और रॉब स्कॉट मैककोनेल, दक्षिणी कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय)लॉस एंजिलिस, 30 अगस्त (द कन्वरसेशन) सुबह की खबरों में आप देखते हैं कि मौसम के पूर्वानुमान में तेज गर्मी, और सप्ताह में बाद में अत्यधिक गर्मी की।
तेज गर्मी और वायु प्रदूषण दोनो ही मानव स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हैं, विशेष रूप से वृद्धों की कमजोर आबादी के लिए। लेकिन क्या होता है जब ये दोनो एक ही समय में सामने आते हैं? हमने यह पता लगाने के लिए 2014 से 2020 तक 15 लाख से अधिक मौतों की जांच की, जो कैलिफोर्निया में पंजीकृत हैं। यह एक ऐसा राज्य है जहां गर्मियों में ताप की लहरों के साथ ही जंगल की आग से वायु प्रदूषण की घटनाएं होती हैं।
दोनों जोखिम अधिक होने पर मृत्यु दर बढ़ जाती है
उन दिनों में मृत्यु के मामले बढ़ जाते हैं, जब गर्मी हो और वायु को प्रदूषित करने वाले छोटे कण, जिन्हें पीएम2.5 कहा जाता है, की मात्रा हवा में बढ़ जाती है। लेकिन जब किसी क्षेत्र में उच्च गर्मी और उच्च वायु प्रदूषण दोनों की दोहरी मार पड़ती है, तो प्रभाव इन दोनो के अलग अलग होने पर पड़ने वाले प्रभाव से कहीं अधिक होता था।इन अतिरिक्त गर्म और प्रदूषित दिनों में मृत्यु का जोखिम अकेले उच्च गर्मी या उच्च वायु प्रदूषण के प्रभाव से लगभग तीन गुना अधिक था।तापमान और प्रदूषण जितना अधिक होगा, जोखिम उतना ही अधिक होगा। सबसे गर्म और सबसे प्रदूषित दिनों के शीर्ष 10% के दौरान, बिना चरम दिनों की तुलना में मृत्यु का जोखिम 4% बढ़ गया। शीर्ष 1% के दौरान, इसमें 21% की वृद्धि हुई; और 75 वर्ष से अधिक उम्र के वयस्कों में, उन दिनों मृत्यु का जोखिम एक तिहाई से अधिक बढ़ गया।
जब दोनों एक साथ होते हैं तो जोखिम अधिक क्यों होता है
ऐसे कई तरीके हैं जिनसे अत्यधिक गर्मी और वायु प्रदूषण के संयुक्त संपर्क मानव स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा सकते हैं।ऑक्सीडेटिव तनाव वायु प्रदूषण और गर्मी के संपर्क से जुड़ा सबसे आम जैविक मार्ग है। ऑक्सीडेटिव तनाव प्रतिक्रियाशील ऑक्सीजन किस्मों, या आरओएस के रूप में पहचाने जाने वाले अत्यधिक प्रतिक्रियाशील अणुओं के उत्पादन और उन्हें हटाने की शरीर की क्षमता के बीच असंतुलन है। इसे अन्य बीमारियों के अलावा फेफड़ों की बीमारियों से जोड़ा जाता है।
प्रदूषण और गर्मी के चरम का प्रभाव अधिक 
एंटीऑक्सिडेंट इन अणुओं को साफ करने में मदद करते हैं, लेकिन वायु प्रदूषण और गर्मी अत्यधिक चयापचय आरओएस उत्पादन और कम एंटीऑक्सीडेंट गतिविधि के माध्यम से इस संतुलन को बाधित करते हैं।हमारे शोध से यह भी पता चला है कि रात में तापमान अधिक होने और प्रदूषण भी साथ होने पर वायु प्रदूषण और गर्मी के चरम का प्रभाव अधिक होता है। रात का उच्च तापमान सामान्य नींद में हस्तक्षेप कर सकता है और संभावित रूप से हृदय रोग और मोटापे जैसी स्वास्थ्य समस्याओं को बढ़ा सकता है और साथ ही शरीर के तापमान को नियंत्रित करने के तरीके को बाधित कर सकता है।Heat waves + air pollution can be a deadly combination | Ars Technica
एयर कंडीशनिंग का खर्च उठाने में कम सक्षम
वृद्धजन अत्यधिक गर्मी और वायु प्रदूषण जोखिम के प्रभावों के प्रति अधिक संवेदनशील हो सकते हैं, क्योंकि यह उम्र से संबंधित पुरानी स्वास्थ्य स्थितियों जैसे हृदय रोग, उच्च रक्तचाप, मधुमेह या पुरानी फेफड़ों की बीमारी को बढ़ाने में सहायक होता है। उम्र बढ़ने के साथ गर्मी की प्रतिक्रिया में शरीर के तापमान में वृद्धि होने की आशंका भी रहती है।अधिक उम्र के लोग कहीं आने जाने में उतने सक्षम नहीं होते इसलिए कूलिंग सेंटर या चिकित्सा देखभाल के लिए जाने या फिर एयर कंडीशनिंग का खर्च उठाने में कम सक्षम होते हैं।
उच्च तापमान और वायु प्रदूषण का भविष्य
यह सिर्फ कैलिफोर्निया की समस्या नहीं है। जलवायु परिवर्तन से देश के कई हिस्सों में गर्मी की तीव्रता और वायु प्रदूषण का खतरा बढ़ जाएगा।अमेरिका में वार्षिक औसत तापमान 1900 की शुरुआत की तुलना में पहले से ही 1.8 डिग्री फ़ारेनहाइट (1 डिग्री सेल्सियस) से अधिक गर्म है। इस सदी के अंत तक, वैश्विक तापमान लगभग 5 डिग्री फ़ारेनहाइट (2.7 सेल्सियस) गर्म होने के रास्ते पर है। खतरनाक अत्यधिक गर्मी की लहरें, जो वर्तमान में कम होती हैं, अधिक सामान्य हो जाएंगी।
जोखिम को कम करने के उपाय करने चाहिए
जलवायु परिवर्तन बाहरी सूक्ष्म कणों के प्रदूषण के स्तर को भी प्रभावित कर रहा है – उदाहरण के लिए, मौसम परिवर्तन जैसे हवा के ठहराव की घटनाओं, हवा और धूल भरी आंधी, और शुष्क और गर्म परिस्थितियों के कारण जंगल की आग की घटनाओं की तीव्रता और संख्या बढ़ती है।सुरक्षित रहने के लिए क्या करें?इन प्रभावों को बेहतर ढंग से समझने के लिए और अधिक शोध की आवश्यकता है, जैसे कि जंगल की आग के धुएं के संपर्क का पूरा प्रभाव। हालांकि, यह पर्याप्त ज्ञात है कि लोगों को अत्यधिक गर्मी या वायु प्रदूषण की अवधि के दौरान नुकसान के जोखिम को कम करने के उपाय करने चाहिए।
प्रदूषण के स्तर को काफी कम है 
इसका मतलब है कि लगातार पानी या कोई अन्य पेय पीते रहना और शरीर को भरसक ठंडा रखना। शॉपिंग मॉल और अन्य वातानुकूलित सार्वजनिक स्थान गर्मी से बचाव प्रदान कर सकते हैं। होम एयर कंडीशनिंग, विशेष रूप से रात के समय, मृत्यु दर को कम कर सकता है। बेडरूम में एक पोर्टेबल एयर फिल्टर कण प्रदूषण के स्तर को काफी कम कर सकता है।जिन लोगों को गर्मी के तनाव के लक्षण जैसे सिरदर्द, मतली, चक्कर आना या भ्रम, विशेष रूप से बुजुर्गों को चिकित्सा देखभाल लेनी चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

seventeen + fifteen =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।