Search
Close this search box.

श्रीलंका सरकार का ऐलान: महारानी एलिजाबेथ-II के अंतिम संस्कार के दिन देश में अवकाश और शोक

पूर्व ब्रिटिश उपनिवेश श्रीलंका ने दिवंगत ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ द्वितीय के अंतिम संस्कार के दिन 19 सितंबर को विशेष अवकाश और शोक दिवस की घोषणा की है।

ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ द्वितीय की 96 वर्ष की उम्र में मौत हो जाने से विश्व से शोक की लहर बनी हुई हैं। हालांकि, ब्रिटेन में नए राजा के रूप में चाल्स किंग ने अपनी विरासत को संभालक जनता को संबोधित किया था। गौरतलब श्रीलंका की सरकार ने एलिजाबेथ की अंतिम संसकार वाले दिन देश में औपचारिक अवकाश का घोषणा की हैं। मिली जानकारी के मुताबिक महारानी का अंतिम संस्कार 19 सिंतबर को होने वाला हैं। इस दिन ब्रिटेन शोक के अंधेरे में डूबा होगा। 
96 वर्ष की आयु में महारानी की हुई मृत्यु
 जानकारी के मुताबिक  लोक प्रशासन और गृह मंत्रालय के सचिव ने सरकारी अवकाश की घोषणा की और निर्देश दिया कि उस तिथि तक राष्ट्रीय ध्वज आधा झुका रहेगा। ब्रिटेन की सबसे लंबे समय तक सेवा करने वाली महारानी एलिजाबेथ द्वितीय, जिनकी मृत्यु 96 वर्ष की आयु में 8 सितंबर को हुई, 70 वर्षों तक शासन करने के बाद, 1972 तक श्रीलंका की प्रमुख थी, जिस वर्ष द्वीप राष्ट्र एक गणतंत्र बन गया, ब्रिटिश संप्रभु से पूरी तरह से मुक्त हो गया।
विक्रमसिंघे ने ट्वीट करके कही यह बड़ी बात
ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का राजतिलक होने के अलावा दो जून के नाम  और क्या दर्ज है?
दिवंगत रानी ने 1954 और 1981 में श्रीलंका का दौरा किया और बाद में उनका प्रतिनिधित्व तत्कालीन प्रिंस ऑफ वेल्स, अब किंग चार्ल्स थर्ड द्वारा किया गया, जब उन्होंने 1998, 2004 और 2013 में द्वीप राष्ट्र का दौरा किया था।राष्ट्रपति रानिल विक्रमसिंघे शोक व्यक्त करने कोलंबो में ब्रिटिश उच्चायोग गए।
राष्ट्रपति विक्रमसिंघे ने एक ट्वीट में कहा, वह स्थिरता और धीरज की प्रतीक थीं, और उन्हें बहुत याद किया जाएगा। शाही परिवार और ब्रिटेन और राष्ट्रमंडल के लोगों के प्रति मेरी हार्दिक संवेदना है।ब्रिटेन, जिसने डचों से द्वीप राष्ट्र पर विजय प्राप्त की और 1815 में पूरे देश पर अधिकार कर लिया, ने 4 फरवरी, 1948 तक शासन किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

four − 2 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।