Elon Musk का एक और बड़ा फैसला, ट्विटर पर किया App Developer इंजीनियर को हटाने का ऐलान

एलन मस्क ने जब से ट्विटर की कमांड संभाली तब से ट्विटर के कर्मचारीओ के लिए हर दिन मुश्किल भरा साबित हो रहा है। एलन मस्क के आते ही कर्मचारियों को एक हफ्ते में 80 घंटे काम करने की घोषणा कर दी और इसके बाद कंपनी के 50 फीसदी वर्कफोर्स को नौकरी से निकाल दिया है।

एलन मस्क ने जब से ट्विटर की कमांड संभाली तब से ट्विटर के कर्मचारीओ के लिए हर दिन मुश्किल भरा साबित हो रहा है। एलन मस्क के आते ही कर्मचारियों को एक हफ्ते में 80 घंटे काम करने की घोषणा कर दी और इसके बाद कंपनी के 50 फीसदी वर्कफोर्स को नौकरी से निकाल दिया है। इसके बाद एलन मस्क ने एक ट्विटर कर्मचारी एरिक फ्रोनहोफर को निकाल दिया है। जिसने माइक्रो-ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म पर सार्वजनिक रूप से मस्क की गलती बताई थी।
मस्क के बयान को गलत बताते हुए रीट्वीट
रिपोर्ट के अनुसार, शुरूआत रविवार को हुई जब मस्क ने ‘कई देशों’ में माइक्रो-ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म के खराब प्रदर्शन के लिए माफी मांगने के लिए एक ट्वीट पोस्ट किया। फ्रोनहोफर, जिन्होंने ट्वीट किया कि उन्होंने एंड्रॉइड के लिए ट्विटर पर काम करते हुए छह साल बिताए हैं, उन्होंने मस्क के बयान को गलत बताते हुए रीट्वीट कर दिया।
उन्होंने कहा था, मैंने एंड्रॉइड के लिए ट्विटर पर काम करते हुए 6 साल बिताए हैं और कह सकता हूं कि यह गलत है। फ्रोन्होफर के अनुसार, माइक्रो-ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म कोई दूरस्थ प्रक्रिया कॉल नहीं करता है। इसके बजाय, उन्होंने कहा कि यह स्टार्टअप के दौरान लगभग 20 बैकग्राउंड रिक्वे स्ट करता है।
होम टाइमलाइन जेनरेट करने के लिए आवश्यक संख्या
अपनी प्रतिक्रिया में, मस्क ने कहा, जब कोई ट्विटर ऐप का उपयोग करता है तो 1200 तक माइक्रोसर्विसेज को कॉल करता है, यह बहुत अच्छा नहीं है। फ्रोहनहोफर ने फिर से असहमति जताई और ट्वीट किया कि ‘होम टाइमलाइन जेनरेट करने के लिए आवश्यक संख्या 200 है न कि 1,200।’
एक ट्विटर उपयोगकर्ता ने थ्रेड में टिप्पणी की कि मस्क शायद फ्रोहनहोफर को अपनी टीम में नहीं चाहते थे क्योंकि डेवलपर ने ट्वीट किया था कि ‘शायद मस्क से निजी तौर पर सवाल पूछना चाहिए’, जिस पर ट्विटर के सीईओ ने जवाब दिया, ‘उन्हें निकाल दिया गया है।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

three + two =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।