मीडिया रिपोर्ट में हुआ बड़ा खुलासा, ‘अभी जारी रहेगी पाकिस्तानी रुपये की कमजोरी’

फिच सॉल्यूशंस ने मंगलवार को भविष्यवाणी की कि पाकिस्तानी रुपये की कमजोरी अभी भी जारी है, जिसका देश की अर्थव्यवस्था पर व्यापक प्रभाव पड़ेगा।

फिच सॉल्यूशंस ने मंगलवार को भविष्यवाणी की कि पाकिस्तानी रुपये की कमजोरी अभी भी जारी है, जिसका देश की अर्थव्यवस्था पर व्यापक प्रभाव पड़ेगा। गौरतलब है कि देश पहले से ही रुपये में गिरावट, मुद्रास्फीति और कम ऊर्जा आपूर्ति से जूझ रहा है। मीडिया रिपोर्ट ने बताया कि न्यूयॉर्क स्थित शोध एजेंसी के मुताबिक 25 जनवरी को स्थानीय विदेशी मुद्रा कंपनियों के बीच विनिमय दर पर स्वयं लगाए गए कैप को हटाने के फैसले से रुपये का अवमूल्यन शुरू हो गया था।स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान (SBP) ने शुरू में हस्तक्षेप किया, लेकिन रुपये में महत्वपूर्ण मूल्यह्रास इस बात का स्पष्ट संकेत है कि अधिकारियों ने मुद्रा पर अपनी पकड़ ढीली कर दी है।
1675157670 4205858558585
तीन दिनों में 14.36 प्रतिशत के भारी मूल्यह्रास
मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक फिच सॉल्यूशंस ने उल्लेख किया कि वर्ष के अंत तक रुपये के 248 रुपये प्रति डॉलर तक पहुंचने का उनका मौजूदा पूवार्नुमान अब पुराना लग रहा है। पिछले तीन दिनों में 14.36 प्रतिशत के भारी मूल्यह्रास के बाद बुधवार को 230.89 रुपये की तुलना में इंटरबैंक मार्केट में सुबह 11.04 बजे तक 268.20 रुपये पर चल रहा था।
महीनों तक कमजोर रहने की संभावना 
शोध एजेंसी ने कहा, हमारा मानना है कि रुपये की कमजोरी अभी भी बनी रहेगी, खासकर पाकिस्तान के भुगतान संतुलन की स्थिति कई और महीनों तक कमजोर रहने की संभावना है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक एजेंसी ने कहा कि इस मोड़ पर काफी अनिश्चितता बनी हुई है, इसलिए यह अनुमान लगाना मुश्किल है कि नवीनतम अवमूल्यन ने किस हद तक निवेशकों की भावना को आगे बढ़ाया है।
पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था 0.3 प्रतिशत तक सिकुड़ जाएगी
अपने विश्लेषण में फिच ने चेतावनी दी कि रुपये के लगातार कमजोर होने से निकट अवधि में व्यापक आर्थिक प्रभाव भी होंगे, यह आयातित मुद्रास्फीति के दबाव को बढ़ा सकता है और अंतत: एसबीपी से नीतिगत दर में बढ़ोतरी हो सकती है। रिपोर्ट में कहा गया है कि फिच को उम्मीद है कि वित्त वर्ष 2022-23 में पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था 0.3 प्रतिशत तक सिकुड़ जाएगी।
1675157873 40242052052852
सुरक्षित करने में मदद मिलेगी
फिच ने हालांकि उल्लेख किया कि रुपये के अवमूल्यन से इस्लामाबाद को आईएमएफ से और संवितरण सुरक्षित करने में मदद मिलेगी, जो लंबी अवधि के लिए सकारात्मक होगा, क्योंकि इससे पाकिस्तान के भुगतान संतुलन तनाव को कम करने में मदद मिलेगी। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी आबादी के पास स्टेट बैंक में 3.7 बिलियन डॉलर से कम का भंडार है, देश के केवल तीन सप्ताह के आयात के लिए पर्याप्त है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

15 − one =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।