2035 तक बैन होंगी पेट्रोल और डीजल से चलने वाली कारें-वैन, यूरोपीय संसद और EU सदस्य देशों के बीच हुआ समझौता

यूरोपीय संसद और यूरोपीय संघ (ईयू) के सदस्य राज्यों ने वर्ष 2035 तक नई पेट्रोल और डीजल चालित कारों और वैन की बिक्री पर प्रतिबंध लगाने के लिए एक समझौता किया है।

यूरोपीय संसद और यूरोपीय संघ (ईयू) के सदस्य राज्यों ने वर्ष 2035 तक नई पेट्रोल और डीजल चालित कारों और वैन की बिक्री पर प्रतिबंध लगाने के लिए एक समझौता किया है। यूरोपीय संघ के वार्ताकारों के बीच गुरुवार रात समझौते पर सहमति बनी। ग्लोबल वार्मिंग का कारण बनने वाली गैसों के उत्सर्जन में कटौती के लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए यूरोपीय आयोग द्वारा स्थापित ’55 के लिए फिट’ पैकेज में इस दशक में यह पहला समझौता है।
परिवहन उत्सर्जन में 33.5 प्रतिशत की वृद्धि हुई
यूरोपीय संसद ने कहा कि समझौता “संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन सम्मेलन से पहले एक स्पष्ट संकेत था कि यूरोपीय संघ अपने जलवायु कानून में निर्धारित अधिक महत्वाकांक्षी लक्ष्यों तक पहुंचने के लिए ठोस कानून अपनाने के बारे में गंभीर है”। यूरोपीय संघ के आंकड़ों के मुताबिक, परिवहन ही एकमात्र ऐसा क्षेत्र है जहां पिछले तीन दशकों में ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन में वृद्धि हुई है। 1990 और 2019 के बीच परिवहन उत्सर्जन में 33.5 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।
पर्यावरण समिति के प्रमुख पास्कल कैनफिन के अनुसार
यात्री कारें प्रदूषण फैलाने में अहम भूमिका निभाती हैं। यूरोपीय संघ में सड़क परिवहन से होने वाले कुल CO उत्सर्जन में यात्री कारों की हिस्सेदारी 61 प्रतिशत है। यूरोपीय संसद की पर्यावरण समिति के प्रमुख पास्कल कैनफिन के अनुसार, “यह एक ऐतिहासिक निर्णय है क्योंकि यह पहली बार 2025, 2030 और 2035 में लक्ष्य के साथ एक स्पष्ट शून्य-कार्बन उत्सर्जन पथ को परिभाषित करता है। यह जलवायु के हमारे लक्ष्य के साथ संरेखित है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

5 × 3 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।