एलन मस्क के वकील ने Tweeter के कर्मचारियों से कहा, ‘वे जेल नहीं जाएंगे’

एलन मस्क के एक वकील ने ट्विटर के कर्मचारियों को आश्वस्त किया है कि अगर कंपनी ने फेडरल ट्रेड कमिशन (एफटीसी) के डिक्री की आवश्यकताओं का उल्लंघन किया तो उन पर कोई आंच नहीं आएगी, वे जेल नहीं जाएंगे।

एलन मस्क के एक वकील ने ट्विटर के कर्मचारियों को आश्वस्त किया है कि अगर कंपनी ने फेडरल ट्रेड कमिशन (एफटीसी) के डिक्री की आवश्यकताओं का उल्लंघन किया तो उन पर कोई आंच नहीं आएगी, वे जेल नहीं जाएंगे। मस्क के वकील एलेक्स स्पिरो ने कर्मचारियों को एक ईमेल भेजा, जिसमें कहा गया, एफटीसी के डिक्री का उल्लंघन करने पर व्यक्तिगत रूप से कर्मचारी नहीं, ब्लकि ट्विटर कंपनी उत्तरदायी होगी। 2011 में, ट्विटर ने यूजर डेटा का दुरुपयोग करने के बाद अमेरिकी नियामक के साथ एक डिक्री पर हस्ताक्षर किए।
मैं समझता हूं कि यह कंपनी का दायित्व
एफटीसी ने इस सप्ताह कहा कि कोई भी सीईओ या कंपनी कानून से ऊपर नहीं है। स्पिरो ने ईमेल में कहा कि यह कंपनी की बाध्यता है। उन्होंने लिखा, ट्विटर पर ऐसे कई कर्मचारी हैं, जो एफटीसी मामले पर काम भी नहीं करते हैं। ऐसे में उन्हें डर हैं कि अगर वे इसका अनुपालन नहीं करेंगे, तो वे जेल जा सकते हैं। लेकिन मैं समझता हूं कि यह कंपनी का दायित्व है। यह कंपनी की देनदारी है।
वकील ने कहा कि वे सहमति डिक्री के अनुपालन में रहेंगे। इस बीच, जब से मस्क ने ट्विटर खरीदा है, ट्विटर पर नस्लीय गतिविधि की घटनाएं बढ़ गई हैं। दावा किया जा रहा है कि उन्होंने नफरत की गतिविधियों को कम कर दिया है। सेंटर फॉर काउंटरिंग डिजिटल हेट के शोधकर्ताओं ने पाया कि मस्क द्वारा ट्विटर की खरीद के बाद के सप्ताह में, कई अलग-अलग नस्लीय गतिविधियों में ट्वीट्स की संख्या में वृद्धि हुई है।
अश्वेत लोगों पर हमला करने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले नस्लीय विशेषणों की संख्या 26,000 से अधिक थी, जो 2022 के औसत से तीन गुना अधिक है। इसके अलावा कई ट्विटर यूजर्स ने शुक्रवार को बताया कि नई 7.99 डॉलर ब्लू सब्सक्रिप्शन सेवा अचानक उनके आईओएस ऐप से गायब हो गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

one × five =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।