ट्विटर पर Fake अकाउंट्स को मिल रहा Blue Tick, वेरिफिकेशन को पेड सर्विस बनाने का फैसला सही ?

एलोन मस्क की एंट्री के बाद से ट्विटर पर काफी कुछ बदल गया है। मस्क ने अब ट्विटर ब्लू टिक वेरिफिकेशन को पेड सर्विस बना दिया है। यानी यूजर्स पैसे देकर ब्लू टिक खरीद सकते हैं।

एलोन मस्क की एंट्री के बाद से ट्विटर पर काफी कुछ बदल गया है। मस्क ने अब ट्विटर ब्लू टिक वेरिफिकेशन को पेड सर्विस बना दिया है। यानी यूजर्स पैसे देकर ब्लू टिक खरीद सकते हैं। पहले यह ट्विटर ब्लू टिक पहचान सत्यापन के बाद उपयोगकर्ताओं के लिए उपलब्ध था, जो एक उपयोगकर्ता के प्रमाणीकरण और विश्वसनीयता को दर्शाता था।
साधारणअकाउंट नहीं बल्कि ब्लू टिक अकाउंट
लेकिन अब ऐसा नहीं है। यूजर्स अब पैसे देकर ब्लू टिक खरीद सकते हैं। ट्विटर ने बुधवार को इस सर्विस को रोल आउट किया है और यूजर्स ने इस सर्विस को हाथ में लेते ही इसे आजमाना शुरू कर दिया। अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का ट्विटर अकाउंट यूजर्स को दिखने लगा है। वह भी कोई साधारण अकाउंट नहीं बल्कि ब्लू टिक अकाउंट है, जो फर्जी था।
हालांकि, इस अकाउंट को कुछ देर बाद ही हटा दिया गया है। इसके अलावा कुछ ट्विटर अकाउंट भी ब्लू टिक वेरिफिकेशन के साथ नजर आ रहे है। इसमें गेमिंग कैरेक्टर Super Mario और कई दूसरे अकाउंट्स शामिल है।  
सब्सक्रिप्शन सर्विस के तौर पर लाना चाहते
इन सभी खातों में कुछ चीजें समान हैं और ये ब्लू टिक हैं और ये फर्जी हैं। इन सभी खातों को कुछ समय के लिए निलंबित कर दिया गया था। लेकिन इन अकाउंट्स का दिखना ट्विटर की नई सर्विस की बड़ी खामी को दिखाता है ।  जिस समय ये खाते चल रहे थे, उस समय कई यूजर्स को इनके सही होने का गलत अर्थ लगा होगा। कुछ यूजर्स ने अपने स्क्रीनशॉट भी शेयर किए हैं। Elon Musk Twitter BlueTick को सब्सक्रिप्शन सर्विस के तौर पर लाना चाहते हैं। 
लेकिन मौजूदा हालात को देखकर लगता है कि उनसे गलती हो गई है। भारत में इस सर्विस को जल्द ही लॉन्च किया जा सकता है। कुछ यूजर्स को ब्लू टिक के लिए 719 रुपये चार्ज का मैसेज दिखाई दे रहा है। हालांकि, कंपनी ने आधिकारिक तौर पर इसकी घोषणा नहीं की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

twenty − two =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।