इजराइल: PM नेतन्याहू ने रक्षा मंत्री को किया बर्खास्त, न्यायपालिका में बदलाव की योजना पर जताया था विरोध

इजराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने न्यायपालिका में आमूल-चूल बदलाव की उनकी योजना को चुनौती देने वाले रक्षा मंत्री योआव गैलेन्ट को बर्खास्त कर दिया जिसके विरोध में हजारों प्रदर्शनकारी रविवार रात को सड़कों पर उतर आए।

इजराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने न्यायपालिका में आमूल-चूल बदलाव की उनकी योजना को चुनौती देने वाले रक्षा मंत्री योआव गैलेन्ट को बर्खास्त कर दिया जिसके विरोध में हजारों प्रदर्शनकारी रविवार रात को सड़कों पर उतर आए।तेल अवीव में प्रदर्शनकारियों ने एक मुख्य राजमार्ग को अवरुद्ध कर दिया और बड़े अलाव जलाए जबकि यरुशलम में नेतन्याहू के निजी आवास के बाहर एकत्रित हुए प्रदर्शनकारियों से पुलिस की झड़प हुई। इस प्रदर्शन ने न्यायपालिका में बदलाव करने की नेतन्याहू की योजना को लेकर एक महीने से जारी संकट को और गहरा कर दिया है। गैलेन्ट को बर्खास्त करने से संकेत मिलता है कि प्रधानमंत्री और उनके सहयोगी इस सप्ताह अपनी योजना पर आगे बढ़ेंगे। गैलेन्ट सत्तारूढ़ लिकुड पार्टी के पहले वरिष्ठ सदस्य हैं जिन्होंने इस योजना की खुलकर मुखालफत की है। 
नेतन्याहू की सरकार इस सप्ताह ऐसे विधेयक पर संसद में मतदान कराने की योजना बना रही है जिससे सत्तारूढ़ गठबंधन को न्यायिक नियुक्तियों पर अंतिम मुहर लगाने की शक्ति मिल जाएगी। इसमें ऐसे कानून पारित करने का भी प्रावधान है जिससे संसद को आम बहुमत के साथ उच्चतम न्यायालय के फैसलों को पलटने तथा कानूनों की न्यायिक समीक्षा सीमित करने का अधिकार मिल जाएगा। नेतन्याहू तथा उनके सहयोगियों का तर्क है कि इस योजना से न्यायिक तथा कार्यकारी शाखाओं के बीच संतुलन बहाल होगा। लेकिन आलोचकों का कहना है कि ये कानून इजराइल की लोकतांत्रिक व्यवस्था में संतुलन बिगाड़ देगा और सत्तारूढ़ गठबंधन के हाथ में शक्तियां सौंप देगा। उनका यह भी कहना है कि ये कानून भ्रष्टाचार के मुकदमे का सामना कर रहे नेतन्याहू के लिए हितों का टकराव भी है।
इस योजना के खिलाफ पिछले तीन महीने से हजारों लोग सड़कों पर उतरकर प्रदर्शन कर रहे हैं जो देश के 75 साल के इतिहास में सबसे बड़ा प्रदर्शन है। नेतन्याहू के कार्यालय ने एक संक्षिप्त बयान में रविवार देर रात कहा कि प्रधानमंत्री ने गैलेन्ट को बर्खास्त कर दिया है। बाद में नेतन्याहू ने ट्वीट किया, ‘‘हम सभी को विरोध के खिलाफ एकजुट होना होगा।’’ बर्खास्त किए जाने की घोषणा के तुरंत बाद गैलेन्ट ने ट्वीट कर कहा, ‘‘इजराइल की सुरक्षा हमेशा मेरी जिंदगी की सर्वोच्च प्राथमिकता रही है और हमेशा रहेगी।’’विपक्ष के नेता याईर लापिद ने कहा कि गैलेन्ट की बर्खास्तगी ‘‘राष्ट्रीय सुरक्षा को नुकसान पहुंचाती है और सभी रक्षा अधिकारियों की चेतावनी को नजरअंदाज करती है।’’ इस बीच, न्यूयॉर्क में इजराइल के महावाणिज्य दूत असफ जमीर ने इसके विरोध में इस्तीफा दे दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

12 − six =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।