Search
Close this search box.

Nupur Sharma मामले में उठाए सवाल… PAK का पर्दाफाश! हिंदू मंदिर फिर हुआ सांप्रदायिकता का शिकार

पैगंबर मोहम्मद टिप्पणी विवाद में भारत को घेरने की कोशिश कर रहे पाकिस्तान में एक बार फिर अल्पसंख्यकों की आस्था को ठेस पहुंचाई गई है।

पैगंबर मोहम्मद टिप्पणी विवाद (Comment On Prophet Case) में भारत (India) को घेरने की कोशिश कर रहे पाकिस्तान (Pakistan) में एक बार फिर अल्पसंख्यकों की आस्था को ठेस पहुंचाई गई है, पूजा स्थलों के खिलाफ तोड़फोड़ की ताजा घटना में पाकिस्तान के कराची (Karachi) शहर में एक हिंदू मंदिर (Hindu Temple) में बुधवार को तोड़फोड़ की गई। पुलिस के मुताबिक कराची के कोरंगी इलाके में श्री मारी माता मंदिर के अंदर रखी मूर्तियों को नष्ट कर दिया गया है, इस घटना से कराची में विशेष रूप से कोरंगी इलाके में रहने वाले हिंदू समुदाय में दहशत और भय पैदा हो गया है।  
मंदिर में हमला कर तोड़ी भगवानों की प्रतिमाएं 
बता दें कि फिलहाल इस इलाके में किसी भी अप्रिय घटना से बचने के लिए भारी पुलिस बल को तैनात किया गया है। एक चश्मदीद ने कहा कि 6 से 8 बाइक सवार लोगों ने इलाके में प्रवेश किया और मंदिर पर हमला किया। वहीं, इस मामले में अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है। बता दें कि पाकिस्तान में अल्पसंख्यक हिंदू आबादी के मंदिर अक्सर सांप्रदायिक हिंसा का शिकार बनते रहे हैं। अक्टूबर में, कोटरी में सिंधु नदी के तट पर स्थित एक ऐतिहासिक मंदिर को अज्ञात लोगों द्वारा कथित तौर पर अपवित्र कर दिया गया था।
1654759623 6
पाकिस्तान में सांप्रदायिकता का शिकार होते रहे हैं मंदिर 
स्थानीय निवासियों ने कहा कि एक अज्ञात व्यक्ति ने सिंधु नदी के तट पर स्थित मंदिर परिसर में प्रवेश किया और आधी रात के बाद देवताओं की मूर्तियों में तोड़फोड़ की। अगस्त में भोंग शहर में कथित तौर पर दर्जनों लोगों ने एक हिंदू मंदिर में तोड़फोड़ की, जब एक स्थानीय मदरसा में कथित तौर पर पेशाब करने वाले 8 वर्षीय हिंदू लड़के को एक स्थानीय अदालत ने जमानत दे दी थी।
पाकिस्तान में रह रहे हैं 90 लाख से अधिक हिंदू
अखबार के अनुसार, अदालत के फैसले के बाद भीड़ ने शहर के श्री गणेश हिंदू मंदिर में तोड़फोड़ की। आधिकारिक अनुमान के मुताबिक, पाकिस्तान में 75 लाख हिंदू रहते हैं। हालांकि, समुदाय के मुताबिक देश में 90 लाख से अधिक हिंदू रह रहे हैं।पाकिस्तान की अधिकांश हिंदू आबादी सिंध प्रांत में बसी है जहां वे मुस्लिम निवासियों के साथ संस्कृति, परंपरा और भाषा साझा करते हैं। वे अक्सर चरमपंथियों द्वारा उत्पीड़न की शिकायत करते रहे हैं।

नूपुर के बाद यति नरसिंहानंद और ओवैसी के खिलाफ दर्ज हुई FIR, जारी है AIMIM के कार्यकर्ताओं का प्रदर्शन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

1 × five =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।