Search
Close this search box.

पुतिन का दावा- काला सागर की वारदात में अमेरिकी विमान भी सम्मलित था, ब्रिटेन ने घटना को नकारा

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने दावा करते हुए कहा कि पिछले कुछ पहले काला सागर की वारदात के वक्त ब्रिटेन के विध्वंसक पोत के साथ अमेरिका का निगरानी विमान भी काम कर रहा था।

दुनिया के ताकतवर नेताओं में शुमार रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने बुधवार को एक बड़ा खुलासा किया। पुतिन ने दावा करते हुए कहा कि पिछले कुछ पहले काला सागर की वारदात के वक्त ब्रिटेन के विध्वंसक पोत के साथ अमेरिका का निगरानी विमान भी काम कर रहा था। 
मॉस्को ने कहा कि इसके एक पोत ने चेतावनी गोलीबारी की और पिछले बुधवार को ब्रिटेन के विध्वंसक पोत डिफेंडर के रास्ते में युद्धक विमानों ने बम गिराए ताकि क्रीमिया प्रायद्वीप के नजदीक से वह पोत बाहर निकल जाए। ब्रिटेन ने इन घटनाओं से इंकार किया और कहा कि उसके पोत पर गोलीबारी नहीं हुई और वह यूक्रेन की जल सीमा में था।
पुतिन ने बुधवार को लंबे लाइव कॉल-इन शो में कहा कि अमेरिकी विमान का मिशन संभवत: ब्रिटिश विध्वंसक पोत को रूसी सेना की तरफ से मिलने वाली प्रतिक्रिया पर नजर रखना था। उन्होंने कहा कि मॉस्को को अमेरिका की मंशा का पता है और संवेदनशील आंकड़ों का खुलासा करने से बचने के लिए उसी तरह से जवाब दिया गया।
ब्रिटेन ने पिछले बुधवार की घटना के बारे में कहा कि उसका पोत डिफेंडर अंतरराष्ट्रीय मान्यता प्राप्त यात्रा मार्ग से नियमित परिचालन पर था और क्रीमिया के नजदीक यूक्रेन की जल सीमा में था। दुनिया के अधिकतर देशों की तरह ब्रिटेन भी क्रीमिया को यूक्रेन का हिस्सा मानता है जबकि रूस ने इस प्रायद्वीप को अलग कर दिया था।
रूस ने डिफेंडर के कदम की निंदा करते हुए इसे भड़काने वाला बताया और चेतावनी दी कि अगली बार अगर उन्होंने रूस की सेना के संकल्प की परीक्षा लेने का प्रयास किया तो घुसपैठ करने वाले पोतों को निशाना बनाया जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fifteen + 4 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।