यूक्रेन संकट : रूस के साथ चीन के निर्णयों पर कड़ी नजर रखेगा US, व्हाइट हाउस प्रवक्ता ने दी जानकारी

व्हाइट हाउस ने कहा है कि रूस के संबंध में चीन जो भी फैसला करेगा, उस पर दुनिया की नजर होगी।

रूस और यूक्रेन के बीच जारी जंग का आज 21वां दिन है और अभी भी स्थिति काफी गंभीर बनी हुई है। इस युद्ध को लेकर ब्रिटेन की खुफिया एजेंसी ने दावा किया है कि, रूस की सेना के पास बस 14 दिन का ही गोलाबारूद बचा हुआ है वह ज्यादा समय तक नहीं लड़ पाएंगे। इस बीच व्हाइट हाउस ने कहा है कि रूस के संबंध में चीन जो भी फैसला करेगा, उस पर दुनिया की नजर होगी। अमेरिका का यह बयान उन खबरों के बीच आया है, जिसमें दावा किया गया है कि चीन, यूक्रेन के खिलाफ युद्ध में रूस को सैन्य या आर्थिक मदद करने की कोशिश कर रहा है।
प्रतिबंधों का उल्लंघन करते हैं तो इसके परिणाम भुगतने होंगे :  जेन साकी
व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव जेन साकी ने एक सवाल के जवाब में कहा, हम करीबी नजर बनाए हुए हैं। दुनिया की भी इस पर करीबी नजर है। हमारे राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार इसको लेकर स्पष्ट हैं। अगर वे हमारे प्रतिबंधों का उल्लंघन करते हैं तो इसके परिणाम भुगतने होंगे। साकी ने अपने दैनिक संवाददाता सम्मेलन में कहा, चीन जो निर्णय लेता है उस पर दुनिया की नजर होगी लेकिन किसी भी संभावित प्रभाव या परिणाम के संदर्भ में हम इसे व्यक्तिगत राजनयिक माध्यमों पर छोड़ देंगे। उन्होंने कहा, हमारे राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार ने अपने चीनी समकक्ष के साथ लंबी बातचीत के दौरान हमारी ‘एक-चीन नीति’ को दोहराया, साथ ही ताइवान जलडमरूमध्य में चीन की बलपूर्वक एवं उकसावे वाली कार्रवाइयों को लेकर हमारी चिंताओं को भी रेखांकित किया।  
हम पहले भी कई प्रतिबंध लगा चुकें हैं : प्रेस सचिव  
प्रेस सचिव ने एक सवाल के जवाब में कहा, कई प्रतिबंध हम पहले ही लगा चुके हैं और निश्चित रूप से हम देखते हैं कि, क्या प्रतिबंधों का उल्लंघन तो नहीं हो रहा है। हम यह भी देखते हैं कि क्या किसी अन्य देश ने सैन्य आक्रमण के लिए सहयोग प्रदान किया है। आज मेरे पास आपके समक्ष प्रस्तुत करने के लिए ऐसा कोई आकलन नहीं है। यह पूछे जाने पर कि यदि चीन युद्ध में रूस को सैन्य या आर्थिक मदद करता हुआ पाया जाता है, तो इसके जवाब में क्या कार्रवाई की जाएगी। इस पर साकी ने कहा कि अमेरिका सीधे चीन और चीनी नेतृत्व के साथ इस संबंध में बातचीत करेगा, मीडिया के माध्यम से नहीं।
चीन के फैसले पर दुनिया की नजर है
उन्होंने कहा, मैं ध्यान दिलाना चाहूंगी कि हमारे राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार कल अपनी बैठक में परिणामों को लेकर बेहद स्पष्ट थे। उन्होंने स्पष्ट किया कि अमेरिका करीबी नजर बनाए है और यह भी कहा कि सिर्फ अमेरिका ही ऐसा नहीं कर रहा है। चीन जो भी फैसला करेगा, उस पर दुनिया की नजर है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

18 + eighteen =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।