अपराध और अपराधियों के सामने घुटने टेक चुके हैं नीतीश कुमार: संजय जायसवाल - Latest News In Hindi, Breaking News In Hindi, ताजा ख़बरें, Daily News In Hindi

लोकसभा चुनाव 2024

पहला चरण - 19 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

102 सीट

दूसरा चरण - 26 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

88 सीट

तीसरा चरण - 7 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

94 सीट

चौथा चरण - 13 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

96 सीट

पांचवां चरण - 20 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

49 सीट

छठा चरण - 25 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

58 सीट

सातवां चरण - 1 जून

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

छठा चरण - 25 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

58 सीट

अपराध और अपराधियों के सामने घुटने टेक चुके हैं नीतीश कुमार: संजय जायसवाल

भाजपा प्रदेश कार्यालय में आज आयोजित प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए भाजपा प्रदेशअध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल ने सूबे की गिरती कानून व्यवस्था को लेकर सरकार पर कराराहमला किया।

पटना,(पंजाब केसरी): भाजपा प्रदेश कार्यालय में आज आयोजित प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए भाजपा प्रदेशअध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल ने सूबे की गिरती कानून व्यवस्था को लेकर सरकार पर कराराहमला किया। उन्होंने कहा कि बिहार सरकार कई घोटालों में लिप्त रहती है, लेकिन पहलीबार बिहार में वकील घोटाला हो रहा है। हमने कई बार नीतीश जी को आयोग बनाने के लिएकहा पर उन्होंने 15 रिव्यू पेटीशन दायर किए। इसके लिए उन्होंने 35 लाख रु प्रति सुनवाईलेने वाले वकीलों को दिल्ली से बुलवाया। सवाल खड़े करते हुए उन्होंने पूछा कि जबसरकार को अपना पेटीशन वापस ही लेना था और कोई बहस ही नहीं करनी थी तो इतनी बड़ी रकमवकीलों को क्यों दिए गये? उन्होंने पूछा कि क्या बिहार के एजी भी ‘रबर स्टैंप सीएम’की तरह ‘रबर स्टैम्प एजी’ हो गए हैं जिनका काम बहस की बजाए दिल्ली से वकीलों कोलाना भर रह गया है? उन्होंनेकहा कि राज्य की पुलिस का हाल यह है कि एक फ्रॉड अपने आप को चीफ जस्टिस बताते हुए,डीजीपी से गलत काम करवा लेता है और उन्हें पता तक नहीं चलता। यहां के डीजीपी कोशायद यह भी नहीं पता है कि किसी राज्य का चीफ जस्टिस जो दूसरे राज्य का होता है, अपनीनियुक्ति वाले राज्य में कभी भी कोई पैरवी नहीं करता है। अगर सूबे के डीजीपी का यहहाल है तो बाकि पुलिस फ़ोर्स का क्या हाल होगा यह स्वत: अंदाजा लगाया जा सकता है। इससेपता चलता है कि बिहार की जनता आज पूरी तरह भगवान भरोसे हैं।
डॉजायसवाल ने कहा कि डीजीपी प्रकरण में फ़िलहाल एक अनियमितता का खुलासा हुआ है। लेकिनइससे पता चलता है कि दबाव के जरिए उनसे कुछ भी कराया जा सकता है। उन्होंने इस तरहके और क्या-क्या कारनामे किये हैं, यह जांच से ही पता चल सकता है। हमारी मांग हैकि सरकार निष्पक्ष तरीके से उनकी जांच कराए।
हाईकोर्ट द्वारा राज्य में शराबबंदी कानून को फेल बताए जाने का जिक्र करते हुए डॉजायसवाल ने कहा कि राजद सरकार को ‘जंगलराज’ बताने के बाद यह पहली बार है जब हाईकोर्टने कानून व्यवस्था को लेकर सरकार पर ऐसी तीखी टिप्पणी की हो। हमने सरकार में रहतेहुए पहले भी कई बार शराब माफियाओं और नशे के सौदागरों के बढ़ते वर्चस्व को लेकर सरकारको आगाह किया था, लेकिन नीतीश कुमार की शह पर उनके बयानवीर नेता उल्टे हमें ही सीखदेने लगते थे। यह नीतीश जी के उसी अहंकार का परिणाम है कि आज हाईकोर्ट खुद उन्हेंशराबबंदी कानून के पालन में बुरी तरह फ़ेल बता रहा है। किसी सरकार के लिए इससेशर्मनाक कुछ और नहीं हो सकता।
उन्होंनेकहा कि यह बिहार की बदहाल कानून व्यवस्था और बढ़ते नशे के जाल का ही परिणाम है किऐसा कोई दिन नहीं बीत रहा जब दिनदहाड़े हत्या, लूट या रंगदारी मांगने का मामलासामने न आ रहा हो। कल पटना के पॉश इलाके बोरिंग रोड में जिस तरह से फ़िल्मी स्टाइलमें गोलियों की बौछार करते हुए हरनौत के पूर्व मुखिया की हत्या हुई है, वह दिखाताहै कि आज बिहार में अपराधियों का मनोबल कितना बढ़ा हुआ है। इसके अलावा घटना केतकरीबन पौन घंटे तक पुलिस का वारदात की जगह पर न पहुंचना पुलिस प्रशासन की सुस्तीऔर ठगबंधन राज में उनके घटे मनोबल को दर्शाता है।
उन्होंनेकहा कि हकीकत में आज सरकार के निकम्मेपन से राज्य में अपराधियों को खुली छूट मिलगयी है। गली-गली अवैध शराब का कारोबार चलाते हुए शराब माफिया हजारों करोड़ कीसमानांतर अर्थव्यवस्था चला रहे हैं। गांजा, चरस, स्मैक, ब्राउनशुगरआदि नशे के जाल में युवाओं की एक बड़ी जमात फंस चुकी है। लूट लिए जाने के डर से आम लोगअब फिर से रात में निकलने से परहेज करने लगे हैं। वास्तव में बिहार में अबधीरे-धीरे पुन: राजद के जंगलराज की वापसी हो रही है, जिसमें अब अपराधियों, शराबमाफियाओं के साथ-साथ पीएफआई जैसे देशद्रोही संगठन भी सरकार पर हावी होने लगे हैं। लेकिनसूबे के मुखिया को पीएम बनने के दिवास्वप्न से फुर्सत ही नहीं मिल रही है। सवालपूछते हुए भाजपा प्रदेशाध्यक्ष ने कहा कि नीतीश कुमार को बताना चाहिए कि आखिर सूबेमें कानून व्यवस्था को मजबूत करने से उन्हें कौन रोक रहा है? वह बताएं कि आखिरकिसके डर से उन्होंने बिहार में माफियाओं को खुली छूट दे दी है? नीतीश जी को बतानाचाहिए कि सख्त कदम नही उठाने के लिए उन पर कौन दबाव बना रहा है? इसमौके पर भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष राजीव रंजन, प्रवक्ता विवेकानंदपासवान व मीडिया प्रभारी राकेश सिंह तथा अशोक भट्ट मौजूद रहें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

15 − 4 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।