Paytm की बढ़ी मुसीबत, चीन के FDI की जांच कर रही सरकार

FDI Investigation

FDI Investigation: सरकार का इंटर-मिनिस्ट्रियल कमिटी PPSL में चीन से हुए निवेश की जांच कर रही है। वन 97 कम्युनिकेशंस में चीन के एंट ग्रुप (Ant Group) का इनवेस्टमेंट है। PPSL ने नवंबर 2020 में भुगतान एग्रीगेटर के रूप में काम करने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के पास लाइसेंस के लिए आवेदन किया था।

Highlights

  • Paytm पर बढ़ रही हैं मुसीबतें
  • चीन से संबंधो पर FDI की जांच

Paytm का संकट अभी टला नहीं

One97 Communications Limited की सहायक कंपनी पेटीएम पेमेंट्स सर्विसेज लिमिटेड (PPSL) की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। अब भारत सरकार ने कंपनी के चीन से रिश्तों पर जांच शुरू कर दी है। जी हां, सरकार अब कंपनी में चीन के प्रत्यक्ष विदेशी निवेश की जांच करने में जुट गई है। PPSL ने नवंबर 2020 में भुगतान एग्रीगेटर के रूप में काम करने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के पास लाइसेंस के लिए आवेदन किया था।

RBI ने आवेदन किया था खारिज

RBI ने हालांकि नवंबर 2022 में PPSL के आवेदन को खारिज कर दिया और कंपनी को इसे फिर से जमा करने के लिए कहा, ताकि FDI नियमों के तहत प्रेस नोट तीन का अनुपालन किया जा सके। वन97 कम्युनिकेशंस लिमिटेड (OCA) में चीनी फर्म एंट ग्रुप कंपनी का निवेश है। इसके बाद, कंपनी ने FDI गाइडलाइंस के तहत निर्धारित प्रेस नोट तीन का अनुपालन करने के लिए OCA से कंपनी में पिछले निवेश के लिए भारत सरकार के साथ 14 दिसंबर, 2022 को आवश्यक आवेदन दायर किया।

paytm4 2

 

निवेश से पहले मंजूरी लेना किया था अनिवार्य

सूत्रों के अनुसार एक इंटर मिनिस्ट्रियल कमेटी PPSL में चीन से निवेश की जांच कर रही है और उचित विचार तथा व्यापक जांच के बाद FDI मुद्दे पर निर्णय लिया जाएगा। प्रेस नोट तीन के तहत, सरकार ने भारत के साथ भूमि सीमा साझा करने वाले देशों से किसी भी क्षेत्र में विदेशी निवेश से पहले उसकी मंजूरी लेना अनिवार्य कर दिया था। इस कदम का मकसद कोविड-19 महामारी के बाद घरेलू कंपनियों के अवसरवादी अधिग्रहण को रोकना था।

Paytm के प्रवक्ता का बयान

paytm 3

Paytm के प्रवक्ता का कहना है, कि PPSL ने ऑनलाइन व्यापारियों के लिए एक ऑनलाइन भुगतान एग्रीगेटर (पीए) का आवेदन किया था। नियामक ने बाद में PPSL को पिछले निवेश के लिए आवश्यक मंजूरी लेने और आवेदन को फिर से जमा करने को कहा था। उन्होने आगे कहा, भुगतान एग्रीगेटर लाइसेंस के लिए आवेदन करने वाले हर व्यक्ति को FDI मंजूरी लेनी होती है, और यह नियमित प्रक्रिया का हिस्सा है।PPSL ने प्रासंगिक दिशानिर्देशों का पालन किया और निर्धारित समय के भीतर सभी जरूरी दस्तावेज नियामक को सौंप दिए।

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘PUNJAB KESARI’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOK, INSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

twenty + 20 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।