लोकसभा चुनाव 2024

पहला चरण - 19 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

102 सीट

दूसरा चरण - 26 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

89 सीट

तीसरा चरण - 7 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

94 सीट

चौथा चरण - 13 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

96 सीट

पांचवां चरण - 20 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

49 सीट

छठा चरण - 25 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

सातवां चरण - 1 जून

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

दूसरा चरण - 26 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

89 सीट

हर वर्ग, जाति पर तेजस्वी की नजर

राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के नेता और पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद ने 20 फरवरी को मुजफ्फरपुर से अपनी 11 दिवसीय जन विश्वास यात्रा शुरू की और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की आलोचना करते हुए कहा कि उनमें राज्य के लिए पूरी तरह से दूरदर्शिता का अभाव है। दौरे के दौरान तेजस्वी ने इस बात पर जोर दिया कि उनकी पार्टी न केवल ‘एमवाई’ की है, बल्कि ‘बीएएपी’ की भी है।
‘बीएएपी’ के संक्षिप्त नाम की व्याख्या करते हुए, राजद नेता ने कहा कि बी का मतलब है बहुजन (पिछड़े और दलित ), ए का मतलब अगड़ा है (सामान्य या अगड़ी जातियां), दूसरे ए का मतलब आधी आबादी (आधी आबादी या महिलाएं और लड़कियां) और पी का मतलब गरीब है। दौरे में सार्वजनिक बैठकें और रैलियां, जो राजद के लोकसभा चुनाव अभियान की शुरुआत थीं, इंडिया (भारतीय राष्ट्रीय विकासात्मक समावेशी गठबंधन) गठबंधन का कार्यक्रम बन गईं, क्योंकि कांग्रेस और वामपंथी नेताओं ने भी मंच साझा किया और मंच के आसपास उनकी पार्टी के झंडे लहराए रहे थे। अपनी यात्रा के दौरान, यादव बिहार के सभी 38 जिलों को कवर करेंगे और 32 सार्वजनिक बैठकों को भी संबोधित करेंगे, जिसमें उनके पिछली महागठबंधन सरकार की उपलब्धियों को उजागर करने की संभावना है। यात्रा 1 मार्च को समाप्त होगी। इसके बाद 3 मार्च को निर्धारित महारैली के दौरान कांग्रेस नेता राहुल गांधी राजद के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव, सीपीआईएम महासचिव सीताराम येचुरी, सीपीआई नेता डी राजा और सीपीआई (एमएल) दीपांकर भट्टाचार्य के साथ मंच साझा करेंगे।
डीएमके संग तालमेल की कोशिश
एमएनएम के तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एमके स्टालिन के नेतृत्व वाले द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (डीएमके) के साथ हाथ मिलाने और आम चुनाव लड़ने की संभावना है। हालांकि अभिनेता से नेता बने और मक्कल निधि मय्यम (एमएनएम) पार्टी के संस्थापक कमल हासन ने अभी तक अपने पत्ते नहीं खोले हैं। उनका कहना है कि तमिलनाडु में इंडिया ब्लॉक के साथ बातचीत आगे बढ़ रही है, लेकिन विपक्षी गठबंधन में शामिल होने पर अब तक कोई निर्णायक निर्णय नहीं हुआ है। वैसे अभिनेता, जो अब तक किसी भी पार्टी से दूर रहे हैं, हाल ही में तमिलनाडु के सत्तारूढ़ द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (डीएमके) के साथ तालमेल बिठाते नजर आ रहे हैं, जो इंडिया गठबंधन का एक हिस्सा है। 2023 में इरोड ईस्ट उपचुनाव के दौरान, एमएनएम ने डीएमके-कांग्रेस उम्मीदवार ईवी केएस एलावोगन का समर्थन किया था, जिन्होंने जीत हासिल की थी।
कर्नाटक में दिग्गजों को उतारेगी कांग्रेस
कर्नाटक में ज्यादा से ज्यादा लोकसभा सीटें जीतने के प्रयास के तहत कांग्रेस थिंक टैंक आगामी संसदीय चुनावों के लिए पार्टी के कुछ दिग्गजों और कैबिनेट मंत्रियों को उम्मीदवार के रूप में मैदान में उतारने की योजना पर काम कर रही है। सूत्रों के मुताबिक पार्टी तुमकुरु संसदीय सीट के लिए सहकारिता मंत्री केएन राजन्ना या गृहमंत्री जी परमेश्वर की उम्मीदवारी पर विचार कर रही है। वहीं, मुख्यमंत्री सिद्धारमैया के बेटे यतींद्र के साथ, समाज कल्याण मंत्री एच.सी. महादेवप्पा को मैसूर-कोडगु संसदीय क्षेत्र से उम्मीदवार बनाने पर विचार किया जा रहा है। इनके अलावा पीडब्ल्यूडी मंत्री सतीश जारकीहोली को बेलगावी निर्वाचन क्षेत्र से उम्मीदवार बनाने पर विचार किया जा रहा है। एआईसीसी और कर्नाटक प्रदेश कांग्रेस कमेटी (केपी सीसी) अलग-अलग सर्वेक्षण करेंगे और उम्मीदवारों को अंतिम रूप देंगे। कर्नाटक में 28 लोकसभा सीटें हैं। 2019 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने 25 सीटें जीती थीं जबकि कांग्रेस सिर्फ एक सीट जीतने में कामयाब रही थी। जद (एस) ने एक सीट जीती थी, वहीं एक सीट एक स्वतंत्र उम्मीदवार के खाते में गई थी।
राहुल का जाति जनगणना, बेरोजगारी पर जोर
कांग्रेस नेता राहुल गांधी, जिनकी यात्रा का यूपी चरण 16 फरवरी को शुरू हुआ था, चुनावों में भाजपा के समर्थन आधार में सेंध लगाने के लिए अपने भाषणों में ओबीसी, एससी, एसटी और जाति जनगणना पर जोर दे रहे हैं। गांधी परिवार का गढ़ माने जाने वाले रायबरेली में उन्होंने लगातार सार्वजनिक सभाओं को संबोधित किया। इसी तरह, सुपर मार्केट चौराहे पर विजय मौर्य नामक व्यक्ति को उन्हाेंने मंच पर बुलाया और उनका परिचय एक बेरोजगार युवक के रूप में कराया। राहुल ने विजय से भीड़ को अपनी कहानी बताने के लिए कहा, लेकिन युवक रोने लगा और घबराहट महसूस करने की बात कही। राहुल ने उन्हें “बब्बर शेर” कहते हुए कहा, किसी से मत डरो और लोगों को बताओ कि तुम्हें नौकरी क्यों नहीं मिल पा रही है। विजय ने जवाब दिया, मैं सक्षम हूं लेकिन यह सरकार अयोग्य लोगों को रोजगार दे रही है, क्योंकि यह केवल उनके लिए काम करती है जो उनके लोग हैं, न कि उनके लिए जो प्रतिभाशाली और योग्य हैं। राहुल ने कहा कि यह समस्या तभी हल होगी, जब देश भर में जातीय जनगणना होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2 × four =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।