लोकसभा चुनाव 2024

पहला चरण - 19 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

102 सीट

दूसरा चरण - 26 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

89 सीट

तीसरा चरण - 7 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

94 सीट

चौथा चरण - 13 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

96 सीट

पांचवां चरण - 20 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

49 सीट

छठा चरण - 25 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

सातवां चरण - 1 जून

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

लोकसभा चुनाव पहला चरण - 19 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

102 सीट

थायराइड को कंट्रोल करने के लिए रोज करें योग, नहीं पड़ेगी दवा की जरूरत

Thyroid Control

Thyroid Control: थायराइड के मरीज को रोजाना सुबह एक गोली खानी पड़ती है। अगर आप थायरॉइड की दवा नहीं खाना चाहते तो इसे डाइट से भी कंट्रोल कर सकते हैं। आज हम आपको ऐसे पांच योगासन के बारे में बताएंगे जो थायराइड को कंट्रोल में रखने में मदद कर सकते हैं। ये आसन न सिर्फ आपके थायराइड को नियंत्रित करेंगे बल्कि आपकी पूरे हेल्थ को भी बेहतर बनाएंगे।

Highlights

  • थायराइड मरीजों के लिए फायदेमंद है योग
  • रोज करें योग तो नहीं पड़ेगी दवा की जरूरत

थायराइड के मरीज करें योग

थायराइड एक ऐसी समस्या है, जिससे आज कई लोग जूझ रहे हैं। इससे शरीर में हार्मोनल असंतुलन होता है, जो कई तरह की दिक्कतें ला सकता है। लेकिन, क्या आप जानते हैं कि रोजाना योगाभ्यास से इसे प्राकृतिक रूप से नियंत्रित किया जा सकता है? हां, योग की कुछ खास मुद्राएं थायराइड ग्रंथि को संतुलित कर सकती हैं, जिससे आपको दवाओं पर निर्भर रहने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

tips2

सर्वांगासन (Shoulder Stand)

सर्वांगासन, जिसे शोल्डर स्टैंड के नाम से भी जाना जाता है, थायराइड ग्रंथि के लिए बहुत फायदेमंद होता है। यह आसन गर्दन के क्षेत्र में रक्त प्रवाह बढ़ाता है, जिससे थायराइड ग्रंथि सक्रिय होती है और हार्मोनल संतुलन में सुधार होता है। इससे शरीर के मेटाबोलिज्म में भी मदद मिलती है।

tips3

हलासन (Plow Pose)

हलासन को प्लो पोज़ के नाम से भी जाना जाता है।  यह गर्दन के पीछे के हिस्से को अच्छी तरह से स्ट्रेच करता है। यह आसन थायराइड ग्रंथि को सक्रिय करता है, जिससे इसकी क्रियाशीलता बेहतर होती है। हलासन का नियमित अभ्यास न केवल थायराइड स्वास्थ्य में सुधार करता है, बल्कि गर्दन और पीठ को भी लाभ पहुंचाता है।

tips4

मत्स्यासन (Fish Pose)

मत्स्यासन या फिश पोज़, थायराइड ग्रंथि के आस-पास के क्षेत्र में रक्त प्रवाह को बढ़ाकर हार्मोनल संतुलन में मदद करता है। इस आसन का अभ्यास थायराइड के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के साथ-साथ गर्दन और कंधों में तनाव कम करने में भी सहायक होता है, जिससे शरीर का हार्मोनल संतुलन सुधरता है।

tips5

उज्जायी प्राणायाम (Ujjayi Breathing)

उज्जायी प्राणायाम को “विजयी श्वास” भी कहा जाता है। यह  थायराइड ग्रंथि के स्वास्थ्य के लिए लाभकारी होता है। यह गहरी श्वास लेने की तकनीक गले को संकुचित करती है, जिससे थायराइड पर सीधा प्रभाव पड़ता है, इसे नियंत्रित करने और हार्मोनल संतुलन में सहायता मिलती है।

tips6

सेतु बंधासन (Bridge Pose)

सेतु बंधासन, जिसे ब्रिज पोज़ के नाम से भी जाना जाता है, गर्दन और जबड़े के क्षेत्र में तनाव को कम करता है, जिससे थायराइड ग्रंथि के स्वास्थ्य में सुधार होता है।

tips7

यह आसन न केवल थायराइड को लाभ पहुंचाता है बल्कि पीठ, हिप्स और जांघों को मजबूती भी प्रदान करता है, साथ ही तनाव और चिंता को कम करने में मदद करता है।

Disclaimer: इस आर्टिकल में बताई गई विधि, तरीक़ों और सुझाव पर अमल करने से पहले डॉक्टर या संबंधित एक्सपर्ट की सलाह जरूर लें. Punjabkesari.com इसकी पुष्टि नहीं करता है।

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘PUNJAB KESARI’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOK, INSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

4 × four =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।