कतर में फांसी की सजा पाए 7 नौसैनिक भारत लौटे, कांग्रेस ने जताई खुशी

कतर

कांग्रेस ने सोमवार को कहा की वह कतर से नौसेना के आठ पूर्व अधिकारियों की रिहाई पर देशवासियों के साथ खुशी में खुद को शामिल करती है।

  • कतर में फांसी की सजा पाए 7 नौसैनिक आज भारत लौटे हैं
  • नौसेनिकों के लौटने पर कांग्रेस ने खुशी जताई है
  • कांग्रेस भी खुद को इस खुशी में शामिल करती है- जयराम रमेश

विदेश मंत्रालय ने कहा है कि कतर से रिहा होने वाले आठ पूर्व नौसैनिकों में से सात स्वदेश लौट आए हैं और देश अपने नागरिकों की रिहाई तथा उनकी घर वापसी को संभव बनाने के लिए कतर के अमीर के फैसले की सराहना करता है। नौसेना के पूर्व कर्मियों को 26 अक्टूबर को कतर की एक अदालत ने जासूसी के एक संदिग्ध मामले में मौत की सजा सुनाई थी।

कांग्रेस ख़ुशी में शामिल

jairam ramesh2

कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने सोशल मीडिया एक्स पर पोस्ट किया, सभी देशवासियों के साथ भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस भी खुद को इस खुशी में शामिल करती है कि कतर में अदालत से फांसी की सजा पाने वाले भारतीय नौसेना के आठ पूर्व अधिकारी रिहा होकर घर वापस आ गए हैं। उन्होंने कहा, हम उन्हें और उनके परिवारजनों को बधाई और शुभकामनाएं देते हैं। खाड़ी देश की अपीलीय अदालत ने 28 दिसंबर को मृत्युदंड को कम कर दिया था और पूर्व नौसैन्य कर्मियों को अलग-अलग अवधि के लिए जेल की सजा सुनाई थी। निजी कंपनी अल दहरा के साथ काम करने वाले भारतीय नागरिकों को जासूसी के एक कथित मामले में अगस्त 2022 में गिरफ्तार किया गया था।

विदेश मंत्रालय ने किया फैसले का स्वागत

Indian sailors2 1

विदेश मंत्रालय (MEA) ने कहा कि भारत इस फैसले का स्वागत करता है। विदेश मंत्रालय ने कहा, भारत सरकार कतर में हिरासत में लिए गए दहरा ग्लोबल कंपनी के लिए काम करने वाले आठ भारतीय नागरिकों की रिहाई का स्वागत करती है। विदेश मंत्रालय ने कहा, रिहा किए गए आठ भारतीयों में से सात भारत लौट आए हैं। हम इन नागरिकों की रिहाई और घर वापसी के लिए कतर के अमीर के फैसले की सराहना करते हैं। आठ भारतीय नागरिक अक्टूबर 2022 से कतर में कैद हैं और उन पर पनडुब्बी कार्यक्रम पर कथित रूप से जासूसी करने का आरोप लगाया गया था। सेवानिवृत्त नौसैनिकों को कतर की एक अदालत ने उन आरोपों में मौत की सजा सुनाई थी जिन्हें अभी तक आधिकारिक तौर पर सार्वजनिक नहीं किया गया है।

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘PUNJAB KESARI’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOK, INSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

one × four =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।