India-Maldives Controversy: राष्ट्रपति मोहम्मद मुइज़्ज़ू की कुर्सी पर खतरा, उठी सरकार गिराने की मांग

India-Maldives Controversy

India-Maldives Controversy: भारत से पंगा लेना मालदीव की सरकार भारी पड़ गया है, मालदीव में इस मुद्दे को लेकर राजनीति गरमा गयी है। इस मामले में विवाद थमने का नाम ही नहीं ले रहा है दरअसल ऐसी अटकलें लगाई जा रही हैं कि, जल्द ही मालदीव की सरकार गिर सकती है और मालदीव के राष्ट्रपति मोहम्मद मुइज़्ज़ू अपनी कुर्सी खो सकते हैं। इसके पीछे का कारण राष्ट्रपति को लगातार पद से हटाने की मांग है। मालदीव के नेताओं की PM मोदी के खिलाफ अभद्र टिप्पणी से मालदीव के पर्यटन क्षेत्र पर गंभीर प्रभाव पड़ा है जिस वजह से विपक्ष को एक बड़ा मुद्दा मिल गया है और इसी मुद्दे को लेकर विपक्ष ने संसद में अविश्वास प्रस्ताव लाने की तैयारी कर ली है। इसमें मालदीव के राष्ट्रपति के ऊपर विपक्ष ने गंभीर आरोप लगाते हुए उन्हें पद से उठाने की बड़ी मांग की है। विपक्ष के नेता अली अजीम ने राष्ट्रपति पर आरोप लगाते हुए कहा कि, राष्ट्रपति मोहम्मद मुइज़्ज़ू की सरकार के नेताओं ने भारत के प्रधानमंत्री के खिलाफ गलत व अपमानजनक टिपण्णी की है साथ ही उन्होंने आरोप लगाया कि, जब मालदीव विवाद हुआ तो उन्होंने अपने देश का सम्मान नहीं बचाया और न ही उन्होंने विवाद का सही तरीके से समाधान किया। वे अपनी जिम्मेदारी को ठीक से निभाने में सफल नहीं हुए हैं इसलिए उन्हें राष्ट्रपति के पद से हटाया जाना चाहिए।

  • मालदीव की सरकार गिर सकती है और राष्ट्रपति मोहम्मद मुइज़्ज़ू कुर्सी खो सकते हैं
  • राष्ट्रपति मोहम्मद मुइज़्ज़ू को लगातार पद से हटाने की मांग की जा रही है
  • विपक्ष ने संसद में अविश्वास प्रस्ताव लाने की तैयारी कर ली है
  • प्रस्ताव में विपक्ष ने राष्ट्रपति पर आरोप लगाते हुए उन्हें पद से उठाने की मांग की है
  • विपक्ष ने कहा कि, बहुत जल्द हम संसद में अविश्वास प्रस्ताव पेश करेंगे

बहुत जल्द संसद में अविश्वास प्रस्ताव पेश करेगा विपक्ष

विपक्ष के नेता अली अजीम ने घोषणा करते हुए कहा कि, बहुत जल्द हम संसद में अविश्वास प्रस्ताव पेश करेंगे। और सभी सांसद इस अविश्वास प्रस्ताव का समर्थन भी करेंगे। कुछ सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार यदि विपक्ष द्वारा पेश किया गया अविश्वास प्रस्ताव पास हुआ तो सरकार गिर जाएगी राष्ट्रपति मोहम्मद मुइज़्ज़ू अपनी कुर्सी से हाथ धो बैठेंगे। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार यदि सरकार गिरती है तो इससे मालदीव की अर्थव्यवस्था गड़बड़ा जाएगी।

इसके अलावा भारतीयों ने भी मालदीव से कन्नी काटनी शुरू कर दी है जिससे वहां के टूरिज्म पर गलत प्रभाव पड़ेगा, इसकी वजह यह है कि, मालदीव में सबसे ज्यादा भारतीय टूरिज्म करने के लिए जाते हैं और कई दिनों तक अपनी छुट्टियां वहीं एन्जॉय करते हैं। लेकिन जब से PM मोदी पर विवादित बयान मालदीव सरकार के मंत्रियो ने दिया है तभी से लोग PM मोदी के पक्ष में खड़े हुए दिख रहे हैं, लोगों ने सोशल मीडिया पर मालदीव जाने का बहिष्कार किया है और कर रहे हैं। जिसकी वजह से दुनियाभर के लोगों में इसको लेकर गलत प्रभाव पड़ेगा और लोग मालदीव जाने से दुरी बनाने लग सकते हैं। इस विवाद से बिजनेस डील्स भी कैंसिल हो सकती हैं। वहीं एक तरफ मुद्दे को सुलझाने के बजाय राष्ट्रपति मुइज्जू मोहम्मद 5 दिवसीय चीन दौरे पर चले गए हैं जिसको लेकर भी वहां के लोगों में उनके खिलाफ गुस्सा बढ़ सकता है।

इसलिए हुआ विवाद

दरअसल, मालदीव की मंत्री मरियम शिउना ने सोशल मीडिया पर भारत के PM मोदी के खिलाफ गलत व अपमानजनक टिप्पणी की, जिसको लेकर विवाद बढ़ता ही जा रहा है। PM मोदी ने अपने 4 जनवरी को अपने लक्षद्वीप दौरे की कुछ तस्वीरें सोशल मीडिया पर साझा की थी, PM के तस्वीरें साझा करने के बाद बहुत से लोगों ने तस्वीरों पर अपनी राय व्यक्त की थी। कुछ लोगों ने कमैंट्स में मालदीव और लक्षद्वीप की तुलना कर डाली और कहा कि, भारतीयों को मालदीव न जाकर लक्षद्वीप जाना चाहिए इससे देश का टूरिज्म भी बढ़ेगा। साथ ही PM ने भी भारत के लोगों से लक्षद्वीप घूमने के लिए कहा था।

जिसके बाद तस्वीरें और पोस्ट को देखकर मालदीव की मंत्री मरियम शिउना ने PM मोदी के खिलाफ विवादित टिप्पणी कर डाली थी उन्होंने PM मोदी पर निशाना साधते हुए भारतीय लक्षद्वीप की भी खिल्ली उड़ाई थी। इसके बाद मालदीव के नेता मालशा शरीफ़ और महज़ूम माजिद ने भी नेता का साथ दिया और मज़ाक बनाया, जिसके बाद एक नए विवाद जन्म लिया और भारत के इसके खिलाफ नाराजगी जाहिर की और कुछ कड़े कदम उठाए। विवाद यहीं नहीं थमा और सरकार ने तीनों मंत्रियों को निलंबित कर घटना की निंदा की, जिसके बाद भी लगातार विवाद जारी है और रोज कोई न कोई न मुद्दा इस पर गरमाया हुआ है।

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘PUNJAB KESARI’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOK, INSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

three × two =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।