Lok Sabha: कतर में 8 पूर्व भारतीय नौसेना कर्मियों को मौत की सजा पर चर्चा के लिए लोकसभा को मनीष तिवारी का स्थगन नोटिस

कांग्रेस सांसद मनीष तिवारी ने सोमवार को कतर की एक अदालत द्वारा आठ पूर्व भारतीय नौसेना कर्मियों को दी गई मौत की सजा पर चर्चा के लिए Lok Sabha में Adjournment Motion Notice दिया। आठ पूर्व नौसैनिकों को कतर की प्रथम Instance अदालत ने मौत की सजा सुनाई थी। विदेश मंत्रालय ने कहा कि कतर की अदालत ने हाल ही में दोहा में हिरासत में लिए गए आठ पूर्व नौसेना अधिकारियों के लिए मौत की सजा का फैसला सुनाया। आठ पूर्व भारतीय नौसेना कर्मी दोहा स्थित निजी रक्षा सेवा प्रदाता, दहरा ग्लोबल के कर्मचारी थे। उन्हें जासूसी के आरोप में अगस्त 2022 में गिरफ्तार किया गया था।

  • मनीष तिवारी ने भारतीय नौसेना कर्मियों को दी गई मौत की सजा पर चर्चा के लिए लोकसभा में Adjournment Motion Notice दिया
  • आठ पूर्व नौसैनिकों को कतर की प्रथम Instance अदालत ने मौत की सजा सुनाई थी
  • आठ पूर्व भारतीय नौसेना कर्मी दोहा स्थित निजी रक्षा सेवा प्रदाता, दहरा ग्लोबल के कर्मचारी थे
  • उन्हें जासूसी के आरोप में अगस्त 2022 में गिरफ्तार किया गया था

जासूसी के आरोप में गिरफ्तार सैनिक

भारत ने फैसले को बेहद चौंकाने वाला बताया और इस मामले पर कतर के साथ जुड़ने के लिए सभी राजनयिक चैनलों को तैनात किया। विदेश मंत्रालय ने कहा, आठ पूर्व भारतीय नौसेना कर्मी दोहा स्थित निजी रक्षा सेवा प्रदाता दहरा ग्लोबल के कर्मचारी थे। उन्हें जासूसी के आरोप में अगस्त 2022 में गिरफ्तार किया गया था। नवंबर में, कतरी अदालत ने आठ पूर्व भारतीय नौसैनिकों की मौत की सजा पर अपील दस्तावेज स्वीकार कर लिया था। कतर में आठ भारतीय पूर्व नौसेना कर्मियों को दी गई मौत की सजा के खिलाफ भारत की ओर से अपील दायर की गई थी। भारत को 7 नवंबर को बंदियों तक Consular पहुंच का एक दौर दिया गया था। विदेश मंत्रालय के अनुसार, कतर अदालत का फैसला गोपनीय रहता है।

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘PUNJAB KESARI’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOK, INSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

18 − 12 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।