महाराष्ट्र के मंत्री जल्द ही अयोध्या की यात्रा करेंगे: डिप्टी सीएम फडणवीस

maharashtra

महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने रविवार को कहा कि राज्य के कैबिनेट मंत्री जल्द ही उत्तर प्रदेश में स्थित अयोध्या का दौरा करेंगे, जहां 22 जनवरी को राममंदिर में रामलला की प्रतिमा की प्राण प्रतिष्ठा की गई थी। हालांकि, फडणवीस ने इस संबंध में और कोई जानकारी साझा नहीं की।

Highlights:

  • महाराष्ट्र के मंत्री जल्द ही अयोध्या की यात्रा करेंगे: डिप्टी सीएम फडणवीस
  • ‘अयोध्या में राममंदिर का निर्माण किया जाना सुनिश्चित किया’
  • ‘प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के प्रयासों से राममंदिर का निर्माण हुआ’

‘अयोध्या में राममंदिर का निर्माण किया जाना सुनिश्चित किया’

काशी और मथुरा में इसी तरह के मंदिर विवादों के बारे में पूछे जाने पर फडणवीस ने संवाददाताओं से कहा कि कानूनी ढांचे के तहत एक सौहार्दपूर्ण समाधान निकाला जाएगा जिस तरह से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने (उच्चतम न्यायालय के फैसले के बाद) अयोध्या में राममंदिर का निर्माण किया जाना सुनिश्चित किया। फडणवीस ने कहा कि मथुरा, काशी और अयोध्या, सभी पवित्र स्थान हैं। उन्होंने कहा कि अयोध्या में राममंदिर के निर्माण के बाद, लोगों के लिए मथुरा (कृष्ण जन्मभूमि) के विवाद के समाधान की उम्मीद करना स्वाभाविक है।

‘प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के प्रयासों से राममंदिर का निर्माण हुआ’

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता फडणवीस ने कहा, ‘‘मेरा मानना है कि जिस तरह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के प्रयासों से राममंदिर का निर्माण हुआ, उसी तरह श्री कृष्ण जन्मभूमि का भी समाधान सद्भाव और कानून के दायरे में होगा।” फडणवीस ने कहा, ‘‘काशी विश्वनाथ में एक नया गलियारा बनाया गया है। वहां पूजा की अनुमति भी दी गई है और अनुकूल माहौल देखा जा रहा है। सरल शब्दों में कहें तो ये सभी चीजें सद्भाव और कानून के मुताबिक हो रही हैं।’’

‘ज्ञानवापी मस्जिद का निर्माण एक मंदिर को ध्वस्त करने के बाद किया गया’

वह उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ पुणे के आलंदी में गीता भक्ति अमृत महोत्सव में भाग लेने के लिए पुणे के पिंपरी चिंचवड में थे। हिंदू पक्ष का कहना है कि मथुरा में शाही ईदगाह उस स्थान पर बनाई गई थी जिसे भगवान कृष्ण का जन्मस्थान माना जाता है। मस्जिद के बगल में एक कृष्ण मंदिर है। इसके अलावा, हाल ही में अदालत द्वारा आदेशित भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि ज्ञानवापी मस्जिद वाराणसी (काशी) का निर्माण औरंगजेब के शासन के दौरान वहां एक मंदिर को ध्वस्त करने के बाद किया गया था।

 

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘PUNJAB KESARI’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOK, INSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

eighteen − one =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।