खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने दी डोपिंग से दूर रहने की नसीहत, इस खिलाड़ी पर लग चुका है आरोप

अनुराग ठाकुर (Anurag Thakur) ने उत्कृष्टता केंद्र का उद्घाटन किया

खेल मंत्री अनुराग ठाकुर (Anurag Thakur)ने खिलाड़ियों के सप्लीमेंट (पूरक पोषण) की जांच के लिए शुक्रवार को गांधीनगर में एक उत्कृष्टता केंद्र का उद्घाटन करते हुए खेलों को डोपिंग से दूर रहने की वकालत की।ठाकुर ने गुजरात के गांधीनगर में राष्ट्रीय फोरेंसिक विज्ञान विश्वविद्यालय (एनएफएसयू) में खिलाड़ियों के लिए सप्लीमेंट जांच उत्कृष्टता केंद्र (सीओई-एनएसटीएस) का ऑनलाइन उद्घाटन किया। सीओई-एनएसटीएस खिलाड़ियों के लिए सप्लीमेंट का परीक्षण करेगा ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि बड़ी स्पर्धाओं की तैयारी करने वाले खिलाड़ियों को केवल सर्वोत्तम उत्पाद उपलब्ध हो सके।

HIGHLIGHTS

  • सुरक्षित खेलें, साफ-सुथरा खेलें और डोपिंग जैसी चीजों के बिना खेलें : Anurag Thakur
  • स्वच्छ खेल और एंटी-डोपिंग उपायों को बढ़ावा देने में नाडा के प्रयास सराहनीय
  • Anurag Thakur ने कहा कि खेलों ईमानदारी जरूरी है और देश इस साल जुलाई-अगस्त में पेरिस ओलंपिक खेलों में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना चाहेगा।88b6bb29 a7a6 4681 ac58 225382a47719

सुरक्षित खेलें, साफ-सुथरा खेलें और डोपिंग जैसी चीजों के बिना खेलें : Anurag Thakur

ठाकुर (Anurag Thakur) ने रोड टू पेरिस 2024: चैंपियनिंग क्लीन स्पोर्ट्स एंड यूनाइटिंग फॉर एंटी-डोपिंग सम्मेलन में कहा, जब हम रोड टू पेरिस के बारे में बात करते हैं, तो हमें बस इतना कहना है कि सुरक्षित खेलें, साफ-सुथरा खेलें और निष्पक्ष (डोपिंग जैसी चीजों के बिना) खेलें। इसके लिए जागरूकता बहुत जरूरी है। जागरूकता के अलावा, आपको खिलाड़ियों को सही सुविधाएं भी मिलनी चाहिए। उन्होंने कहा, अब तक सप्लीमेंट की जांच की कोई सुविधा नहीं थी। अब यह हमारे पास है। तो अगर जिम में मिलावटी सप्लीमेंट, शक्तिवर्धक दवाएं हैं तो उनकी भी जांच अब इसके जरिए की जा सकेगी। खिलाड़ी अपने प्रदर्शन को बेहतर बनाने के लिए अच्छी गुणवत्ता वाले सप्लीमेंट भी प्राप्त कर सकते हैं। डोपिंग भारतीय खेलों के लिए अभिशाप रही है और कई बार परीक्षण के दौरान पकड़े गए एथलीट नकली सप्लीमेंट और दवाओं के कारण प्रतिबंधित पदार्थों के सेवन का दावा करते हुए खुद को निर्दोष बताते हैं।

स्वच्छ खेल और एंटी-डोपिंग उपायों को बढ़ावा देने में नाडा के प्रयास सराहनीय

ठाकुर (Anurag Thakur)ने कहा कि खेलों ईमानदारी जरूरी है और देश इस साल जुलाई-अगस्त में पेरिस ओलंपिक खेलों में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना चाहेगा। उन्होंने कहा, सीओई-एनएसटीएस ऐसी सुविधाएं बनाने की दिशा में एक कदम है जो अधिक पारदर्शिता सुनिश्चित करेगी। उन्होंने कहा, सीओई-एनएसटीएस पोषक तत्वों की खुराक पर शोध करेगा और खिलाड़ी पोषक तत्वों के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त कर सकेंगे। रोड टू पेरिस 2024 के लिए यह बहुत महत्वपूर्ण है कि हम डोपिंग रोधी गतिविधियों के संबंध में खिलाड़ियों के बीच जागरूकता पैदा करें और उन्हें डोपिंग से दूर रखें। मंत्री ने कहा कि सीओई-एनएसटीएस की स्थापना भारत में सप्लीमेंट जांच सुविधाओं को विकसित करने के मंत्रालय के लक्ष्य के अनुरूप है। राष्ट्रीय एंटी-डोपिंग एजेंसी (नाडा) की प्रशंसा करते हुए, ठाकुर ने कहा, स्वच्छ खेल और एंटी-डोपिंग उपायों को बढ़ावा देने में नाडा के प्रयास एथलीटों को शिक्षित करने, परीक्षण आयोजित करने और डोपिंग रोधी नियमों और नीतियों को लागू करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

14 − 6 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।