उप्र विधानमंडल में बजट पारित, दोनों सदनों की कार्यवाही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित

उत्तर प्रदेश विधानमंडल के दोनों सदनों में शनिवार को वित्त वर्ष 2024-2025 के प्रस्तावित आय-व्ययक (बजट) को मंजूरी मिल गयी और इसी के साथ ही निर्धारित अवधि से दो दिन पूर्व विधानसभा और विधान परिषद की कार्यवाही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दी गयी।
विधानसभा में शनिवार को राज्य के वित्त व संसदीय कार्य मंत्री सुरेश खन्‍ना ने 2024-2025 के प्रस्तावित बजट को पारित करने के लिए सदन के समक्ष उप्र विनियोग विधेयक, 2024 पेश कया। विधेयक के पक्ष में बहुमत होने से विधानसभा अध्यक्ष सतीश महाना ने इसके पारित किये जाने की घोषणा की। वित्त मंत्री खन्ना ने पांच फरवरी को विधानसभा में सात लाख 36 हजार 437 करोड़ रुपये का बजट पेश किया था।
सदन में कार्यवाही में सहयोग के लिए विधानसभा अध्यक्ष महाना और संसदीय कार्य मंत्री सुरेश खन्‍ना ने सभी दल के नेताओं और सदस्यों के प्रति आभार जताया।
खन्‍ना ने सदन की कार्यवाही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित करने का प्रस्ताव रखा, अध्यक्ष महाना ने विधानसभा की कार्यवाही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित करने की घोषणा की। विधानसभा के बजट सत्र की कार्यवाही दो फरवरी से 12 फरवरी तक निर्धारित थी। विधानसभा के प्रमुख सचिव प्रदीप कुमार दुबे द्वारा विधायकों को दिए गए पत्र में विधानसभा की कार्यवाही 12 फरवरी तक के लिए निर्धारित की गयी थी।

55 घंटे चली कार्यवाही
विधानसभा के एक अधिकारी ने बताया कि विधानसभा के बजट सत्र की कार्यवाही दो फरवरी से 10 फरवरी तक कुल 55 घंटे नौ मिनट तक चली। सदन की कार्यवाही एक मिनट के लिए भी स्थगित नहीं हुई। विधान परिषद के प्रमुख सचिव राजेश सिंह ने एक बयान में कहा कि उप्र विधान परिषद का वर्ष 2024 का प्रथम सत्र जो दो फरवरी से शुरू हुआ उसे 10 फरवरी की बैठक की समाप्ति के बाद अनिश्चित काल के लिए स्‍थगित किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

16 + 9 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।