राजस्थान भाजपा में खत्म हुई रार? JP नड्डा ने सभी नेताओं को दी एकजुट होकर लड़ने की नसीहत

राजस्थान में भाजपा को एकजुट करने के मिशन में लगे भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने मंगलवार को प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया और प्रदेश अध्यक्ष सतीश पुनिया सहित प्रदेश से जुड़े तमाम बड़े नेताओं के साथ बैठक कर सभी नेताओं को गुटबाजी से दूर रहकर मिलकर कांग्रेस के खिलाफ लड़ने की नसीहत दी।

राजस्थान में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को एकजुट करने के मिशन में लगे भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने मंगलवार को प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और वरिष्ठ नेता वसुंधरा राजे सिंधिया और प्रदेश अध्यक्ष सतीश पुनिया सहित प्रदेश से जुड़े तमाम बड़े नेताओं के साथ बैठक कर सभी नेताओं को गुटबाजी से दूर रहकर मिलकर कांग्रेस के खिलाफ लड़ने की नसीहत दी।  
लंबी चली बैठक, निकला  ये नतीजा  
जेपी नड्डा के आवास पर लगभग पौने पांच घंटे तक चली बैठक में पार्टी के राष्ट्रीय संगठन महासचिव बीएल संतोष, पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव एवं राजस्थान प्रभारी अरुण सिंह, राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री एवं पार्टी की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष वसुंधरा राजे सिंधिया, प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया, राजस्थान से लोक सभा सांसद एवं केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत, अर्जुन राम मेघवाल, प्रदेश संगठन महासचिव चंद्रशेखर और राजस्थान विधानसभा में नेता विपक्ष गुलाबचंद कटारिया सहित पार्टी के कई अन्य दिग्गज नेता भी शामिल हुए। 
बैठक के दौरान पार्टी के सभी नेताओं ने एक साथ लंच भी किया। बताया जा रहा है कि बैठक में बीएल संतोष के हाल ही में किए गए राजस्थान दौरे के दौरान मिले फीडबैक, करौली में हुई हिंसा, राज्य में लगातार खराब होती जा रही कानून व्यवस्था की स्थिति और राज्य के राजनीतिक हालात के साथ-साथ राजस्थान भाजपा संगठन के कामकाज और गुटबाजी को लेकर भी चर्चा हुई।  
गहलोत सरकार के खिलाफ लड़ने को कहा गया 
बैठक में मौजूद सभी नेताओं को गुटबाजी से दूर रहकर जनता से जुड़े मुद्दों को जोर-शोर से उठाने और मिलकर राजस्थान की गहलोत सरकार के खिलाफ लड़ने को कहा गया है। करौली हिंसा और राज्य में लगातार बढ़ रहे अपराध के मद्देनजर यह तय किया गया कि प्रदेश में कानून व्यवस्था एक बड़ा मुद्दा है और इस पर सड़कों पर उतर कर राज्य की कांग्रेस सरकार के खिलाफ राजनीतिक लड़ाई लड़ने की जरूरत है।  
राजस्थान में 2023 में विधानसभा चुनाव होने है  
आपको बता दें कि, इससे पहले पिछले महीने वसुंधरा राजे सिंधिया ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा और गृह मंत्री अमित शाह के अलावा पार्टी के कई आला नेताओं के साथ मुलाकात कर राज्य के राजनीतिक हालात पर चर्चा की थी। इस बीच पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पुनिया भी कई बार दिल्ली आकर पार्टी के आला नेताओं के साथ मुलाकात कर चुके हैं। 
दरअसल, राजस्थान में 2023 में विधानसभा चुनाव होने है और इसकी तैयारियों को लेकर पार्टी कोई कोर-कसर नहीं छोड़ना चाहती है। इसलिए पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने अपने आवास पर मैराथन बैठक कर एक तरफ जहां नेताओं को सख्त संदेश दे दिया कि उन्हें गुटबाजी से दूर रहना ही होगा वही दूसरी तरफ कानून व्यवस्था जैसे कई अहम मुद्दों पर गहलोत सरकार को घेरने की रणनीति पर भी चर्चा की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

sixteen + twenty =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।