लोकसभा चुनाव 2024

पहला चरण - 19 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

102 सीट

दूसरा चरण - 26 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

89 सीट

तीसरा चरण - 7 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

94 सीट

चौथा चरण - 13 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

96 सीट

पांचवां चरण - 20 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

49 सीट

छठा चरण - 25 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

सातवां चरण - 1 जून

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

दूसरा चरण - 26 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

89 सीट

अफगानिस्तान के करेंसी ने कर दिया कमाल, पहुंची टॉप पर सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाली मुद्रा बनी

तालिबान के नेतृत्व में अफगानिस्तान की मुद्रा ‘अफगानी’ अचानक से तेजी पर पंहुच गया। इस तिमाही में विश्व रैंकिंग में शीर्ष स्थान पर पहुंचने के लिए उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन रहा है। दो साल पहले तालिबान के अफगानिस्तान पर कब्ज़ा करने के बाद वहां की आर्थिक स्थिति गंभीर हो गई थी। अफ़गानिस्तान की राष्ट्रीय मुद्रा के मूल्य में भारी गिरावट आई है। लेकिन जो बात सामने आती है वह है तालिबान की प्रमुख कार्रवाइयों से इस तिमाही में अफगानिस्तान की असाधारण रिकवरी है।

Untitled Project 2023 09 26T193939.569

माना जाता है कि इसका कारण देश को मानवीय तरीको से मिलने वाली करोड़पतियों की सहायता और पड़ोसी देशों के साथ बढ़ता व्यापार है। मानवाधिकारों के मामले में दुनिया में बुरी तरह गिर चुके और गरीबी से जूझ रहे देश के तौर पर पहचाने जाने वाले अफगानिस्तान की करेंसी को मजबूत करने की तालिबान की काम भी इसकी वजह बताई जा रही हैं। अफगानिस्तान ने अपनी मुद्रा को मजबूत करने के लिए कई उपाय लागू किए हैं।

Untitled Project 2023 09 26T194228.406

अफगानी ने साल-दर-साल लगभग 14 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की। यह इसे कोलम्बियाई पेसो और श्रीलंकाई रुपये के बाद विश्व स्तर पर तीसरी सबसे मजबूत मुद्रा बनाता है। आंकड़ों के अनुसार, मुद्रा नियंत्रण, नकदी प्रवाह और भुगतान के साथ, तिमाही में अफगानी में लगभग 9 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई। कोलम्बियाई पेसो ने 3 प्रतिशत की बढ़त हासिल की।

Untitled Project 2023 09 26T194931.514

अर्थशास्त्रियों का कहना है कि मुद्रा में इस बढ़ोतरी का मतलब है कि अफगानिस्तान का आंतरिक संकट अभी भी वैसा ही है, खासकर आर्थिक प्रतिबंधों के कारण देश विश्व अर्थव्यवस्था से काफी दूर है. मुख्य रूप से बेरोजगारी गंभीर है। दो-तिहाई परिवार गुजारा करने के लिए संघर्ष करते हैं। विश्व बैंक की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि हमें महंगाई के बजाय अपस्फीति का सामना करना पड़ रहा है। 2021 के अंत से, संयुक्त राष्ट्र नियमित रूप से हर कुछ हफ्तों में 40 मिलियन डॉलर से अधिक की सहायता प्रदान कर रहा है।

दूसरी ओर, भले ही मुद्रा नियंत्रण अभी काम कर रहा हो, वाशिंगटन में न्यू लाइन्स इंस्टीट्यूट फॉर स्ट्रैटेजी एंड पॉलिसी में मध्य पूर्वी, मध्य और दक्षिण एशियाई मामलों के विशेषज्ञ कामरान बुखारी चेतावनी देते हैं कि आर्थिक, सामाजिक और राजनीतिक अस्थिरता अफगानिस्तान में हो सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

4 × 2 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।