लोकसभा चुनाव 2024

पहला चरण - 19 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

102 सीट

दूसरा चरण - 26 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

89 सीट

तीसरा चरण - 7 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

94 सीट

चौथा चरण - 13 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

96 सीट

पांचवां चरण - 20 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

49 सीट

छठा चरण - 25 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

सातवां चरण - 1 जून

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

लोकसभा चुनाव पहला चरण - 19 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

102 सीट

Janmashtami 2023: झुंझुनू के वृंदावन धाम की जन्माष्टमी थीम मन मोह लेगी आपका, श्रद्धालुओं की उमड़ी हैं जबरदस्त भीड़

काशी विश्वनाथ जैसे महत्वपूर्ण मंदिरों के अवसरों पर, वही बनारस के कलाकार विभिन्न फूलों का उपयोग करते हैं। मंदिरों की साज-सज्जा में थीम का प्रयोग किया जाता है। भड़ौंदा के वृन्दावन धाम में आए बनारस के ये कलाकार इस बार मंदिर को सजाएंगे।

झुंझुनूं के भौंडा में वृन्दावन धाम में तीन दिवसीय जन्माष्टमी महोत्सव मनाया जा रहा है। बनारस के कलाकार अब पहली बार मंदिर को फूलों और फलों से सजा रहे हैं। वनस्पति के संरक्षण के विचार को व्यक्त करने के लिए जंगल थीम को बरकरार रखा गया है। 
1693995501 untitled project 2023 09 06t154839.392
काशी विश्वनाथ जैसे महत्वपूर्ण मंदिरों के अवसरों पर, वही बनारस के कलाकार विभिन्न फूलों का उपयोग करते हैं। मंदिरों की साज-सज्जा में थीम का प्रयोग किया जाता है। भड़ौंदा के वृन्दावन धाम में आए बनारस के ये कलाकार इस बार मंदिर को सजाएंगे। 
क्या है 2023 का तीन दिवसीय जन्माष्टमी प्रोग्राम?
1693995433 untitled project 2023 09 06t154729.194
आयोजन समिति के कैलाश सुल्तानिया के अनुसार इस तीन दिवसीय आयोजन में देशभर से श्रद्धालु शामिल होंगे। जो अपने परिवार के साथ तीन दिवसीय कार्यक्रमों में उत्साहपूर्वक भाग लेंगे। आज 6 सितंबर को पंचकोसीय परिक्रमा का पहला दिन था। इसके बाद, शाम को चिड़ावा में बिहारीजी मंदिर से एक शोभायात्रा निकलेगी और मंदिर लौटने से पहले कल्याण प्रभु तक यात्रा करेगा। पंचपेड़ में 8 सितंबर को छप्पन भोग की झांकी सजाई जाएगी।
श्रद्धालुओं की उमड़ती हैं भीड़ 
हम यह बताना चाहेंगे कि इस क्षेत्र में पाँच पेड़ सैकड़ों वर्ष पुराने हैं। उस समय पुरूषोत्तम दास जी महाराज ने यहां तपस्या की थी। यह पेड़ तब से बहुत हरा-भरा है और आज भी है। पौराणिक कथा के अनुसार जब पुरूषोत्तम दास जी वृन्दावन में रहते थे तो उनकी तेज़ बुद्धि के कारण वहां के लोग उनसे ईर्ष्या करने लगे। इसके बाद उन्होंने भारत की यात्रा की। कटली नदी के पास एक शांत जगह की तलाश करते समय उनकी नज़र इस पेड़ पर पड़ी। 
1693995393 untitled project 2023 09 06t154648.312
जहां उन्होंने अपनी तपस्या पूरी की। पूर्व में पुरूषोत्तम दास जी यहां प्रतिदिन सुबह-शाम आरती समारोह आयोजित करते थे। आरती के समय जब शंख बजते थे तो इस पेड़ के नीचे एक गाय खड़ी होती थी। जब बाबा मग या बाल्टी उस गाय के नीचे रखा करते थे तो वह अपने आप भर जाती थी। कहा जाता है कि इस पेड़ के नीचे मांगी गई मन्नतें पूरी होती हैं। हर साल लाखों की संख्या में श्रद्धालु इस पेड़ के नीचे मन्नतें मांगने आते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

twenty − eleven =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।