Climate Change का खतरा बढ़ा, 4.5 अरब से ज्यादा लोग हो सकते हैं प्रभावित – World Bank Report

Climate Change Report

(Climate Change Report) क्लाइमेट चेंज के प्रभावों को समझने के लिए किए गए एक अध्ययन में पता चला है कि दुनिया की कुल आबादी का आधे से ज्यादा हिस्सा, यानी 4.5 अरब से ज्यादा लोग, चरम मौसमी घटनाओं के अनुभव करने के उच्च जोखिम में हैं। वर्ल्ड बैंक का कहना है कि इस अध्ययन से पता चलता है कि जलवायु परिवर्तन से होने वाले खतरा बढ़ रहे हैं। इन खतरों से निपटने और लोगों की रक्षा के लिए सरकारों को कदम उठाने की जरूरत है। 

लगभग 4.5 अरब लोग बाढ़, सूखा, चक्रवात और हीटवेव जैसी से हो सकते है प्रभावित

दुनिया की कुल आबादी का 77 प्रतिशत हिस्सा कवर करने वाले 75 देशों में किए गए  research में जलवायु परिवर्तन के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान करता है। विश्लेषण में आय स्तर, शिक्षा, पानी और बिजली तक पहुंच, सामाजिक सुरक्षा कवरेज और वित्तीय सेवाओं तक पहुंच जैसे संकेतक शामिल हैं। अध्ययन में अनुमान लगाया गया है कि लगभग 4.5 अरब लोग बाढ़, सूखा, चक्रवात और हीटवेव जैसी  मौसम की घटनाओं से लोग  बहुत बुरी तरह प्रभावित हो सकते हैं। इनमें से लगभग 2.3 अरब लोग गरीब की श्रेणी में आते हैं, जो प्रति दिन 6.85 डॉलर से कम पर गुजारा करते हैं, और लगभग 40 करोड़ लोग अत्यंत गरीब माने जाते हैं, जो प्रति दिन 2.15 डॉलर से कम पर गुजारा करते हैं (2020 का डेटा)।Climate Change Report

2010 से 2019 के बीच कई देशों में ऐसी घटनाओं के संपर्क में आने वाले लोगों की संख्या में वृद्धि हुई

इस धारणा के विपरीत कि गरीबी ही कमजोर होने का एकमात्र कारण है, अध्ययन से पता चलता है कि गैर-गरीब परिवार भी मौसम संबंधी चरम घटनाओं से बुरी तरह प्रभावित हो सकते हैं। यह अध्ययन बताता है कि भेद्यता का आकलन करने के लिए आय के अलावा अन्य कारकों को भी ध्यान में रखना चाहिए। अध्ययन विभिन्न आयामों की परस्पर जोड़ता पर जोर देता है और भेद्यता को दूर करने के लिए समग्र दृष्टिकोण अपनाने की वकालत करता है। जबकि 2010 और 2019 के बीच कई देशों में चरम मौसम की घटनाओं के संपर्क में आने वाले लोगों की संख्या में वृद्धि हुई, इस अवधि के दौरान उच्च जोखिम में रहने वालों की संख्या में कमी आई।

उच्च जोखिम में रहने वाले लोगों की संख्या में वृद्धि हुई

सब-सहारा अफ्रीका एक अपवाद के रूप में सामने आया है, जिसमें उच्च जोखिम में रहने वाले लोगों की संख्या में वृद्धि हुई है। अध्ययन से पता चलता है कि भेद्यता कई कारकों के संयोजन से प्रभावित होती है, यदि परिवारों के गंभीर नुकसान होने की संभावना है और उनके पास सामना करने और ठीक होने की क्षमता नहीं है, तो उन्हें कमजोर माना जाता है। बुनियादी ढांचे तक पहुंच की कमी, अपर्याप्त आय और सीमित अनुकूलनशीलता भेद्यता में योगदान करते हैं। शोध दुनिया की कुल आबादी का 77 प्रतिशत प्रतिनिधित्व करने वाले 75 देशों को शामिल करता है,

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘PUNJAB KESARI’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOK, INSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो कर सकते हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

two × 5 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।