लोकसभा चुनाव 2024

पहला चरण - 19 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

102 सीट

दूसरा चरण - 26 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

89 सीट

तीसरा चरण - 7 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

94 सीट

चौथा चरण - 13 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

96 सीट

पांचवां चरण - 20 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

49 सीट

छठा चरण - 25 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

सातवां चरण - 1 जून

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

लोकसभा चुनाव पहला चरण - 19 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

102 सीट

‘The Freelencer’ Star Mohit Raina Exclusive Interview : दूसरे सीजन में आखिर किस राज से उठेगा पर्दा?

freelencer star mohit raina

‘The Freelencer’ Star Mohit Raina: पावरहाउस कलाकार मोहित रैना , जिन्होंने साल भर में खुद को सबसे होनहार और बहुमुखी अभिनेताओं में से एक के रूप में स्थापित किया है, ‘ द फ्रीलांसर ‘ में एक और शानदार प्रदर्शन के साथ वापस आ गए हैं। इस हाई-स्केल थ्रिलर में अविनाश कामथ की भूमिका निभाते हुए , अभिनेता एक उग्र, बोल्ड अवतार में दिखाई देंगे, जो उनके प्रशंसकों ने अभी तक नहीं देखा है। ऐसे में अब इस सीरीज के फाइनल या कहे तो कन्क्लूजन पार्ट में क्या कुछ नया और इंट्रेस्टिंग देखने को मिलने वाला इसके बारे में खुद मोहित रैना ने हमारे कार्यालय पंजाब केसरी में आकर कुछ मुख्य बातें बताई जिसे सुनने के बाद इस सीरीज का दूसरा पार्ट देखने के लिए आपकी भी एक्साइटमेंट दोगुनी हो जाएगी।

The Freelencer Start Mohit Raina

इस सीरीज के लिए हां कहने के पीछे का कारण क्या था ?

मुझे लगता है कि मेरे लिए इस सीरीज़ का हिस्सा बनने का सबसे महत्वपूर्ण कारण श्री नीरज पांडे की दुनिया है। आप जानते हैं कि नीरज पांडे एक ऐसे निर्माता हैं जो बहुत लंबे समय से मेरी इच्छा सूची में हैं। मैं ए वेडनसडे के बाद से उनके काम का प्रशंसक रहा हूं, इसके बाद उन्होंने सभी फिल्मों के साथ-साथ थ्रिलर में भी शानदार काम किया है: बेबी, नाम शबाना, स्पेशल 26, एमएस धोनी, यह सब। जब उन्होंने इस अवसर के लिए मुझसे संपर्क किया तो मैंने बिना समय बर्बाद किए इसे दोनों हाथों से पकड़ लिया। इसी के साथ मोहित रैना ने कहा कि मुझे उनका कॉल कोरोना काल से पहले ही आया था मै उस वक़्त किसी डॉक्टर के साथ बैठा हुआ था और तभी मुझे नीरज पांडे का कॉल किया, मै उसी वक़्त उस डॉक्टर को चुप करा कर उनका कॉल उठाना चाहता था लेकिन मैंने कंट्रोल किया और डॉक्टर की बात ख़त्म होते ही सीधा मैंने नीरज पांडे जी को कॉल बैक किया। ये मेरा बहुत बड़ा सपना पूरा होने जा रहा था।

The Freelencer Start Mohit Raina

Book पर बेस्ड स्टोरी है तो आगे हमें इसके और कितने पार्ट देखने को मिल सकते हैं?

ये जो कहानी हैं ये किताब ‘टिकट टू सीरिया’ पर बेस्ड हैं। वहां से उन्होंने कुछ मुख्य-मुख्य भाग उठाए हैं और उसमें मेरा जो किरदार हैं अविनाश कामत का उसमे उसे कांटेक्ट करके अप्रोच किया जाता हैं लेकिन हमने उसका नाम ‘द फ्रीलांसर’ दिया हैं। 7 एपिसोड की ये लिमिटेड कहानी हैं। 4 एपिसोड पहले ही डल चुके हैं। बाकि बचे तीन एपिसोड हमलोग 15 दिसंबर तो टेलीकास्ट करने जा रहे हैं डिज्नी प्लस हॉटस्टार पर। इस कहानी को इतना प्यार मिला हैं इतना सराहा गया हैं और मुझे इसके पीछे का कारन यह लगता हैं की इंडिया में अभी तक इतनी लार्जर स्केल पर फिल्में बनी नहीं हैं। हमारे टेक्निसियन भी बाहर के थे, हमारे कास्ट और क्रू भी बाहर के थे। तो उन सब चीजों को मद्देनजर रखते हुए लोगों ने इसे खूब प्यार दिया हैं। इस सीरीज को देखने के बाद आपको फुल हॉलीवुड वाली फील मिलने वाली हैं।

सीरीज के डायरेक्टर नीरज पांडेय के साथ काम करने का एक्सपीरियंस कैसा रहा?

जब मुझे उनके साथ काम करने का मौका मिला, तो मुझे एहसास हुआ कि वह अपने अभिनेताओं को कितनी स्पष्टता, सहजता और स्पेस देते हैं। वह वास्तव में आप पर बहुत सारा होमवर्क करने के लिए दबाव नहीं डालेगा; वह आपका मार्गदर्शन करेगा. वह आपको दिखाएंगे कि आपको क्या करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए, लेकिन वह वास्तव में आपको चीजों को ज़्यादा करने के लिए मजबूर नहीं करेंगे। वह चाहेंगे कि आप तैयारी करें लेकिन जरूरत से ज्यादा तैयारी न करें। मुझे अभी भी याद है कि पहले दिन एक दृश्य था जिस पर मैं सर के साथ काम कर रहा था, और मैं आमतौर पर, अब तक, सभी निर्देशकों ने कहा है कि उन्होंने 4, 5, या अधिकतम 6 टेक के लिए मंजूरी दे दी है, लेकिन पहले दिन, यह हो गया। कुछ 15 या 16 टेक तक। और मुझे सचमुच पसीना आ रहा था, और दिन ढल चुका था और सभी को घर वापस जाना पड़ा। 9:30 बज रहे थे. यह पैक-अप का समय था, और हर कोई मुझे घूर रहा था, और मैं सोच रहा था, मुझे क्या समझ नहीं आ रहा है या मैं क्या कर रहा हूँ? मैं सही ढंग से क्या नहीं कर रहा हूँ? लेकिन फिर मुझे एहसास हुआ कि वह एक ऐसा व्यक्ति है जो परफेक्शन से भरे हुए आदमी हैं। वह ऐसा व्यक्ति है जो चीजों को एक निश्चित तरीके से करना चाहता है, और जब उसकी दृष्टि हासिल हो जाती है, जब आप उसकी दृष्टि पर खरे उतरते हैं, तभी वह कहेगा, ठीक है। वह ऐसे व्यक्ति नहीं हैं जो किसी भी चीज पर समझौता करेंगे।

The Freelencer Start Mohit Raina

जम्मू-कश्मीर से मुंबई तक का सफर कैसा रहा? परिवार वालों को एक्टिंग के लिए कैसा मनाया?

उस वक़्त मैं किसी कंपनी में जॉब कर रहा था। तो एक लिफ़ाफ़े में मैंने उस जॉब को छोड़ने का रेसिग्नेशन लेटर तैयार कर लिया था। इसके साथ ही मुंबई के टिकट भी करा लिए थे, और फिर शाम के वक़्त जब मेरे मम्मी-पापा ऑफिस से घर आते हैं तो सब साथ में ही चाय पीते हैं ऐसे में उसी वक़्त मैंने दोनों लिफाफा टेबल पर उनके सामने रख दिया था। ऐसे में पिता जी ने मुंबई जाने वाला लेटर उठा लिया और मम्मी ने रिजाइन वाला। तो वक़्त तो कुछ बात नहीं हुई। उसके अगले दिन जब मैं वापस शाम में घर जा रहा था तब मैं अपने लेन में घुस रहा था तो बहुत सारी गाड़ियां खड़ी थी। तो मैंने देखा की ये तो मेरे अंकल की बाइक हैं, ये तो मेरे मामा जी की कार हैं। तो इस तरह से अंदर पूरा कॉन्फ्रेंस चल रहा था की एक लड़का पागल हो गे हैं। हमने कभी दिल्ली क्रॉस नहीं किया हैं तो ये बॉम्बे जाने की बात कर रहा हैं। लेकिन उस वक़्त मेरी मां ने मेरा बहुत साथ दिया था। उन्होंने कहा की ठीक हैं अगर ये जाना चाहता हैं एक्सप्लोर करना चाहता हैं तो जाने दो। तो उन्हें साथ की वजह से ही मैं यहां तक आ पाया और इतना कुछ कर पाया।

The Freelencer Start Mohit Raina

अभी तक के सारे सीरीज और मूवीज में आपने सीरियस रोल किये हैं, तो आगे के प्रोजेक्ट्स में हमें कुछ हटकर देखने को मिल सकता हैं ?

“मेरा 2024 में टारगेट ही कॉमेडी करने का है। अगर आप मेरा ग्राफ देखेंगे तो मैंने करियर से शुरुआत में ‘त्रिशूल’ पकड़ा फिर मैंने ‘तलवार’ उठाई उसके बाद मैंने 303 पकड़ी , फिर मैंने गन्स उठाई फिर मैंने फूल उठाये फिर मैंने प्रोपोज़ किया अब मैंने फ्रीलांसर में वापस से गन्स उठाई हैं, तो अब मैं साल 2024 में ज़रूर comedy करके लोगो को हसाना चाहूंगा और मैं ये universe पर भी डालता हूँ कि मुझे हसने हसाने का मौका मिले और मैं फिल्ममेकर्स से भी कहना चाहूंगा कि मेरे 2 क्यूट डिम्पल्स का भरपूर फायदा उठाए और मुझे कोई रोमांटिक मूवी ऑफर करें।

आपका किरदार, अविनाश कामथ, आपके द्वारा निभाए गए अन्य किरदारों से कैसे अलग है?

अविनाश कामथ मुंबई पुलिस के एक सब इंस्पेक्टर हैं, और दुर्भाग्य से, कुछ पेशेवर और व्यक्तिगत असफलताओं के कारण, अपने जीवन में सब कुछ खो देते हैं और इस अंधेरे क्षेत्र और अपने जीवन के अंधेरे चरण में चले जाते हैं। यहीं पर डॉक्टर खान (अनुपम खेर द्वारा अभिनीत) का किरदार आता है, और वह उसका मार्गदर्शन करता है, उसे पकड़ता है, उसे अपने पंखों के नीचे ले जाता है, और उसे एक अलग अविनाश कामथ 2.0 में बदल देता है, अगर मैं इसे ऐसा कह सकता हूं। तो, फिर वह एक फ्रीलांसर बन जाता है; वह एक क्रूर भाड़े का व्यक्ति बन जाता है जो जो हासिल करना चाहता है उसे हासिल करने के लिए किसी भी हद तक चला जाता है; वह पैसे के लिए काम करता है; यही उसकी आजीविका है। यही कारण हैं की लोगों को मेरा ये किरदार काफी ज्यादा पसंद आ रहा हैं। साथ ही मुझे उनसे ढेरो सराहनाएं भी मिल रही हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

1 × 5 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।