Share Market: इजरायल-ईरान तनाव के बीच भारतीय शेयर बाजार में उतार-चढ़ाव की उम्मीद

लोकसभा चुनाव 2024

पहला चरण - 19 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

102 सीट

दूसरा चरण - 26 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

89 सीट

तीसरा चरण - 7 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

94 सीट

चौथा चरण - 13 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

96 सीट

पांचवां चरण - 20 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

49 सीट

छठा चरण - 25 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

सातवां चरण - 1 जून

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

पांचवां चरण - 20 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

49 सीट

इजरायल-ईरान तनाव के बीच भारतीय शेयर बाजार में उतार-चढ़ाव की उम्मीद

Share Market

Share Market: इजरायल और ईरान के बीच तनाव बढ़ने के बाद भारतीय शेयर बाजार द्वारा सोमवार को सतर्क रुख अपनाने की उम्मीद है। निवेशक पश्चिमी एशिया में उभरती भू-राजनीतिक स्थिति पर बारीकी से नजर रखेंगे, साथ ही बाजार क्षेत्र में चल रहे तनाव के संभावित प्रभाव के लिए तैयार रहेगा।

Highlights

  • इजरायल और ईरान के बीच तनाव बढ़ा
  • भारतीय शेयर बाजार में उतार-चढ़ाव

भारतीय शेयर बाजार में अस्थिरता

विश्लेषकों का अनुमान है कि भारतीय शेयर बाजार में बढ़ती अस्थिरता का अनुभव हो सकता है क्योंकि निवेशक उभरते भू-राजनीतिक परिदृश्य से गुजर रहे हैं।

जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा, “आपूर्ति संबंधी चिंताओं के साथ-साथ मध्य पूर्व में बढ़ते भू-राजनीतिक तनाव ने कच्चे तेल की कीमतों को बढ़ा दिया है, जिससे समग्र बाजार धारणा प्रभावित हुई है।” उन्होंने आगे कहा, “अमेरिका में दरों में कटौती में देरी, मध्य पूर्व में बढ़ते तनाव के कारण तेल की कीमतें बढ़ने और चौथी तिमाही के कमजोर आय अनुमानों को लेकर चिंताओं के बीच भारतीय बाजार मजबूत हो सकते हैं।”

share2 13

इज़राइल और ईरान के बीच तनाव बढ़ने से भू-राजनीतिक जोखिम बढ़ गए हैं, बाजार सहभागियों ने क्षेत्रीय स्थिरता और वैश्विक आर्थिक गतिशीलता पर संभावित प्रभाव का आकलन किया है। परिणामस्वरूप, भू-राजनीतिक घटनाक्रमों की प्रतिक्रिया में भारतीय शेयर बाजार में उतार-चढ़ाव का अनुभव हो सकता है।

इक्विटी बाजारों के लिए कुछ सकारात्मक नहीं

“यह दुनिया भर के इक्विटी बाजारों के लिए कुछ सकारात्मक नहीं है। जब तक यह ईरान और इज़राइल के बीच है तब तक इसे प्रबंधित किया जा सकता है लेकिन यदि अन्य देश भी इसमें शामिल हो जाते हैं, तो वृद्धि अधिक गंभीर होगी। हालांकि, हमारे बाजार लचीले हैं और मनोवैज्ञानिक समर्थन पर रुक सकते हैं कोटक सिक्योरिटीज के कार्यकारी उपाध्यक्ष श्रीकांत चौहान ने कहा, “निफ्टी पर यह स्तर 22000 पर है।”

share3 12

भू-राजनीतिक तनाव के बीच बाजार भागीदार सतर्क रहें

“यह व्यापक हमला इजरायल-हमास टकराव में एक और फ्लैशप्वाइंट का प्रतीक है, जो सामान्य रूप से और विशेष रूप से मध्य पूर्व में भू-राजनीतिक स्थिति की एक महत्वपूर्ण गिरावट है। जबकि तीसरा विश्व युद्ध नहीं है – कम से कम अभी तक नहीं, एक स्पष्ट संभावना है इन्फोमेरिक्स रेटिंग्स के मुख्य अर्थशास्त्री डॉ. मनोरंजन शर्मा ने कहा, “इसराइल द्वारा क्षैतिज वृद्धि और जवाबी कार्रवाई और यहां तक कि निवारक हमलों की कोई संभावना नहीं है।”

share4 12

विश्लेषकों का सुझाव है कि बढ़ते भू-राजनीतिक तनाव के बीच बाजार भागीदार सतर्क रहें और सावधानी बरतें। बाजार की धारणा और निवेशकों के विश्वास पर भूराजनीतिक घटनाओं का प्रभाव पश्चिमी एशिया में विकास की बारीकी से निगरानी के महत्व को रेखांकित करता है।

जबकि विदेशी पोर्टफोलियो निवेशक (एफपीआई) भारतीय शेयर बाजारों में अप्रैल में लगातार तीसरे महीने शुद्ध खरीदार बने हुए हैं। नेशनल सिक्योरिटीज डिपॉजिटरी लिमिटेड (एनएसडीएल) के आंकड़ों के मुताबिक, महीने में अब तक एफपीआई ने भारत में 13,347 करोड़ रुपये के स्टॉक खरीदे हैं।

नोट – इस खबर में दी गयी जानकारी निवेश के लिए सलाह नहीं है। ये सिर्फ मार्किट के ट्रेंड और एक्सपर्ट्स के बारे में दी गयी जानकारी है। कृपया निवेश से पहले अपनी सूझबूझ और समझदारी का इस्तेमाल जरूर करें। इसमें प्रकाशित सामग्री की जिम्मेदारी संस्थान की नहीं है। 

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘PUNJAB KESARI’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOK, INSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

three × 5 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।