आदित्य ठाकरे ने लिखी देवड़ा के कांग्रेस छोड़ने की पटकथा - Latest News In Hindi, Breaking News In Hindi, ताजा ख़बरें, Daily News In Hindi

लोकसभा चुनाव 2024

पहला चरण - 19 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

102 सीट

दूसरा चरण - 26 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

89 सीट

तीसरा चरण - 7 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

94 सीट

चौथा चरण - 13 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

96 सीट

पांचवां चरण - 20 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

49 सीट

छठा चरण - 25 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

सातवां चरण - 1 जून

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

दूसरा चरण - 26 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

89 सीट

आदित्य ठाकरे ने लिखी देवड़ा के कांग्रेस छोड़ने की पटकथा

दक्षिण मुंबई के गिरगांव में शिवसेना नेता उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य की रैली वह कारण साबित हुई जिसके कारण गांधी परिवार के पारिवारिक मित्र मिलिंद देवड़ा को कांग्रेस छोड़नी पड़ी। मिलिंद देवड़ा ने गेन (विकास, आकांक्षा, समावेशिता और राष्ट्रवाद) की राजनीति करने पर ध्यान लगाया, न कि पेन (व्यक्तिगत हमले, अन्याय और नकारात्मकता) की राजनीति पर। गांधी परिवार और कांग्रेस का साथ छोड़ने के पीछे उनका अपना स्वार्थी मकसद है। वह कांग्रेस से शिंदे गुट के साथ शिवसेना में शामिल हुए हैं। वह जानते थे कि उन्हें दक्षिण मुंबई निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव लड़ने के लिए कांग्रेस का टिकट नहीं मिलने वाला है, जहां वह रहते हैं और जिसका उन्होंने और उनके दिवंगत पिता मुरली देवड़ा ने दशकों तक पालन-पोषण किया था। और इसका संकेत किसी और से नहीं बल्कि उनकी हालिया रैली के दौरान आदित्य ठाकरे से मिला। ठाकरे जूनियर ने भीड़ से दक्षिण मुंबई से शिवसेना के मौजूदा सांसद अनंत सावंत का समर्थन करने और आगामी लोकसभा चुनाव में उन्हें फिर से चुनने का आग्रह किया।देवड़ा ने दीवार पर लिखी इबारत पढ़ी। कांग्रेस, ठाकरे की सेना और एनसीपी के साथ महा विकास अघाड़ी का हिस्सा है। शिवसेना के सावंत ने 2014 और 2019 में लगातार दो बार दक्षिण मुंबई सीट जीती है। दिलचस्प बात यह है कि दोनों बार उन्होंने कांग्रेस उम्मीदवार के रूप में लड़े देवड़ा को हराया। उन दोनों चुनावों में देवड़ा के लिये कोई परेशानी नहीं थी क्योंकि उस समय शिवसेना का भाजपा के साथ समझौता था। देवड़ा को एहसास हुआ कि वह उस निर्वाचन क्षेत्र पर दावा नहीं कर सकते जो अब शिवसेना के पास है। और वह समझ गए कि कांग्रेस उनके लिए नहीं लड़ेगी। और इस तरह दशकों की दोस्ती और वफादारी ख़त्म हो गई और मिलिंद देवड़ा ने पाला बदलने में ही अपना हित दिया।
राजनीतिज्ञ होने के साथ लेखक भी हैं ममता बनर्जी
हम जानते थे कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी एक राजनीतिज्ञ होने के साथ-साथ एक चित्रकार भी थीं। लेकिन कम ही लोग जानते हैं कि वह एक लेखिका भी हैं और इस क्षेत्र में बहुत कुशल हैं। अब तक, उन्होंने 141 किताबें लिखी हैं, जिनमें से पांच आगामी कोलकाता पुस्तक मेले में जारी होने वाली हैं। उनके रिकॉर्ड की तुलना उनके पूर्ववर्ती सीपीआई (एम) नेता बुद्धदेव भट्टाचार्य, से की जाती है। उनके नाम 19 किताबें हैं। उनकी सूची में नोबेल पुरस्कार विजेता और मैक्सिकन लेखक गेब्रियल गार्सिया मार्केज़ के नौ अनुवाद शामिल हैं। उनके समर्थक इस बात से आश्चर्यचकित हैं कि बनर्जी अपनी प्रशासनिक और राजनीतिक जिम्मेदारियों और मोदी सरकार के साथ अपनी हाई-वोल्टेज लड़ाई के बीच भी लिखने के लिए समय निकाल लेती हैं। लेकिन वह यह सुनिश्चित करती है कि हर साल कम से कम एक, यदि अधिक नहीं, तो नई किताब जारी हो। उनके अधिकांश लेखन राजनीतिक हैं और सीएए, एनआरसी, संविधान आदि जैसे समसामयिक मुद्दों से संबंधित हैं। पुस्तक मेले में रिलीज होने वाली उनकी नवीनतम पुस्तकें भारत के इतिहास और विरासत पर हैं।
अब राशन दुकानों को लेकर केंद्र-ममता में टकराव
पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और मोदी सरकार के बीच एक बार फिर विवाद हो गया है, इस बार राशन की दुकानों पर प्रधानमंत्री की तस्वीरें प्रदर्शित करने से पूर्व मुख्यमंत्री के इनकार को लेकर विवाद गहराया है। बंगाल सरकार की इस अवज्ञा के कारण, केंद्र सरकार ने किसानों को धान खरीद के जारी होने वाली 7,000 करोड़ रुपये की राशि रोक ली है। जब तक टकराव का जल्द समाधान नहीं होता, बंगाल के किसानों के पास बिना बिके धान रह जाएगा या राज्य सरकार अनाज खरीदने के लिए पैसे उधार लेगी तो वह कर्ज में डूब जाएगी। केंद्र सरकार ने सभी राज्य सरकारों को राशन की दुकानों पर नरेंद्र मोदी की तस्वीरों के साथ राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के लोगो वाले साइनबोर्ड प्रदर्शित करने का निर्देश दिया है।बनर्जी की सरकार उन कुछ में से एक है जिसने अभी तक इसका अनुपालन नहीं किया है।
शैलजा और हुड्डा में खुल कर दिखी ‘दरार’
आम चुनाव बस कुछ ही महीने दूर हैं लेकिन हरियाणा कांग्रेस में अंदरूनी कलह खुलकर सामने आ गई है। प्रतिद्वंद्वी कुमारी शैलजा और पूर्व मुख्यमंत्री भूपिंदर हुड्डा ने समानांतर यात्राएं शुरू की हैं और दोनों दावा कर रहे हैं कि वे उन विचारों को बढ़ावा दे रहे हैं जिन्हें राहुल गांधी अपनी भारत जोड़ो न्याय यात्रा के माध्यम से फैला रहे हैं। शैलजा ने अपनी यात्रा को कांग्रेस संदेश यात्रा कहा है जबकि हुड्डा की यात्रा का नाम घर-घर कांग्रेस, हर घर कांग्रेस है। शैलजा का कांग्रेस महासचिव रणदीप सिंह सुरजेवाला और हरियाणा की पूर्व मंत्री किरण चौधरी खुले तौर पर समर्थन कर रहे हैं, जबकि हरियाणा के प्रभारी कांग्रेस महासचिव दीपक बाबरिया हुड्डा की यात्रा के समर्थन में सामने आए हैं। बाबरिया ने एक बयान जारी कर कांग्रेस कार्यकर्ताओं से कहा कि वे भ्रमित न हों और संदेश यात्रा में शामिल हों। आश्चर्य है कि गांधी परिवार ने महत्वपूर्ण चुनाव की पूर्व संध्या पर हरियाणा जैसे राज्य में इस दरार को रोकने के लिये प्रयासरत भी नहीं दिख रहा है।

 – आर.आर. जैरथ 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

20 + 8 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।