राजनैतिक कठिनाइयाँ और राम मंदिर की विजय के बीच लाल कृष्ण आडवाणी की गौरवशाली यात्रा

भारतीय राजनीति के दिग्गज नेता लाल कृष्ण आडवाणी ने देश के राजनीतिक परिदृश्य पर एक अमित छाप छोड़ी है। 8 नवंबर, 1927 को कराची (अब पाकिस्तान में) में जन्मे, सार्वजनिक सेवा में उनकी यात्रा समर्पण, चुनौतियों और महत्वपूर्ण उपलब्धियों से भरी रही है। आडवाणी का राजनीतिक करियर 1950 के दशक की शुरुआत में शुरू हुआ, जब वह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) में शामिल हो गए और इसकी गतिविधियों में सक्रिय रूप से शामिल हो गए। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की पूर्ववर्ती भारतीय जनसंघ (बीजेएस) के साथ उनके जुड़ाव ने उनकी लंबी और शानदार राजनीतिक यात्रा की शुरुआत को चिह्नित किया।

  Highlights 

  • छवि को आकार देने और मजबूत करने में महत्वपूर्ण भूमिका  
  • राजनीतिक ताकत के रूप में स्थापित करने में मदद 
  • 1990 के दशक की शुरुआत में राम जन्मभूमि आंदोलन 

 

छवि को आकार देने और मजबूत करने में महत्वपूर्ण भूमिका

adwani11

लाल कृष्ण आडवाणी ने भारत में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की छवि को आकार देने और मजबूत करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। पार्टी के संस्थापक सदस्य के रूप में, उन्होंने हिंदुत्व और राष्ट्रवाद पर आधारित इसकी वैचारिक नींव बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। आडवाणी की कुशल राजनीतिक रणनीति और संगठनात्मक कौशल ने पार्टी के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया। उन्होंने महत्वपूर्ण चरण के दौरान पार्टी अध्यक्ष के रूप में कार्य किया, आंतरिक एकजुटता को बढ़ावा दिया और देश भर में इसके पदचिह्न का विस्तार किया। 1990 और 2000 के दशक की शुरुआत में भाजपा की सफलता, जिसमें 1998 में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) सरकार का गठन भी शामिल है, का श्रेय कुछ हद तक आडवाणी की रणनीतिक दृष्टि और नेतृत्व को दिया जा सकता है।

राजनीतिक ताकत के रूप में स्थापित करने में मदद

advani

एक मजबूत और निर्णायक सरकार पर उनके जोर के साथ-साथ मूल सिद्धांतों के प्रति अटूट प्रतिबद्धता ने भाजपा को एक विश्वसनीय राजनीतिक ताकत के रूप में स्थापित करने में मदद की। उपप्रधानमंत्री के रूप में आडवाणी के कार्यकाल ने गठबंधन राजनीति में पार्टी की स्थिति को और मजबूत किया, जिससे इसकी विशिष्ट पहचान को बरकरार रखते हुए विभिन्न राजनीतिक संस्थाओं के साथ सहयोग करने की क्षमता का प्रदर्शन हुआ। आडवाणी के भाजपा को एक सक्रिय और परिवर्तनकारी एजेंडे वाली पार्टी के रूप में पेश करने के प्रयासों ने स्थायी प्रभाव छोड़ा। चुनौतीपूर्ण समय में पार्टी को आगे बढ़ाने में उनकी भूमिका के साथ-साथ वैचारिक सिद्धांतों के प्रति उनकी प्रतिबद्धता ने भारत में एक प्रमुख राजनीतिक ताकत के रूप में भाजपा के उभरने में महत्वपूर्ण योगदान दिया। शासन, विकास और राष्ट्रीय गौरव की वकालत करने वाली पार्टी के रूप में भाजपा की छवि काफी हद तक आडवाणी के रणनीतिक कौशल और स्थायी प्रभाव का प्रतिबिंब है।

1990 के दशक की शुरुआत में राम जन्मभूमि आंदोलन

rath yatra

आडवाणी के करियर के निर्णायक क्षणों में से एक 1980 के दशक के अंत और 1990 के दशक की शुरुआत में राम जन्मभूमि आंदोलन में उनकी भागीदारी थी। 1990 में रथ यात्रा के नेता के रूप में, उन्होंने भगवान राम की जन्मभूमि माने जाने वाले अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के लिए समर्थन जुटाने के लिए अथक प्रयास किए। इस आंदोलन ने जबरदस्त गति पकड़ी और भारतीय राजनीति में एक ऐतिहासिक क्षण बन गया, जिसने आने वाले वर्षों के लिए राजनीतिक कथानक को आकार दिया। हालाँकि, इस आंदोलन को 1992 में अयोध्या में बाबरी मस्जिद के विध्वंस के लिए आलोचना का भी सामना करना पड़ा, जो विवाद को लेकर बढ़े तनाव के दौरान हुआ था। साइट से दूर रहने के बावजूद, आडवाणी को जांच का सामना करना पड़ा और उन पर विभाजनकारी एजेंडे को बढ़ावा देने का आरोप लगाया गया। इस घटना का देश के सामाजिक-राजनीतिक ताने-बाने पर गहरा प्रभाव पड़ा।

भारत के उपप्रधानमंत्री के रूप में कार्य

up cm

2002 से 2004 तक उन्होंने भाजपा के भीतर विभिन्न प्रमुख पदों पर कार्य किया और भारत के उपप्रधानमंत्री के रूप में कार्य किया। पार्टी लाइनों से परे, उन्होंने गठबंधन की राजनीति और नीतिगत निर्णयों में भी योगदान दिया। हाल के वर्षों में, आडवाणी के प्रयास अयोध्या में एक भव्य राम मंदिर की प्राप्ति की ओर बढ़ गए। 2019 में सुप्रीम कोर्ट के फैसले ने मंदिर के निर्माण का मार्ग प्रशस्त किया, जिससे एक लंबी कानूनी लड़ाई का अंत हुआ। मंदिर के लिए आडवाणी की लगातार वकालत इस मुद्दे के प्रति उनकी अटूट प्रतिबद्धता को दर्शाती है। एक अनुभवी राजनीतिज्ञ और राजनेता के रूप में, लाल कृष्ण आडवाणी की यात्रा भारतीय राजनीति के गतिशील विकास को दर्शाती है। उनके योगदान ने, उनके सामने आने वाली चुनौतियों के साथ, देश के सामाजिक-राजनीतिक परिदृश्य पर एक स्थायी प्रभाव छोड़ा है। चाहे राम जन्मभूमि आंदोलन के लिए याद किया जाए या भाजपा को आकार देने में उनकी भूमिका के लिए, आडवाणी आधुनिक भारत की कहानी में एक महत्वपूर्ण व्यक्ति बने हुए हैं।

 

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘PUNJAB KESARI’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOK, INSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

seven + 8 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।