लोकसभा चुनाव 2024

पहला चरण - 19 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

102 सीट

दूसरा चरण - 26 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

89 सीट

तीसरा चरण - 7 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

94 सीट

चौथा चरण - 13 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

96 सीट

पांचवां चरण - 20 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

49 सीट

छठा चरण - 25 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

सातवां चरण - 1 जून

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

लोकसभा चुनाव पहला चरण - 19 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

102 सीट

पीएम मोदी की यूएई यात्रा से रणनीतिक और कूटनीतिक संबंधों को मिली नई ऊंचाईयां

‘बसंत पंचमी’ का शुभ अवसर भारतीय कूटनीति के इतिहास में एक अनोखे और यादगार दिन के रूप में दर्ज हो गया, क्योंकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को संयुक्त अरब अमीरात के अबू धाबी में पहले ‘हिंदू मंदिर’ का उद्घाटन किया। यह अरब जगत के एक महत्वपूर्ण देश में भारत के सांस्कृतिक पदचिह्न के विस्तार का प्रतीक है।
दुनिया के अन्य हिस्सों में भी भारत की बढ़ती उपस्थिति
जब ‘वैश्विक आरती’ हुई तो यह सब न केवल संयुक्त अरब अमीरात में, बल्कि दुनिया के अन्य हिस्सों में भी भारत की ‘बढ़ती उपस्थिति और प्रभाव’ का एक प्रदर्शन था।
पूरी दुनिया एक परिवार है – पीएम मोदी
पूरे कार्यक्रम ने पीएम मोदी की कूटनीति के वसुधैव कुटुंबकम (पूरी दुनिया एक परिवार है) पर ध्यान केंद्रित करने की पुष्टि की।
बीएपीएस हिंदू मंदिर में एक पत्थर पर वसुधैव कुटुंबकम का संदेश
उन्होंने बीएपीएस हिंदू मंदिर में एक पत्थर पर वसुधैव कुटुंबकम का संदेश अंकित करके इसे रेखांकित किया।
वह एक परिवार के रूप में अरब जगत के साथ भारत के व्यापक जुड़ाव का संदेश देने में सफल रहे। स्पष्ट संदेश यह था कि वह केवल शब्दों में विश्‍वास नहीं करते, बल्कि कार्य करने में विश्‍वास करते हैं।
भारत और यूएई के बीच संबंध
निश्चित रूप से, पीएम मोदी की मंदिर कूटनीति ने भारत और यूएई के बीच संबंधों को मजबूत किया है, जिससे संबंध काफी ऊंचे स्तर पर पहुंच गए हैं। लेकिन बड़ा संदेश पूरे मध्य पूर्व और खाड़ी के लिए भी था। इसका उद्देश्य क्षेत्र के अन्य इस्लामिक देशों तक पहुंच बढ़ाना था।
आठ भारतीय पूर्व नौसैनिकों की रिहाई
तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था होने के कारण संयुक्त अरब अमीरात का मध्य पूर्व में अच्छा दबदबा है। दोहा (कतर) में जासूसी के आरोप में पकड़े गए आठ भारतीय पूर्व नौसैनिकों की रिहाई भी इस तथ्य की पुष्टि थी कि पीएम मोदी की कूटनीति इस क्षेत्र में अत्यधिक प्रभावी और शक्तिशाली है।
दोहा से नौसेना के दिग्गजों की रिहाई
अबू धाबी में बीएपीएस हिंदू मंदिर का उद्घाटन दोहा से नौसेना के दिग्गजों की रिहाई के तुरंत बाद हुआ।
यूएई यात्रा के समापन के तुरंत बाद पीएम मोदी कतर के अमीर के प्रति व्यक्तिगत रूप से आभार व्यक्त करने के लिए दोहा भी जाएंगे, जो दोहा के साथ संबंधों को मजबूत करने के लिए प्रधान मंत्री द्वारा एक और महत्वपूर्ण राजनयिक अभ्यास होगा।
पीएम मोदी की ‘मंदिर कूटनीति’ से भारत-यूएई संबंधों को मिला बढ़ावा
इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता है कि पीएम मोदी की यूएई यात्रा से रणनीतिक और कूटनीतिक संबंधों को नई ऊंचाईयां मिली हैं, जिसका खाड़ी के साथ दिल्ली के संबंधों पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा।
आख़िर किसी ने सोचा भी नहीं होगा कि एक इस्लामिक देश में इतना विशाल मंदिर बनेगा, लेकिन पीएम मोदी के कूटनीतिक प्रयासों के परिणामस्वरूप यह संभव हो सका।
यह केवल एक सांस्कृतिक कार्यक्रम नहीं था, जहां संयुक्त अरब अमीरात में मंदिर का अनावरण किया गया था, बल्कि यह विभिन्न परियोजनाओं को ध्यान में रखते हुए क्षेत्र में एक बड़ी भूमिका निभाने की पीएम मोदी की बड़ी राजनयिक योजनाओं को भी दर्शाता है।
पीएम मोदी की यूएई में उनकी सातवीं यात्रा
इसे अबू धाबी के लिए एक महत्वपूर्ण राजनयिक संदेश के रूप में देखा गया, पीएम मोदी ने कहा कि यह यूएई की उनकी सातवीं यात्रा थी। 2015 में यूएई की उनकी यात्रा 34 वर्षों में किसी भारतीय प्रधानमंत्री की पहली यात्रा थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

17 + 15 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।