लद्दाख : भूस्खलन की चपेट में आए सेना के तीन वाहन, 6 जवानों की मौत

उत्तराखंड के उत्तरकाशी में हिमस्खलन के बाद लद्दाख में भूस्खलन हुआ है। प्राकृतिक आपदा में सेना के 6 जवानों की मौत की खबर सामने आई है।

उत्तराखंड के उत्तरकाशी में हिमस्खलन (Avalanche) के बाद लद्दाख में भूस्खलन (Landslide) हुआ है। प्राकृतिक आपदा में सेना के 6 जवानों की मौत की खबर सामने आई है। अब तक मिली जानकारी के मुताबिक, सेना की तीनों गाड़ियां लद्दाख से आगे जा रही थीं, इसी दौरान भूस्खलन हो गया।
उत्तरकाशी में जारी है रेस्क्यू 
उत्तराखंड के उत्तरकाशी में मंगलवार को आए हिमस्खलन (Avalanche) के 80 घंटे बीत जाने के बाद भी कई जिंदगियां बर्फ में दबी हुई हैं। अब तक द्रौपदी के डांडा-2 पर्वत चोटी से 19 शव बरामद किए जा चुके हैं। जानकारी के मुताबिक, अभी तक 10 लोगों के फंसे होने की आशंका है। 
4 अक्टूबर 2022 को DCR उत्तरकाशी द्वारा SDRF उत्तराखंड को सूचित किया गया कि जनपद उत्तरकाशी में नेहरू पर्वतारोहण संस्थान (निम) में प्रशिक्षार्थी वहां फंसे हुए है। रेस्क्यू एजेंसियों ने बताया कि उत्तरकाशी के डोकरानी बामक ग्लेशियर में हिमस्खलन हुआ है।
ट्रैकर्स को बचाने के लिए भारतीय सेना ने हज़ारों फीट की उंचाई पर आधुनिक ताकत के साथ हेलिकॉप्टर ग्राउंड भी तैयार किया गया, जिस पर गुरुवार को सेना ने बचाव के लिए पूरी तरह से सुरक्षित तरीके से सफलता पूर्वक लैंडिग की गई। सेना ने अपने कई हेलिकॉप्टर को बचाव कार्य के लिए भेजा गया है। सेना के जवान ट्रैकर्स को बचाने के लिए जुटे हुए हैं।
खराब मौसम के चलते सेना को रेस्क्यू ऑपरेशन में काफी दिक्कत का सामना करना पद रहा है। गुरुवार को भी खराब मौसम ने रेस्क्यू ऑपरेशन को प्रभावित किया था। आईटीबीपी के जवान बरामद लाशों को बेस कैंप में लाकर सुरक्षित स्थान पर रख रही है। बर्फीली तूफान के कारण त्रासदी की जद में फंसे पर्वतारोहियों को बचाने के लिए सेना के जवान युद्धस्तर पर प्रयास कर रहे हैं। 
रेस्क्यू ऑपरेशन में एनडीआरएफ के साथ -साथ राज्य डीआरएफ, हाई एल्टीट्यूड वारफेयर स्कूल और जम्मू-कश्मीर के गुलमर्ग के विशेषज्ञों की एक टीम कर रही। इनके साथ ही इंडियन व तिब्बत पुलिस भी राहत बचाव कार्य में जुटे हुए हैं।    

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

four × four =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।