महामारी की दूसरी लहर में ‘काल के गाल’ में समाए 719 डॉक्टर, अकेले बिहार में हुई 111 की मौत

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) की ताजा रिपोर्ट के अनुसार अब तक 719 डॉक्टरों की दूसरी लहर में कोरोना संक्रमण से मौत हुई है।

देश में कोरोना महामारी की दूसरी लहर का प्रकोप भले ही थम गया हो, लेकिन मौत का आंकड़ा अभी कम नहीं हुआ है। ऐसे में संक्रमण से लोगों को बचाने में जुटे डॉक्टर भी अपनी जान गवा रहे हैं। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) की ताजा रिपोर्ट के अनुसार अब तक 719 डॉक्टरों की दूसरी लहर में कोरोना संक्रमण से मौत हुई है।
इसमें सबसे अधिक बिहार के डॉक्टर शामिल हैं। बिहार में कोरोना की दूसरी लहर के दौरान 111 डॉक्टरों की जान गई है। आईएमए के मुताबिक इस तरह से कोरोना संक्रमण की दोनों लहरों में कुल 1467 डॉक्टरों की मृत्यु हुई है। यदि पिछले लहर की बात करें तो 748 डॉक्टरों की जान गई थी।

देश में पिछले 70 दिन में कोरोना के सबसे कम मामलों की पुष्टि, 24 घंटे में 84,332 नए केस

बिहार के बाद दिल्ली ऐसा राज्य है जिधर अधिक डॉक्टरों की मौतें दर्ज की गई हैं यदि आंकड़ों की बात करें तो दिल्ली में 109, उत्तर प्रदेश में 79, राजस्थान-43, झारखंड-39 और आंध्रप्रदेश में 35 डॉक्टरों की जान गई हैं। हालांकि कुछ ऐसे राज्य भी है जिधर डॉक्टरो की जान न के बराबर हुई है जिनमें पुडुचेरी-1, त्रिपुरा -2, उत्तराखंड-2, गोवा-2 वहीं हरियाणा,जम्मू-कश्मीर और पंजाब में-3 डॉक्टरों की दूसरी लहर में संक्रमण के कारण मृत्यु हुई है।
आईएमए द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार, कोरोना की दूसरी लहर में अधिक्तर 30 वर्ष से 55 के डॉक्टरों की जान गई है, इनमें रेजिडेंट डॉक्टर, इंटर्नशिप करते डॉक्टर भी शामिल है। इसके अलावा कुछ गर्भवती महिला डॉकटरों की भी जान गई हैं। वहीं देशभर में कोरोना महामारी का ग्राफ अब लगातार गिर रहा है। स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा आंकड़ों के अनुसार, पिछले 24 घंटों में 84,332 नए कोरोना केस आए और 4002 संक्रमितों की जान चली गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

11 − 7 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।