भारत वर्तमान ही नहीं बल्कि अगले 25 वर्षों के लक्ष्य को लेकर नीतियां बना रहा है : PM मोदी - Latest News In Hindi, Breaking News In Hindi, ताजा ख़बरें, Daily News In Hindi

लोकसभा चुनाव 2024

पहला चरण - 19 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

102 सीट

दूसरा चरण - 26 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

88 सीट

तीसरा चरण - 7 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

94 सीट

चौथा चरण - 13 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

96 सीट

पांचवां चरण - 20 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

49 सीट

छठा चरण - 25 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

58 सीट

सातवां चरण - 1 जून

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

छठा चरण - 25 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

58 सीट

भारत वर्तमान ही नहीं बल्कि अगले 25 वर्षों के लक्ष्य को लेकर नीतियां बना रहा है : PM मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को कहा कि भारत वर्तमान ही नहीं बल्कि अगले 25 वर्षों के लक्ष्य को लेकर नीतियां बना रहा है और विकास का यह कालखंड हरित, स्वच्छ, टिकाऊ तथा भरोसेमंद भी होगा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को कहा कि भारत वर्तमान ही नहीं बल्कि अगले 25 वर्षों के लक्ष्य को लेकर नीतियां बना रहा है और विकास का यह कालखंड हरित, स्वच्छ, टिकाऊ तथा भरोसेमंद भी होगा। 
विश्व आर्थिक मंच के दावोस एजेंडा में वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से ‘‘विश्व की वर्तमान स्थिति’’ (स्टेट ऑफ द वर्ल्ड) पर अपने विशेष संबोधन में प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि इस कालखंड में भारत ने उच्च विकास के, कल्याण और बेहतर स्वास्थ्य के उच्च संतुष्टि लक्ष्य रखे हैं। 
कोरोना संक्रमण काल में भारत ने पूरी दुनिया को ‘‘उम्मीदों का गुलदस्ता’’ जैसा एक खूबसूरत उपहार दिया है -PM
उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण काल में भारत ने पूरी दुनिया को ‘‘उम्मीदों का गुलदस्ता’’ जैसा एक खूबसूरत उपहार दिया है, जिसमें भारतीयों का लोकतंत्र पर अटूट विश्वास, 21वीं सदी को सशक्त करने वाली प्रौद्योगिकी, भारतीयों का मिजाज और उनकी प्रतिभा शामिल है। 
भारत अनेकों देशों को जरूरी दवाइयां और टीके देकर करोड़ों लोगों का जीवन बचा रहा है – PM
मोदी ने यह भी कहा कि कोरोना के इस समय में भारत ‘वन अर्थ, वन हेल्थ’’ की दृष्टि पर चलते हुए अनेकों देशों को जरूरी दवाइयां और टीके देकर करोड़ों लोगों का जीवन बचा रहा है। 
प्रधानमंत्री ने कहा कि जब से कोरोना महामारी की शुरुआत हुई तब से भारत में 80 करोड़ लोगों को मुफ्त भोजन दिया जा रहा है। 
उन्होंने कहा, ‘‘शायद दुनिया में इस प्रकार का यह सबसे बड़ा कार्यक्रम होगा। हमारी कोशिश है कि संकट के कालखंड में गरीब से गरीब की चिंता सबसे पहले हो। इस दौरान हमने सुधार पर भी जोर दिया। सुधार के लिए हमारे कदमों को लेकर दुनिया के अर्थशास्त्री भी भरपूर सराहना कर रहे हैं। भारत बहुत मजबूती से आगे बढ़ रहा है।’’ 
प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत पूरी सजगता और सतर्कता से कोरोना की एक और लहर से आज मुकाबला कर रहा है लेकिन इसके बावजूद आर्थिक क्षेत्र में भी आशावादी परिणामों के साथ वह आगे बढ़ रहा है। 
उन्होंने कहा, ‘‘भारत में आज अपनी आजादी के 75 वर्ष होने का उत्साह भी है और भारत आज सिर्फ एक साल में ही 160 करोड़ कोरोना रोधी खुराक देने के आत्मविश्वास से भी भरा हुआ है।’’ 
भारत जैसे मजबूत लोकतंत्र ने पूरे विश्व को एक खूबसूरत उपहार दिया – PM
मोदी ने कहा, ‘‘भारत जैसे मजबूत लोकतंत्र ने पूरे विश्व को एक खूबसूरत उपहार दिया है और वह उपहार है बुके ऑफ होप। इस बुके में है हम भारतीयों का लोकतंत्र पर अटूट विश्वास। इस बुके में है 21वीं सदी को सशक्त करने वाली प्रौद्योगिकी। इस बुके में है हम भारतीयों का टेंपरामेंट और हम भारतीयों की प्रतिभा।’’ 
प्रधानमंत्री ने कहा कि जिस बहुभाषी और बहुसांस्कृतिक माहौल में भारतीय रहते हैं, वह भारत ही नहीं बल्कि पूरे विश्व की बहुत बड़ी ताकत है और यह ताकत संकट की घड़ी में सिर्फ अपने लिए सोचना नहीं बल्कि मानवता के हित में काम करना सिखाती है। 
आज भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा फार्मा प्रोड्यूसर है – PM
उन्होंने कहा, ‘‘वन अर्थ, वन हेल्थ की दृष्टि पर चलते हुए अनेक देशों को हम जरूरी दवाइयां देकर, टीके देकर करोड़ों लोगों का जीवन बचा रहे हैं। आज भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा फार्मा प्रोड्यूसर है.. फार्मेसी टू वर्ल्ड है। आज भारत उन देशों में है, जहां के स्वास्थ्य पेशेवर, जहां के डॉक्टर अपनी संवेदनशीलता और विशेषज्ञता से सबका भरोसा जीत रहे हैं।’’ 
आज भारत दुनिया में रिकॉर्ड सॉफ्टवेयर इंजीनियर भेज रहा है, – प्रधानमंत्री
प्रधानमंत्री ने कहा कि आज भारत दुनिया में रिकॉर्ड सॉफ्टवेयर इंजीनियर भेज रहा है, 50 लाख से ज्यादा सॉफ्टवेयर विकसित करने वाले भारत में काम कर रहे हैं। 
उन्होंने कहा कि आज भारत में दुनिया में तीसरे नंबर के सबसे ज्यादा यूनिकोर्न हैं और 10 हजार से ज्यादा स्टार्टअप्स पिछले छह महीने में पंजीकृत हुए हैं। 
आज भारत के पास विश्व का बड़ा, सुरक्षित और सफल डिजिटल लेन-देन का मंच है – PM मोदी
मोदी ने कहा, ‘‘आज भारत के पास विश्व का बड़ा, सुरक्षित और सफल डिजिटल लेन-देन का मंच है और भारत में यूपीआई के माध्यम से 4.4 अरब लेन-देन हुए हैं। आज भारत व्यवसाय की सुगमता को बढ़ावा दे रहा है, सरकार के दखल को कम से कम कर रहा है। भारत ने अपनी व्यावसायिक कर दरों को सरलीकृत करके, कम करके, उसे दुनिया में सबसे प्रतियोगी बनाया है।’’ 
प्रधानमंत्री ने कहा कि भारतीयों में नवोन्मेष और नयी प्रौद्योगिकी को अपनाने की जो क्षमता है और उद्यमिता की जो भावना है वह हर वैश्विक साझेदार को नई ऊर्जा दे सकती है। 
उन्होंने कहा, ‘‘इसलिए भारत में निवेश का यह सबसे सर्वश्रेष्ठ समय है।’’ 
मोदी ने कहा कि गहरे आर्थिक सुधार को लेकर भारत की प्रतिबद्धता एक और बड़ा कारण है जो आज भारत को निवेश के लिए सबसे आकर्षक लक्ष्य बना रहा है। 
उन्होंने कहा, ‘‘कोरोना काल में भारत ने सुधार का रास्ता सशक्त किया। डिजिटल और फिजिकल संसाधनों को आधुनिक बनाने की सबसे बड़ी परियोजनाओं को कोरोना काल में ही अभूतपूर्व गति दी गई। देश के छह लाख से ज्यादा गांवों को ऑप्टिकल फाइबर से जोड़ा जा रहा है। विशेष रूप से संपर्क से जुड़े संसाधनों पर 1.3 ट्रिलियन डॉलर का निवेश किया जा रहा है।’’  
आज 14 क्षेत्रों में 26 अरब डॉलर की प्रोत्साहन आधारित योजनाएं लागू की गई – प्रधानमंत्री
प्रधानमंत्री ने कहा कि आत्मनिर्भरता के रास्ते पर चलते हुए भारत का फोकस सिर्फ प्रक्रियाओं को आसान करने पर ही नहीं है, बल्कि निवेश और उत्पादन को प्रोत्साहित करने पर भी जोर है और यही वजह है कि आज 14 क्षेत्रों में 26 अरब डॉलर की प्रोत्साहन आधारित योजनाएं लागू की गई हैं। 
उन्होंने कहा, ‘‘आज भारत वर्तमान के साथ ही अगले 25 वर्षों के लक्ष्य को लेकर नीतियां बना रहा है, निर्णय ले रहा है। इस कालखंड में भारत ने उच्च विकास के, कल्याण और बेहतर स्वास्थ्य के उच्च संतुष्टि लक्ष्य रखे हैं। विकास का यह कालखंड हरित भी होगा, स्वच्छ भी होगा, टिकाऊ भी होगा और भरोसेमंद भी होगा।’’ 
प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन के दौरान जलवायु परिवर्तन की चुनौतियों का भी उल्लेख किया और कहा कि जीवनशैली भी इसके लिए बड़ी चुनौती है। 
उन्होंने कहा, ‘‘लापरवाही की संस्कृति और उपभोक्तावाद ने जलवायु परिवर्तन को और गंभीर बना दिया है। आज की जो ‘टेक-मेक-यूज-डिस्पोज’ अर्थव्यवस्था है, उसको तेज़ी से चक्रीय अर्थव्यवस्था की तरफ बढ़ाना बहुत ज़रूरी है 
मोदी ने कहा, ‘‘आज विश्व व्यवस्था में बदलाव के साथ ही एक वैश्विक परिवार के तौर पर हम जिन चुनौतियों का सामना करते रहे हैं, वो भी बढ़ रही हैं। इनसे मुकाबला करने के लिए हर देश, हर वैश्विक एजेंसी द्वारा सामूहिक कार्रवाई की जरूरत है।’’ 
क्रिप्टोकरेंसी को भी एक बड़ी चुनौती करार देते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि जिस तरह की प्रौद्योगिकी इससे जुड़ी है, उसमें किसी एक देश द्वारा लिए गए फैसले इसकी चुनौतियों से निपटने में अपर्याप्त होंगे। 
उन्होंने कहा, ‘‘हमें एक समान सोच रखनी होगी। लेकिन आज वैश्विक परिदृष्य को देखते हुए, सवाल यह भी है कि बहुद्देशीय संस्थाओं, नए वर्ल्ड ऑर्डर और नई चुनौतियों से निपटने के लिए तैयार हैं क्या? वह सामर्थ्य बचा है क्या?’’ 
जब ये संस्थाएं बनी थीं तब स्थितियां कुछ और थीं तथा आज परिस्थितियां कुछ और हैं – PM
मोदी ने कहा कि जब ये संस्थाएं बनी थीं तब स्थितियां कुछ और थीं तथा आज परिस्थितियां कुछ और हैं। 
उन्होंने कहा, ‘‘इसलिए हर लोकतांत्रिक देश का यह दायित्व है कि इन संस्थाओं में सुधार पर बल दे ताकि इन्हें वर्तमान और भविष्य की चुनौतियों से निपटने में सक्षम बनाया जा सके।’’ 
मोदी ने विश्वास जताया कि दावोस में हो रही चर्चाओं में इस दिशा में भी सकारात्मक संवाद होगा। 
यह वर्चुअल कार्यक्रम 17 से 21 जनवरी, 2022 तक आयोजित किया जा रहा है। जापान के प्रधानमंत्री किशिदा फुमियो, यूरोपीय आयोग के अध्यक्ष उर्सुआ वॉन डेर लेयेन, ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन, इंडोनेशिया के राष्ट्रपति जोको विडोडो, इज़राइल के प्रधानमंत्री नफ्ताली बेनेट, चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग सहित विभिन्न राष्ट्राध्यक्ष भी इस कार्यक्रम को संबोधित करेंगे। 
इस कार्यक्रम में उद्योग जगत की शीर्ष हस्तियों, अंतरराष्ट्रीयय संगठनों और नागरिक समाज ने भी शिरकत की। दुनिया की वर्तमान महत्वपूर्ण चुनौतियों पर विचार-विमर्श करने के साथ ही और वह इनसे निपटने के तरीकों पर भी चर्चा करेंगे। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

one × 4 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।