टूरिस्ट प्लेस में बढ़ते कोरोना ने बढ़ाई टेंशन, इन राज्यों में कोरोना ने पकड़ी रफ्तार

हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर में 4.04 प्रतिशत, मंडी में 1.89 प्रतिशत और शिमला में कोविड-19 की दर 1.50 प्रतिशत दर्ज की गई है। जम्मू कश्मीर के बांदीपुरा में 3.30 प्रतिशत, डोडा में 1.64 प्रतिशत और अनंतनाग में यह 2.33 प्रतिशत है

 कोरोना की दूसरी लहर वाले दिन कोई याद नहीं करना चाहता. हर किसी ने अपनों को खो दिया. पहली लहर से ज्यादा खतरनाक दूसरी लहर थी। अस्पतालों में मारा मारी, ऑक्सीजन की कमी, दवाइयों के लिए लंबी-लंबी लाइनें…ये सब वो मनहूस यादें हैं जो भूलती नहीं. हालात अब सामान्य हो गए थे। स्कूल, कॉलेज, दफ्तर, बाजार सब पहले की तरह चल रही रहे थे कि चीन में इस वायरस का विकराल रूप देखा गया. देखते ही देखते यूरोप के कई देशों को अपनी चपेट में ले रहा है। इसको लेकर भारत अभी से अलर्ट है. क्रिसमस और नए साल में लोग अपने परिवार के साथ छु्ट्टियां मनाने बाहर जा रहे हैं। लेकिन कुछ आंकड़े यहां पर माथे पर चिंता की लकीरें छोड़ रहे हैं।
 दिल्ली एयरपोर्ट पर रविवार को लगातार दूसरे दिन भी इंटरनेशल फ्लाइट्स के पैसेंजर्स की रैंडम कोविड जांच जारी रही, जिनमें से कुछ यात्री संक्रमित पाये गये हैं. भारत में कोविड-19 की औसत राष्ट्रीय दर अभी 0.21 प्रतिशत के सामान्य स्तर पर है. ये राहत वाली बात है। लेकिन देश के तीन दर्जन जिलों में यह एक प्रतिशत से अधिक तथा आठ जिलों में पांच प्रतिशत से अधिक दर्ज की गई है। देश के राज्यों/प्रयोगशालाओं में भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (ICMR) के पोर्टल पर 16-22 दिसंबर के दौरान दर्ज किए गए आंकड़ों से यह जानकारी मिली है।
8 जिलों में 5 प्रतिशत से अधिक संक्रमण दर
देश के 684 जिलों के कोविड-19 संबंधी आंकड़ों के अनुसार भारत में आठ जिलों में कोरोना वायरस संक्रमण दर पांच प्रतिशत से अधिक है. इनमें अरुणाचल प्रदेश का लोहित (5.88 प्रतिशत), मेघालय का री भोई (9.09 प्रतिशत), राजस्थान का करौली (5.71 प्रतिशत) और गंगानगर (5.66 प्रतिशत), तमिलनाडु का डिंडिगुल (9.80 प्रतिशत) तथा उत्तराखंड का नैनीताल (5.66 प्रतिशत) शामिल हैं. अब आप इन जगहों को दोबारा पढ़िए. इनमें से ज्यादातर टूरिस्ट प्लेस हैं। जहां पर आमतौर पर इंसान छुट्टियां मनाने जाता है।
हिमाचल प्रदेश के कुल्लू में संक्रमण दर 14.29 प्रतिशत और उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग में 11.11 प्रतिशत दर्ज की गई. आंकड़ों के अनुसार, दिल्ली के दक्षिण-पूर्वी जिले में संक्रमण दर 1.13 प्रतिशत तथा दक्षिण गोवा में 1.10 प्रतिशत तथा उत्तराखंड के उत्तरकाशी में 2.67 प्रतिशत है। केरल के आठ जिलों में संक्रमण दर एक प्रतिशत से अधिक है. इसमें पथानामथिट्टा (2.30 प्रतिशत), कोट्टयम (2.16 प्रतिशत), कोलम (1.97 प्रतिशत), एर्नाकुलम (1.85 प्रतिशत), इडुकी (1.31 प्रतिशत), कन्नौर (1.29 प्रतिशत), तिरुवनंतपुरम (1.15 प्रतिशत) और कोझिकोड में 1.04 प्रतिशत संक्रमण दर दर्ज की गई है।
राजस्थान में कोरोना मामले
वहीं, राजस्थान के आठ जिलों में संक्रमण दर एक प्रतिशत से अधिक रही है. इसमें करौली (5.71 प्रतिशत), गंगानगर (5.66 प्रतिशत), नागौर (4.88 प्रतिशत), जयपुर (3.37 प्रतिशत), भारतपुर (1.85 प्रतिशत) चूरू (1.72 प्रतिशत), झुंझनू (1.59) और आमेर में यह दर 1.39 प्रतिशत दर्ज की गई है. कर्नाटक के बेंगलुरू शहरी क्षेत्र में संक्रमण दर 1.98 प्रतिशत है. 
हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर में 4.04 प्रतिशत
आंकड़ों के अनुसार, हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर में 4.04 प्रतिशत, मंडी में 1.89 प्रतिशत और शिमला में कोविड-19 की दर 1.50 प्रतिशत दर्ज की गई है. जम्मू कश्मीर के बांदीपुरा में 3.30 प्रतिशत, डोडा में 1.64 प्रतिशत और अनंतनाग में यह 2.33 प्रतिशत है. महाराष्ट्र के अकोला में 1.63 प्रतिशत, पुणे में 1.15 प्रतिशत तथा पंजाब के श्री मुख्तर साहिब में 1.15 प्रतिशत, पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद में संक्रमण दर 2.48 प्रतिशत दर्ज की गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

nine + 12 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।