ऑपरेशन थिएटर में Pre-Wedding फोटोशूट कराना डॉक्टर को पड़ा महंगा

Prewedding Shoot Hospital Operation

Prewedding Shoot Hospital Operation: सोशल मीडिया पर एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। जिससे लोगों के बीच गुस्सा फैल रहा है। हालांकि वीडियो देखने के बाद कर्नाटक सरकार ने तुरंत इस मामले पर कार्रवाई की।

Prewedding Shoot Hospital Operation

फोटोशूट कराना पड़ा महंगा

मामला कर्नाटक के चित्रदुर्ग जिले का बताया जा रहा है। यहां के एक सरकारी अस्पताल में कॉन्ट्रैक्ट के आधार पर काम करने वाले एक डॉक्टर को ऑपरेशन थियेटर में प्री-वेडिंग फोटोशूट करवाने के बाद नौकरी से रफा दफा कर दिया गया। यह पूरी घटना वीडियो (Prewedding Shoot Hospital Operation) में कैद हो गई और देखते ही देखते वीडियो वायरल हो गई। लोग वीडियो पर गुस्सा जताते दिखे। जिसके चलते कर्नाटक सरकार ने इस मामले पर तुरंत कार्रवाई की।

Untitled Project 17 6

वीडियो देख लगेगा सब सच

फुटेज में अधिकारियों द्वारा पहचाने गए डॉ। अभिषेक को एक मरीज की सर्जरी करते हुए दिखाया गया है, जबकि उनकी मंगेतर इस नकली ऑपरेशन में उनकी सहायता करती नजर आ रही है। कपल को चिकित्सा उपकरणों का इस्तेमाल करते हुए देखा जा सकता है और ऑपरेशन थिएटर की लाइट्स भी जल रही हैं। आपको वीडियो देखकर ऐसा लगेगा मानो सच में किसी (Prewedding Shoot Hospital Operation) मरीज का ऑपरेशन चल रहा है। इस दौरान कैमरापर्सन और तकनीशियनों को वीडियो में हंसते हुए देखकर सोशल मीडिया पर लोग भड़के हुए हैं। वीडियो देखकर ऐसा लग रहा है मानो फोटोशूट में ऐसा दिखाने की कोशिश की जा रही है कि शादी करने वाला कपल अस्पताल में ही कार्यरत है या फिर उनका पेशा ही चिकित्सा से जुड़ा है। वीडियो का समापन मॉक सर्जरी के बाद “रोगी” के बैठने और हंसने के साथ होता है।

Courtsey : वीडियो को एक्स पर @HateDetectors नाम के अकाउंट से शेयर किया गया

एक मंत्री ने दिया कुछ यूं रिएक्शन

मंत्री ने एक ट्वीट में लिखा, “चित्रदुर्ग के भारमसागर सरकारी अस्पताल के ऑपरेशन थिएटर में प्री-वेडिंग शूट करने वाले एक डॉक्टर को सेवा से बर्खास्त कर दिया गया है। सरकारी अस्पताल लोगों की स्वास्थ्य देखभाल के लिए हैं, न कि निजी काम के लिए। मैं डॉक्टरों की ऐसी अनुशासनहीनता बर्दाश्त नहीं कर सकता।” मंत्री ने आगे लिखा कि स्वास्थ्य विभाग में कर्तव्य निभाने वाले डॉक्टरों और कर्मचारियों (Prewedding Shoot Hospital Operation) सहित सभी अनुबंध कर्मचारियों को सरकारी सेवा नियमों के अनुसार अपने कर्तव्यों का पालन करना चाहिए। सरकारी अस्पतालों में इस तरह का दुर्व्यवहार न हो, इसके लिए मैंने पहले ही संबंधित डॉक्टरों और सभी कर्मचारियों को सावधान रहने के निर्देश दे दिए हैं।’ उन्होंने कहा, “हर किसी को कर्तव्य पालन पर ध्यान देना चाहिए, यह जानते हुए कि सरकार द्वारा सरकारी अस्पतालों को दी जाने वाली सुविधाएं आम लोगों की स्वास्थ्य देखभाल के लिए हैं।”

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘PUNJAB KESARI’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOK, INSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

twelve − 3 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।