अनिल मेनन बनेंगे नासा एस्ट्रोनॉट, बन सकते हैं चांद पर पहुंचने वाले पहले भारतीय - Latest News In Hindi, Breaking News In Hindi, ताजा ख़बरें, Daily News In Hindi

लोकसभा चुनाव 2024

पहला चरण - 19 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

102 सीट

दूसरा चरण - 26 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

88 सीट

तीसरा चरण - 7 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

94 सीट

चौथा चरण - 13 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

96 सीट

पांचवां चरण - 20 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

49 सीट

छठा चरण - 25 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

58 सीट

सातवां चरण - 1 जून

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

छठा चरण - 25 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

58 सीट

अनिल मेनन बनेंगे नासा एस्ट्रोनॉट, बन सकते हैं चांद पर पहुंचने वाले पहले भारतीय

अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा के अगले मून मिशन के तहत चंद्रमा पर मानव की वापसी होगी। इस बार अंतरिक्ष यात्री चंद्रमा पर पहले से ज्यादा समय बिताएंगे जहां से उनकी निगाहें मंगल पर होंगी। नासा ने अपने इस मिशन के लिए 10 नए अंतरिक्ष यात्रियों का चयन किया है। इसमें भारतीय मूल के अंतरिक्ष यात्री डॉ अनिल मेनन का नाम भी शामिल है

अमेरिकी वायु सेना में लेफ्टिनेंट कर्नल, भारतीय मूल के चिकित्सक अनिल मेनन को नासा ने नौ अन्य लोगों के साथ भविष्य के मिशन के लिए अंतरिक्ष यात्री के रूप में चुना है, अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी ने घोषणा की है।
डॉ. अनिल मेनन नासा के अर्टेमिस मिशन के तहत चांद पर जाने वाले होंगे पहले भारतवंशी
मेनन (45) का जन्म और पालनपोषण मिनिसोटा के मिनियापोलिस में यूक्रेनी और भारतीय माता-पिता द्वारा किया गया।
वह स्पेसएक्स के पहले फ्लाइट सर्जन थे, जिन्होंने नासा के स्पेसएक्स डेमो -2 मिशन के दौरान कंपनी द्वारा इंसानों को अंतरिक्ष में लॉन्च करने के पहले मिशन में मदद की और भविष्य के मिशनों के दौरान मानव प्रणाली का समर्थन करने के लिए एक चिकित्सा संगठन का निर्माण किया।
नासा ने 10 नए अंतरिक्ष यात्रियों का किया चयन 
नासा ने सोमवार को एक बयान में बताया कि उसने 10 नए अंतरिक्ष यात्रियों का चयन किया, जिनमें से आधे सैन्य पायलट हैं।
नासा ने 6 पुरुषों और 4 महिलाओं का दिया परिचय
अंतरिक्ष एजेंसी ‘नैशनल एरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन’ (नासा) ने ह्यूस्टन में एक समारोह के दौरान छह पुरुषों और चार महिलाओं का परिचय दिया। ह्यूस्टन ‘मिशन कंट्रोल एंड एस्ट्रोनॉट कोर’ का केन्द्र है। इसके लिए 12 हजार से अधिक लोगों ने आवेदन किया था। चयनित 10 लोगों की उम्र 30 से 40 वर्ष के बीच है, जिन्हें ‘स्पेसफ्लाइट’ में यात्रा करने के योग्य बनाने के लिए पहले दो साल का प्रशिक्षण दिया जाएगा।
नासा के प्रशासक बिल नेल्सन ने ह्यूस्टन में नासा के जॉनसन स्पेस सेंटर के पास एलिंगटन फील्ड में सोमवार (छह दिसंबर) के कार्यक्रम के दौरान, चार साल में पहली बार अंतरिक्षयात्रियों की नई कक्षा, 2021 के सदस्यों का परिचय कराया।
नेल्सन ने कहा, “आज हम 10 नए अन्वेषकों, आर्टिमिस पीढ़ी के 10 नए सदस्यों का नासा के 2021 अंतरिक्षयात्री प्रतिभागी कक्षा में स्वागत कर रहे हैं।”
ये प्रतिभागी जनवरी 2022 से दो साल के प्रशिक्षण के लिए जॉनसन पर रिपोर्ट करेंगे।
डॉ. अनिल मेनन पहले भी नासा के विभिन्न अभियानों के लिए क्रू फ़्लाइट सर्जन के रूप में दे चुके अपनी सेवा
मेनन ने पहले अंतरिक्ष यात्रियों को अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन तक ले जाने वाले विभिन्न अभियानों के लिए क्रू फ़्लाइट सर्जन के रूप में नासा की सेवा की थी।
कौन है डॉ. अनिल मेनन  
वह एक सक्रिय रूप से अभ्यास करने वाले आपातकालीन चिकित्सा विशेषज्ञ हैं, जो जंगल और एयरोस्पेस चिकित्सा में फेलोशिप प्रशिक्षण प्राप्त हैं।
एक चिकित्सक के रूप में, वह हैती में 2010 भूकंप, नेपाल में 2015 भूकंप और 2011 रेनो एयर शो दुर्घटना के दौरान पहले प्रतिक्रिया दल का हिस्सा थे।
वायु सेना में, मेनन ने फ्लाइट सर्जन के रूप में 45वें स्पेस विंग और 173वें फाइटर विंग में सेवाएं दीं, जहां उन्होंने F-15 फाइटर जेट में 100 से अधिक उड़ानें भरीं और क्रिटिकल केयर एयर ट्रांसपोर्ट टीम के हिस्से के रूप में 100 से अधिक रोगियों का उपचार किया।
जुलाई में एरोनॉटिकल इंजीनियर सिरीशा बंदला कल्पना चावला और सुनीता विलियम्स के बाद अंतरिक्ष में उड़ान भरने वाली भारतीय मूल की तीसरी महिला बनीं।
विंग कमांडर राकेश शर्मा अंतरिक्ष में यात्रा करने वाले एकमात्र भारतीय नागरिक हैं। भारतीय वायु सेना के पूर्व पायलट ने सोवियत इंटरकोस्मोस कार्यक्रम के हिस्से के रूप में तीन अप्रैल, 1984 को सोयुज टी-11 पर उड़ान भरी थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

five × four =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।