तेल की कीमतें गिरीं, OPEC+ की कटौती से निवेशक नाखुश

Crude oil prices fell

Crude oil prices fell : कच्चे तेल की कीमतें गिरीं हैं क्योंकि निवेशकों को OPEC+ की आपूर्ति में कटौती पर संदेह था। OPEC+ द्वारा घोषित आपूर्ति में कमी के कारण कच्चे तेल कीमतें गुरुवार को 2% से अधिक गिर गईं। सुस्त वैश्विक बाजार ने भी को कमजोर कच्चे तेल की कीमतें कर दिया। ब्रेंट क्रूड वायदा $1.98 या 2.45 फीसदी घटकर $78.88 प्रति बैरल पर बंद हुआ, जबकि US वेस्ट टेक्सास इंटरमीडिएट क्रूड वायदा (WTI) $1.89 या 2.49 फीसदी गिरकर $74.07 प्रति बैरल पर आ गया। रिपोर्ट के अनुसार, ब्रेंट में लगभग 2.1 प्रतिशत और WTI में 1.9 प्रतिशत की गिरावट आई।Crude oil prices fell

(Crude oil prices fell) OPEC+ ने उत्पादकों से मान्यता प्राप्त करने के लिए अगले साल की पहली तिमाही में 22 लाख बीपीडी तेल हटाने का समझौता किया है, जिसमें सऊदी अरब और रूस की 13 लाख बीपीडी की स्वैच्छिक कटौती शामिल है। हालांकि, विश्लेषकों का कहना है कि व्यापारी संदेही हैं क्योंकि कटौती स्वैच्छिक है और इससे उत्पादन लक्ष्यों में कोई संशोधन नहीं हुआ है।

वैश्विक विनिर्माण गतिविधि की कमी और अन्य कारकों ने भी कच्चे तेल की कीमतों पर दबाव डाला। इससे उत्पादकों को आपूर्ति में कमी का सामना करना पड़ सकता है। यदि कटौती पूरी तरह से लागू नहीं होती, तो कीमतें बढ़ सकती हैं। हालांकि, यदि कटौती को पूरी तरह से लागू किया जाता है, तो कीमतें कम हो सकती हैं। इसके अलावा, वैश्विक आर्थिक विकास, विनिर्माण गतिविधि, और भू-राजनीतिक घटनाएं भी कच्चे तेल की कीमतों को प्रभावित कर सकती हैं।

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘PUNJAB KESARI’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOK, INSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

12 + 13 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।