Search
Close this search box.

क्या है अटल पेंशन योजना, कैसे उठायें इसका लाभ, कौन कर सकता है आवेदन

Atal Pension Yojana

अटल पेंशन योजना (APY) क्या है?

Atal Pension Yojana (APY) एक सामाजिक सुरक्षा योजना है जो खासकर असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों के लिए शुरू की गई है। इस योजना के तहत, श्रमिकों को एक गारंटीड न्यूनतम पेंशन प्रदान की जाती है। यह योजना देश भर के सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में लागू है। इस योजना के तहत, 60 साल की उम्र में 1,000/- या 2,000/- या 3000/- या 4000 या 5000/- प्रति माह रुपये की न्यूनतम पेंशन की गारंटी ग्राहकों द्वारा योगदान के आधार पर दिया जाएगा। APY में भाग लेने के लिए श्रमिकों को न्यूनतम और अधिकतम मासिक योगदान राशि देनी होती है। न्यूनतम मासिक योगदान राशि 42 रुपये है और अधिकतम मासिक योगदान राशि 2222 रुपये है। पेंशन राशि श्रमिकों द्वारा किए गए योगदान के आधार पर तय की जाती है।

Atal Pension Yojana के लाभ

  • न्यूनतम पेंशन की गारंटी:  सरकार ग्राहकों द्वारा योगदान के आधार पर न्यूनतम पेंशन की गारंटी देती है। यदि निवेश रिटर्न कम होता है, तो सरकार कमी को पूरा करेगी।
  • कर लाभ: अटल पेंशन योजना के तहत किए गए योगदान और उस पर अर्जित रिटर्न पर कर लाभ मिलता है।
  • सामान्य आय के रूप में पेंशन: एपीवाई से मिलने वाली पेंशन सामान्य आय का हिस्सा मानी जाती है और उस पर लागू उचित सीमांत दर से कर लगाया जाता है।Atal Pension Yojana

APY के लिए Eligibility Criteria 

  • आयु: ग्राहक की आयु 18 से 40 वर्ष के बीच होनी चाहिए।
  • बचत बैंक खाता: ग्राहक का एक बचत बैंक खाता होना चाहिए।
  • आधार कार्ड: आधार कार्ड उपलब्ध कराना अनिवार्य नहीं है, लेकिन यह सुविधा के लिए उपयोगी है।

अटल पेंशन योजना में शामिल होने के लिए, आवेदक को निम्नलिखित चरणों का पालन करना होगा:

  1. अपने नजदीकी बैंक शाखा या डाकघर में जाएं।
  2. बैंक/डाकघर कर्मचारी से एपीवाई पंजीकरण फॉर्म प्राप्त करें।
  3. फॉर्म भरें और आवश्यक दस्तावेज संलग्न करें।
  4. फॉर्म जमा करें और अपना बचत बैंक खाता नंबर दें।
  5. मासिक/तिमाही/छमाही योगदान के लिए अपनी सहमति दें।

अटल पेंशन योजना खाता कैसे खोलें?

  • ग्राहक को अपने बचत बैंक खाते वाले बैंक शाखा या डाकघर में जाना होगा।
  • बैंक कर्मचारी ग्राहक को एपीवाई पंजीकरण फॉर्म भरने में मदद करेगा।
  • ग्राहक को अपने आधार कार्ड और मोबाइल नंबर की जानकारी देनी होगी।
  • ग्राहक को अपने बचत बैंक खाते में मासिक/तिमाही/छमाही योगदान के लिए पर्याप्त राशि रखनी होगी।

अटल पेंशन योजना से निकासी कैसे करें?

60 साल की उम्र प्राप्त करने पर, आवेदक संबंधित बैंक या डाकघर से गारंटी न्यूनतम मासिक पेंशन या अधिक मासिक पेंशन निकासी के लिए आवेदन कर सकता है। आवेदक की मृत्यु पर, पति या पत्नी को समान राशि की पेंशन मिलेगी।

60 साल की उम्र से पहले एपीवाई से निकासी

यदि आवेदक 60 साल की उम्र से पहले एपीवाई से बाहर निकलना चाहता है, तो उसे केवल APY में किए गए योगदान और उसके योगदान पर अर्जित शुद्ध वास्तविक आय वापस मिलेगी। सरकार का सह-योगदान और सरकार के सह-योगदान पर अर्जित आय वापस नहीं की जाएगी।Atal Pension Yojana

60 साल की उम्र से पहले आवेदक की मृत्यु

यदि आवेदक 60 साल की उम्र से पहले मर जाता है, तो पति या पत्नी APY खाते में शेष अवधि के लिए योगदान जारी रखने का विकल्प चुन सकता है। पति या पत्नी को मृत्यु पर वही पेंशन राशि मिलेगी जो आवेदक को देय थी। या, APY के तहत पूरे संचित कोष पति या पत्नी/नामिती को लौटा दी जाएगी।

अटल पेंशन योजना के बारे में कुछ महत्वपूर्ण बातें

  • एक ग्राहक केवल एक एपीवाई खाता खोल सकता है।
  • एक ग्राहक एक वर्ष में एक बार पेंशन राशि को बढ़ाने या घटाने का विकल्प चुन सकता है।
  • APY खाते से निकासी पर कोई शुल्क नहीं लगता है।

APY के लिए पात्रता के बारे में कुछ अतिरिक्त जानकारी

  • यदि आवेदक 18 से 40 साल के बीच की आयु का है, तो वह किसी भी समय APY में शामिल हो सकता है।
  • APY में शामिल होने के लिए, आवेदक को अपने नजदीकी बैंक शाखा या डाकघर में जाना होगा।
  • आवेदक को एपीवाई पंजीकरण फॉर्म भरना होगा और आवश्यक दस्तावेज जमा करने होंगे।
  • आवेदक को अपने बचत बैंक खाता नंबर देना होगा।
  • आवेदक को मासिक/तिमाही/छमाही योगदान के लिए अपनी सहमति देनी होगी।

अटल पेंशन योजना एक महत्वपूर्ण योजना है जो असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों को बुढ़ापे में आर्थिक सुरक्षा प्रदान करती है। यह योजना सरकार के सह-योगदान के साथ आती है, जो इसे और अधिक आकर्षक बनाती है। एक ग्राहक एक वर्ष के के दौरान एक बार पेंशन राशि को बढ़ाने या घटाने के लिए विकल्प चुन सकते हैं। APY ग्राहकों को पीआरएएन की सक्रियता, खाते में शेष राशि, योगदान क्रेडिट आदि के बारे में एसएमएस अलर्ट के माध्यम से समय-समय पर जानकारी सूचित कर दी जायेगी। ग्राहक को साल में एक बार खाते का भौतिक विवरण भी दिया जाएगा। योगदान आवास/स्थान के परिवर्तन के मामले में भी ऑटो डेबिट के माध्यम से बिना रूकावट के प्रेषित किया जा सकता है। योजना केवल भारतीय नागरिक के लिए ही है। ग्राहक अप्रैल के महीने के दौरान एक वर्ष में एक बार ऑटो डेबिट सुविधा के मोड (मासिक/तिमाही/छमाही) को बदल सकते हैं।

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘PUNJAB KESARI’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOK, INSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

20 − seventeen =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।