Search
Close this search box.

केन्द्र में तीसरी बार मोदी सरकार !

जब आप यह कॉलम पढ़ रहे होंगे तब पांच राज्यों में हाल के विधानसभा चुनावों में पड़े वोटों की गिनती चल रही होगी। इसलिए विभिन्न मीडिया संगठनों द्वारा किए गए विभिन्न एग्जिट पोल के नतीजों पर चर्चा के लिए चुनाव आयोग द्वारा अंतिम परिणाम घोषित किए जाने तक इंतजार किया जा सकता है। फिर भी एग्जिट पोल से उभरे कुछ व्यापक बिंदुओं को अभी भी यहां सूचीबद्ध किया जा सकता है। एग्जिट पोल से सबसे महत्वपूर्ण सबक यह मिल सकता है कि आक्रामक अभियान के बावजूद जो कभी-कभी वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं द्वारा नाम-पुकारने तक सीमित हो जाता है, मुख्य विपक्षी दल भाजपा को पटखनी देने में विफल रहा है। कुछ भी हो, यदि भाजपा मध्य प्रदेश को बरकरार रखती है और एक ओर राज्य में सत्ता पाने में सफल होती है तो विपक्षी दलों के गठबंधन ‘इंडिया’ का नेतृत्व करने का कांग्रेस का दावा और कमजोर हो जाएगा।
संक्षेप में कहें तो कांग्रेस के लिए ‘इंडिया’ पार्टियों के समूह के निर्विवाद अगुवा के रूप में उभरने के लिए हिंदी पट्टी में भाजपा को दृढ़ता से हराना जरूरी था लेकिन किसी भी हिसाब से ऐसा नहीं हो रहा है। हां, कांग्रेस तेलंगाना में अच्छा प्रदर्शन कर रही है और भारत राष्ट्र समिति के केसीआर से सत्ता छीन सकती है। तब पार्टी की दक्षिण में मजबूत उपस्थिति होगी, खासकर पड़ोसी कर्नाटक में जीत के बाद। वास्तव में, कर्नाटक में सफलता के बाद तेलंगाना में जनता का मूड कांग्रेस के पक्ष में बदल गया।
तमिलनाडु में कांग्रेस सत्तारूढ़ द्रमुक की कनिष्ठ सहयोगी है जबकि आंध्र प्रदेश में यह देखना बाकी है कि क्या जगन मोहन रेड्डी ने जनता की नब्ज पर अपनी पकड़ ढीली कर दी है ताकि कांग्रेस अपनी खोई हुई जमीन वापस पा सके। इन चुनावों से जो बड़ी बात सामने आई है वह यह है कि न तो भाजपा और न ही कांग्रेस अपने मुख्य प्रतिद्वंद्वी को हराने में सफल रही है। दोनों ही नॉक-आउट पंच देने में नाकाम रही हैं। लोकसभा चुनाव से पहले यह विफलता कांग्रेस को विशेष रूप से आहत करती है। यह देखते हुए कि संसदीय चुनाव में भाजपा को लगभग स्वचालित रूप से दस प्रतिशत अतिरिक्त वोट मिले जिसे मोदी वोट कहा जा सकता है। नरेंद्र मोदी को लगातार तीसरे पांच साल के कार्यकाल से वंचित करने की विपक्ष की कोशिश को विधानसभा चुनावों के नवीनतम दौर के बाद एक बड़ा झटका लगेगा। सच कहा जाए तो भाजपा के पास सेमीफाइनल के नतीजे से संतुष्ट होने का हर कारण है जो अगले साल अप्रैल-मई में किसी समय फाइनल में उसके प्रदर्शन के लिए अच्छा संकेत है।
मुख्य चुनौती के रूप में कांग्रेस के लिए विधानसभा चुनावों में भाजपा को पटखनी देना था लेकिन उसके कम प्रदर्शन ने मोदी की भाजपा के लिए एक मजबूत चुनौती के रूप में उसकी साख को कम कर दिया। तेलंगाना में जीत प्रमुख हिंदी भाषी राज्यों में निराशाजनक प्रदर्शन की भरपाई नहीं कर सकती जो सत्तारूढ़ भाजपा का गढ़ है। नतीजतन, मोदी दिल्ली में लगातार तीसरी बार पांच साल के कार्यकाल के लिए आश्वस्त होकर बैठे हैं, बशर्ते, अब और अप्रैल-मई के बीच कोई अप्रत्याशित घटना न हो, जब लोकसभा चुनाव होने हैं।
रैट माइनर्स का कमाल
विधानसभा चुनाव प्रचार के बीच उत्तरकाशी में एक सुरंग में 41 मजदूर फंस गए थे, जिनके रेस्क्यू पर देश की निगाहें टिकी हुई थीं। कड़ी मशक्कत व 17 दिनों की आशा और निराशा के बाद भारतीय श्रमिकों की वापसी के लिए जो काम आया वह है ‘जुगाड़’। यह ‘जुगाड़’ सफल साबित हुआ, जहां बाकी सभी तरीके विफल हो गए थे। 17 दिनों की कठिन परीक्षा के बाद 41 श्रमिकों को जीवित और अच्छे स्वास्थ्य में बाहर लाया गया। बहुत राहत महसूस करने वाला राष्ट्र उन्हें उस चमत्कार के लिए सलाम करता है जो उन्होंने किया था जिसे मानव निर्मित मशीनें करने में विफल रही थीं।
ड्रिल मशीनों के खराब हो जाने के बाद फंसे हुए मजदूरों के मार्ग को अवरुद्ध करने वाली सुरंग में मलबे को हटाने से पहले ‘रैट-होल’ माइनर को बुलाना एक उज्ज्वल विचार था। रैट माइनरों ने अपनी जिंदगी को खतरे में डालते हुए उस काम को अंजाम दिया जिसका पूरा देश उत्सुकता से इंतजार कर रहा था। साथ ही यह भी स्वीकार किया जाना चाहिए कि राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल के नेतृत्व में कई एजेंसियों, राज्य सरकारों और सबसे ऊपर प्रधानमंत्री कार्यालय में से किसी ने भी सबसे जरूरी मिशन से अपनी नजरें नहीं हटाईं। जल्दबाजी के बाद विदेशी विशेषज्ञों को बुलाया गया, भारतीय वायुसेना, भारतीय सेना की इंजीनियरिंग शाखा, रेलवे आदि ने एकजुट होकर काम किया। इस बीच, फंसे हुए श्रमिकों के चमत्कारिक ढंग से बचाने और हिमालयी पारिस्थितिकी तंत्र में विकास गतिविधि पर पुनर्विचार करना पड़ेगा।
वनों की कटाई, भूमि का कटाव, अवैध निर्माण गतिविधि और इस तथ्य के साथ कि पूरा क्षेत्र भूकंप जोन है, आम तौर पर अत्यधिक बुनियादी ढांचे के निर्माण पर अंकुश लगाना चाहिए लेकिन बढ़ती आबादी की मांग और बढ़ते धार्मिक पर्यटन के कारण व्यावसायीकरण ने अनिवार्य रूप से पूरे हिमालय क्षेत्र को अपनी चपेट में लिया है। इस क्षेत्र में मिट्टी का कटाव, भूस्खलन, बाढ़ और अन्य मौसम संबंधी घटनाएं असामान्य नहीं हैं।

– वीरेन्द्र कपूर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

1 × 1 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।