Search
Close this search box.

Benefits of Papaya: बेहद असरदार है सर्दियों में पपीता खाना, जानें इसके फायदे

Benefits of Papaya

Benefits of Papaya: कई पोषक तत्वों से भरपूर पपीता हमारी सेहत के लिए काफी फायदेमंद होता है। वहीं अगर बात करें सर्दियों में इसके सेवन की तो ठंड के मौसम में इसे खाने से कई तरह की समस्याओं से राहत मिलती है।

Highlights

  • बेहद असरदार है सर्दियों में पपीता खाना
  • सर्दियों में पपीता के सेवन के असर
  • पपीता ठंडा है या गरम?
  • अस्थमा रोगियों के लिए है कारगार

सर्दियों में पपीता के सेवन के असर

सर्दी के मौसम में बाजार में कई तरह की सब्जियां और फल मिलने लगते हैं, जो शरीर को हेल्दी रखते हैं। यूं तो आज के समय में कृत्रिम तरीकों से लगभग सभी फल सालभर बाजार में मिल जाते हैं, ऐसे में कुछ लोग ये समझ ही नहीं पाते हैं कि किस मौसम में कौन सा फल खाना चाहिए। पपीता भी एक ऐसा ही फल है, जिसे लोग ज्यादातर गर्मी के मौसम में खाते हैं और सर्दियों में कम खाना पसंद करते हैं।

papaya

पपीता ठंडा है या गरम?

पपीता की तासीर गर्म होती है इसलिए आप इसे सर्दियों में भी खा सकते हैं। इसके खाने से आपका शरीर गर्म रहेगा। पपीता को लिवर, किडनी और आंतों के लिए अच्छा माना जाता है साथ ही यह भी कहा जाता है कि यह शरीर डिटॉक्स करने का काम करता है। सर्दियों के मौसम में आराम से पपीता खा सकते हैं।

papaya3

पाचन शक्ति को बढ़ाए

अपच, सीने में जलन, एसिड रिफ्लक्स, पेट में अल्सर जैसी कई बीमारियों के इलाज में पपीता बेहद लाभदायक होता है। इसमें भरपूर मात्रा में फाइबर होता है, यह पाचन तंत्र को भी बेहतर बनाता है। पपीते में प्रोटीन, पेपन नाम की खास चीज होती है, जो सुपर एंजाइम की तरह काम करता है। यह एसिडिटी, कब्ज, आंतों से जुड़ी दिक्कत को भी पपीता तुरंत ठीक करता है।

 

eating

अस्थमा रोगियों के लिए है कारगार

पपीता में भरपूर मात्रा में विटामिन ए, बीटा कैरोटीन होता है जो फेफड़ों के सूजन को रोकने में मदद करता है. साथ ही जिन व्यक्तियों को धूम्रपान की लत है उन्हें भी खूब पपीता खाना चाहिए इससे फेफड़ों की सूजन ठीक हो जाती है और यह ट्रिगर होने से रोकता है, जो अस्थमा रोगियों के लिए काफी असरदार होता है।

asthama

हड्डियों को बनाए मजबूत

पपीता हड्डियों के लिए काफी ज्यादा फायदेमंद होता है। रूमेटॉइड आर्थराइटिस और ऑस्टियोआर्थराइटिस के इलाज में भी काफी हेल्फुस है। पपीता में पाए जाने वाले एंजाइमों को काइमोपैपेन कहा जाता है। यह हड्डी को मजबूत बनाने का काम करती है।

bones 1

Disclaimer: इस आर्टिकल में बताई गई विधि, तरीक़ों और सुझाव पर अमल करने से पहले डॉक्टर या संबंधित एक्सपर्ट की सलाह जरूर लें. Punjabkesari.com इसकी पुष्टि नहीं करता है।

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘PUNJAB KESARI’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOK, INSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

eighteen − ten =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।