लोकसभा चुनाव 2024

पहला चरण - 19 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

102 सीट

दूसरा चरण - 26 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

89 सीट

तीसरा चरण - 7 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

94 सीट

चौथा चरण - 13 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

96 सीट

पांचवां चरण - 20 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

49 सीट

छठा चरण - 25 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

सातवां चरण - 1 जून

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

लोकसभा चुनाव पहला चरण - 19 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

102 सीट

डिलीवरी के बाद क्यों होता है Hairfall? ऐसे करें कंट्रोल

Postpartum
Postpartum: डिलीवरी के बाद कई महिलाएं हेयर लॉस की समस्या का सामना करती हैं, जो बच्चे के जन्म के लगभग 3 महीने बाद शुरू होती है और छह महीने तक बनी रह सकती है। यह गर्भावस्था का एक विशेष और क्षणिक पहलू है। जन्म देने के कुछ महीनों बाद होने वाले अत्यधिक बालों के झड़ने को पोस्टपार्टम हेयर लॉस के रूप में जाना जाता है। गर्भावस्था से पहले, दौरान और बाद में होने वाले हार्मोन परिवर्तन इसका कारण हैं।

Highlights

  • डिलीवरी के बाद क्यों होता है हेयर लॉस
  • पोस्टपार्टम हेयर लॉस भी कहा जाता है
  • जानें इसे कैसे कंट्रोल करें

डिलीवरी के बाद होता है हुयरफॉल

डिलीवरी के बाद कई महिलाएं हेयर लॉस की समस्या का सामना करती हैं, जिसे पोस्टपार्टम हेयर लॉस कहा जाता है। यह आमतौर पर हार्मोनल बदलावों के कारण होता है जो गर्भावस्था के बाद शरीर में होते हैं। गर्भावस्था के दौरान, बढ़े हुए हार्मोन स्तर बालों को गिरने से रोकते हैं, जिससे बाल घने और मजबूत दिखाई देते हैं। हालांकि, डिलीवरी के बाद, जब हार्मोन सामान्य होते हैं, तो यह अतिरिक्त बालों के झड़ने का कारण बनता है। आज हम डिलीवरी के बाद हेयर लॉस के कारणों को समझेंगे और यह भी जानेंगे कि इसे कैसे नियंत्रित किया जा सकता है।

HAIR2

क्या है इसके कारण?

हार्मोनल परिवर्तन: गर्भावस्था के दौरान, महिलाओं के हार्मोनल स्तर में वृद्धि होती है, जिससे बालों का झड़ना कम हो जाता है. हालांकि, डिलीवरी के बाद हार्मोनल स्तर सामान्य होते ही अतिरिक्त बाल झड़ने लगते हैं।

HAIR3

पोषण की कमी: डिलीवरी के बाद शरीर में पोषक तत्वों की कमी भी हेयर लॉस का एक कारण हो सकती है।

हेयर लॉस को कैसे कंट्रोल करें?

  • डिरीवरी के बाद होने वाले होयर फॉल से बचने के लिए आहार में प्रोटीन, विटामिन और मिनरल्स की उचित मात्रा शामिल करें. खासतौर पर आयरन, जिंक, Vitamin C, D और E बालों के लिए जरूरी होते हैं।
  • माइल्ड हेयर केयर प्रोडक्ट्स का उपयोग करें। सल्फेट फ्री शैम्पू और कंडीशनर का चयन करें, जो बालों को कम नुकसान पहुंचाते हैं।
  • नियमित हेयर मसाज करें। उसते लिए नारियल तेल या बादाम तेल से नियमित रूप से सिर की मालिश करने से बालों की जड़ों को मजबूती मिलती है।

 

HAIR5

  • स्ट्रेस लेने से भी बाल तेजी से झड़ते हैं। इसलिए स्ट्रेस से दूर रहें। ध्यान, योग या किसी भी प्रकार की शारीरिक गतिविधि के माध्यम से स्ट्रेस को कम करने का प्रयास करें।
  • पर्याप्त नींद जरूरी होता है। अच्छी और पर्याप्त नींद लेना भी बालों के स्वास्थ्य के लिए जरूरी है।
  • नियमित रूप से बालों की ट्रिमिंग: बालों की नियमित ट्रिमिंग से स्प्लिट एंड्स को कम किया जा सकता है, जो कि बालों के टूटने और गिरने के सामान्य कारणों में से एक है।

Disclaimer: इस आर्टिकल में बताई गई विधि, तरीक़ों और सुझाव पर अमल करने से पहले डॉक्टर या संबंधित एक्सपर्ट की सलाह जरूर लें. Punjabkesari.com इसकी पुष्टि नहीं करता है।

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘PUNJAB KESARI’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOK, INSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fifteen + 18 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।