दिल्ली की खराब वायु गुणवत्ता कर रही बच्चों के मानसिक विकास को प्रभावित

लोकसभा चुनाव 2024

पहला चरण - 19 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

102 सीट

दूसरा चरण - 26 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

88 सीट

तीसरा चरण - 7 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

94 सीट

चौथा चरण - 13 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

96 सीट

पांचवां चरण - 20 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

49 सीट

छठा चरण - 25 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

58 सीट

सातवां चरण - 1 जून

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

छठा चरण - 25 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

58 सीट

दिल्ली की खराब वायु गुणवत्ता कर रही बच्चों के मानसिक विकास को प्रभावित

दिल्ली एनसीआर के कई हिस्सों में वायु गुणवत्ता सूचकांक गंभीर श्रेणी में पहुंच चुका है जिसके कारण कई लोगों को सांस लेने में दिक्कत से लेकर अन्य बड़ी बीमारियों का सामना करना पड़ रहा है लेकिन हाल ही में डॉक्टर द्वारा यह बताया गया की दिल्ली के प्रदूषण के कारण बच्चों के मानसिक विकास पर सबसे ज्यादा असर पड़ रहा है।

Screenshot 3 9

दिल्ली-एनसीआर के कई क्षेत्रों में वायु गुणवत्ता सूचकांक अब सबसे ‘गंभीर’ श्रेणी में पहुँच चुका है। जिसके कारण लगातार अस्पतालों में लम्बी लाइने लग चुकी है , जी हाँ आपको बता दें की प्रदुषण होने के साथ ही डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने ये कहा है कि अब दिल्ली ने गैस चैंबर का आकार ले लिया है, जिससे शहर पर धुंध की मोटी परत छा गई है। इतना ही नहीं बल्कि उन्होंने ये भी कहा की खराब वायु गुणवत्ता बच्चों के मानसिक विकास को प्रभावित करती है।

स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने कहा स्वस्थ फेफड़ों के लिए जरूरी है AQI 60 से नीचे हो

दिल्ली के सबसे बड़े अस्पतालों में से एक सफदरजंग अस्पताल के स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने कहा कि स्वस्थ फेफड़ों के लिए जरूरी है कि AQI 60 से नीचे रहे। राष्ट्रीय राजधानी में गिरती वायु गुणवत्ता पर चिंता व्यक्त करते हुए, दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में पल्मोनोलॉजी विभाग के प्रमुख डॉ. नीरज कुमार गुप्ता ने कहा, “दिल्ली में रहने वाले लोगों को हवा की गुणवत्ता में सांस लेना पड़ता है, जो बहुत खराब श्रेणी में पहुंच गई है।” जो गंभीर बीमारियों का कारण बन सकता है।

प्रदुषण से बढ़ सकता है कैंसर का खतरा

डॉक्टर ने कहा कि लोगों के बेहतर स्वास्थ्य के लिए AQI 60 से कम होना चाहिए, क्योंकि AQI PM 2.5 और PM 10 के जरिए कई ऐसे कण होते हैं जो सांस के जरिए हमारे शरीर के अंदर फेफड़ों तक पहुंच जाते हैं, जिससे सांस संबंधी कई तरह की समस्याएं हो जाती हैं. गंभीर बीमारियों और यहां तक कि फेफड़ों के कैंसर का खतरा भी बढ़ जाता है।

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘PUNJAB KESARI’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOK, INSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2 − two =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।