रामलला की प्राण प्रतिष्‍ठा के लिए सिर्फ 84 सेकेंड का मुहूर्त

लोकसभा चुनाव 2024

पहला चरण - 19 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

102 सीट

दूसरा चरण - 26 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

88 सीट

तीसरा चरण - 7 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

94 सीट

चौथा चरण - 13 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

96 सीट

पांचवां चरण - 20 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

49 सीट

छठा चरण - 25 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

58 सीट

सातवां चरण - 1 जून

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

छठा चरण - 25 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

58 सीट

रामलला की प्राण प्रतिष्‍ठा के लिए सिर्फ 84 सेकेंड का मुहूर्त

अयोध्‍या में श्रीरामजन्‍मभूमि पर बने भव्‍य राममंदिर में भगवान रामलला की प्राण प्रतिष्‍ठा 22 जनवरी 2024 को पीएम नरेन्‍द्र मोदी के हाथों होगी। रामलला की मूर्ति की स्थापना का विशिष्ट मुहूर्त 22 जनवरी को मध्याह्न 12 बज कर 29 मिनट आठ सेकेंड से आरंभ होगा। यह 12 बजकर 30 मिनट और 32 सेकेंड तक रहेगा। यानी प्राण प्रतिष्‍ठा के लिए कुल 84 सेकेंड (एक मिनट 24 सेकेंड) का अति सूक्ष्‍म मुहूर्त है। काशी के रामघाट स्थित श्री वल्लभराम शालिग्राम सांगवेद विद्यालय के द्रविड़ बंधुओं ने 22 जनवरी का जो मुहूर्त निकाला है, उसे महाकवि कालिदास ने अपनी कृति ‘पूर्वकालामृत’ में संजीवनी मुहूर्त कहा है। इसकी विशिष्टता यह है कि किसी भी मुहूर्त में दोष उत्पन्न करने वाले पांच बाण यानी रोग बाण, मृत्यु बाण, राज बाण, चोर बाण और अग्नि बाण में से कोई बाण संजीवनी मुहूर्त में नहीं रहेगा। पं. गणेश्वर शास्त्री द्रविड़ ने बताया कि ये पांचों बाण अपने नाम के अनुरूप प्रभाव छोड़ते हैं।

अयोध्या में राम मंदिर के पुन निर्माण

Ram Mandir त्रेता युग में राम-रावण युद्ध के समय लक्ष्मण को शक्ति लगी तो भक्त हनुमान ने संजीवनी लाकर आर्यावर्त का शोक दूर कर सनातनियों को आनंद से भर दिया था। आधुनिक भारत में पांच सौ वर्षों की प्रतीक्षा के बाद जब अयोध्या में राम मंदिर के पुन निर्माण से सनातनियों का संताप दूर हुआ है तो इस आनंद को अक्षुण्ण बनाए रखने के लिए काशी के द्रविड़ बंधु हनुमान बन गए हैं। पं. गणेश्वर शास्त्री द्रविड़ और पं. विश्वेश्वर शास्त्री द्रविड़ ने रामलला की प्राणप्रतिष्ठा के लिए ‘संजीवनी’ मुहूर्त निकाला है।

नौ ग्रहों में से छह मित्र ग्रह के रूप में अपने घरों में रहेंगे

Ram Mandir इस मुहूर्त की दूसरी विशेषता यह है कि उस दौरान नौ ग्रहों में से छह मित्र ग्रह के रूप में अपने घरों में रहेंगे। मेष लग्न का गुरु इस मुहूर्त का प्राण है। लग्नस्थ गुरु की पूर्ण दृष्टि पांचवें, सातवें और नौवें घर पर पड़ रही है। ऐसा होना अत्यंत शुभकारी है। लग्नस्थ गुरु सर्वदोषों का शमन करने में समर्थ होता है। वहीं मित्र ग्रह के रूप में दूसरे घर में उच्च का चंद्रमा, छठे घर में केतु, नौवें घर में बुध और शुक्र तथा 11वें घर में शनि विराजमान हैं। शास्त्रों के अनुसार नौवें घर के बुध सौ दोषों और शुक्र दो सौ दोषों का निवारण करने में अकेले सक्षम होते हैं।

काशी के समस्त तीर्थों के जल से अभिषेक

प्राण प्रतिष्ठा अनुष्ठान में अधिवास का विशेष महत्व होता है। इनमें जलाधिवास, धान्याधिवास, पुष्पाधिवस, फलाधिवास और शैय्याधिवास की प्रक्रिया पूर्ण की जाती है। राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा के लिए होने वाले जलाधिवास में एक हजार छिद्र वाले घड़े से सहस्र छिद्राभिषेक होगा। यह घड़ा भी काशी में तैयार हो रहा है। इस घड़े में देश के समस्त तीर्थों, पवित्र नदियों और समुद्र का जल भर कर रामलला का अभिषेक किया जाएगा। वहीं काशी में विद्यमान समस्त तीर्थों के जल को गाय के सींग से बनी शृंगी में भर कर अभिषेक होगा।

प्राण प्रतिष्ठा अनुष्ठान के लिए नौ मंडप बनाए गए

काशी के वैदिकों के सुझाव पर प्राण प्रतिष्ठा अनुष्ठान के लिए नौ मंडप बनाए गए हैं। इन मंडपों में नौ आकार के हवन कुंडों का निर्माण होगा। सूत्रों के अनुसार कुंडों के निर्माण अनुष्ठान के मुख्य आचार्य पं. लक्ष्मीकांत दीक्षित के निर्देश पर उनके पुत्र पं. अरुण दीक्षित शीघ्र ही अयोध्या रवाना होने वाले हैं। सभी नौ मंडपों में एक साथ अनुष्ठान होंगे। शास्त्रत्तें के अनुसार कुंडों की नौ आकृतियां चतुष्कोणीय, पद्मकारा, अर्द्धचंद्र, त्रिकोण, वृत्ताकार, योनिकार, षटकोणीय, अष्टकोणीय होती हैं। एक प्रधान कुंड होता है।

नहीं है कालसर्प दोष की स्थिति

अन्य ग्रहों के राहु-केतु के चारों तरफ न होकर सिर्फ दो तरफ होने से काल सर्प दोष की स्थिति भी नहीं बन रही है। सूर्य के मकर राशि में होने से पौषमास का दोष भी समाप्त हो गया है। मुहूर्त काल में मेष लग्न से द्वादश स्थान पर राहु, नवम स्थान पर मंगल और दशम स्थान पर सूर्य रहेंगे। शास्त्रत्तें में इनके प्रभाव को पर्याप्त मात्रा में स्वर्णदान से समाप्त करने का उपाय बताया गया है। वैसे शास्त्रत्तें में कहा गया है कि लग्न में गुरु के होने से इनका दोष स्वयमेव समाप्त हो जाता है। सूर्य के अभिजीत में होने से मृगशीर्ष नक्षत्र भी शुभ फलदायी हो गया है। फिर भी प्रचुर मात्रा में दान करने से राम मंदिर की प्रतिष्ठा संपूर्ण विश्व के लिए कल्याणकारी हो जाएगी।

अवश्य करनी चाहिए मुहूर्त शुद्धि

मुहूर्त कितना भी शुद्ध क्यों न हो, उसकी शुद्धि का विधान अवश्य करना चाहिए। मुहूर्त शुद्धि के लिए स्वर्ण दान सबसे उत्तम माना गया है। अत 20 जनवरी 2024, शनिवार के सूर्योदय से पूर्व मुहूर्त शुद्धि का संकल्प करना चाहिए। इसके लिए 19 जनवरी 2024 को सायं काल छह बजे से छह बजकर 20 मिनट तक का समय सर्वोत्तम है।

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘PUNJAB KESARI’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOK, INSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

8 + 10 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।