PM Modi ने वाराणसी-नयी दिल्ली वंदे भारत एक्सप्रेस को दिखायी हरी झंडी

लोकसभा चुनाव 2024

पहला चरण - 19 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

102 सीट

दूसरा चरण - 26 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

88 सीट

तीसरा चरण - 7 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

94 सीट

चौथा चरण - 13 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

96 सीट

पांचवां चरण - 20 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

49 सीट

छठा चरण - 25 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

58 सीट

सातवां चरण - 1 जून

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

छठा चरण - 25 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

58 सीट

PM Modi ने वाराणसी-नयी दिल्ली वंदे भारत एक्सप्रेस को दिखायी हरी झंडी

सोमवार दोपहर 2:15 बजे, PM Modi ने वाराणसी-नई दिल्ली वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन का शुभारंभ किया, जो आधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित है, वाराणसी जंक्शन (कैंट) से, जो उनके उत्तर प्रदेश संसदीय क्षेत्र में स्थित है।

vande copy

Highlights:

  • वाराणसी से दिल्ली के बीच चलने वाली दूसरी वंदे भारत एक्सप्रेस
  • देश के विभिन्न रेल मार्गों पर कुल 34 जोड़ वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन चल रही है
  • 160 किलोमीटर से प्रति घंटे से 200 किलोमीटर प्रति घंटे के रफ़्तार से चलती है यह ट्रैन
  • जीपीएस प्रणाली से आने वाले स्टेशन और अन्य सूचनाओं की जानकारी मिलती है

गौरतलब है कि तीर्थ नगरी वाराणसी से राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के बीच चलने वाली यह दूसरी वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन है। इसके साथ ही देश के विभिन्न रेल मार्गों पर चलने वाली वंदेभारत एक्सप्रेस ट्रेनों की संख्या 35 हो हो गयी है। इससे पहले श्री मोदी ने 15 फरवरी, 2019 को वाराणसी से नयी दिल्ली के बीच चलने वाली वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन को हरी झंडी दिखाई थी, जो देश में संचालित होने वाली पहली वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन थी। तब से लेकर तब तक देश के विभिन्न रेल मार्गों पर कुल 34 जोड़ वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन चल रही है।

उत्तर रेलवे के मुताबिक यह ट्रेन मंगलवार को छोड़कर सप्ताह में अन्य छह दिन चलेगी। रेलवे की ओर से दी गयी जानकारी के अनुसार ट्रेन संख्या 22415 वाराणसी-नयी दिल्ली वंदे भारत एक्सप्रसे ट्रेन सुबह छह बजे वाराणसी से रवाना होगी और प्रयागराज, कानपुर, चिपियाना होते हुए अपराह्न 02.05 नयी दिल्ली पहुंचेगी। वहीं गाड़ संख्या 22416 नयी दिल्ली-वाराणसी वंदे भारत एक्सप्रेस अपराह्न तीन बजे नयी दिल्ली से रवाना होगी और रात में 11.05 बजे वाराणसी पहुंचेगी। सरकार की इस पहल से यात्रियों के समय में बचत होने के साथ ही इस क्षेत्र की आर्थिक, सांस्कृतिक और औद्योगिक विकास को गति मिलेगी। प्रधानमंत्री ने इस मौके पर रेल दावा अधिकरण के नवनिर्मित भवन को उद्घाटन किया। साथ ही साथ ही वे जौनपुर से जौनपुर सिटी के मध्य रेलवे कॉर्ड का भी लोकार्पण किया।

ins copy

यह ट्रेन पूरी तरह से स्वदेशी है और यह बुलेट की गति सी चलती है। बहुत कम समय में ही इसकी रफ्तार 160 किलोमीटर से प्रति घंटे से 200 किलोमीटर प्रति घंटे की हो जाती है। इसकी बनावट भी बुलेट जैसा है। यह ट्रेन यात्रियों के लिए जितना अघिर सुविधाजनक है, उतनी ही ज्यादा खूबसूरत भी है। इस ट्रेन में यात्रियों की छोटी से छोटी हर जरूरतों का ध्यान रखा गया है। वन्देभारत एक्सप्रेस ट्रेन में कई जगहों पर समय के अनुसार यात्रियों खाना और नाश्ता भी दिया जाता है। वन्देभारत ट्रेन का निर्माण चेन्नई की इंटीग्रल कोच फैक्ट्री में तैयार किया जाता है और इस एक ट्रेन बनाने में रेलवे को लगभग 100 करोड़ रुपये खर्च करने पड़ते हैं।।

उल्लेखनीय है कि भारत की ट्रेनों में इंजन का एक अलग से कोच होता है, लेकिन वन्देभारत एक्सप्रेस ट्रेन में एकीकृत इंजन होता है। यह ट्रेन 100 किलोमीटर की रफ्तार महज 52 सेकेंड में पकड़ लेती है। इस ट्रेन में ऑटोमेटिक दरवाजे लगे हैं, जो मेट्रो के जैसे ही ऑटोमेटिक खुलते हैं। इसके अलावा यह ट्रेन कई आधुनिक सुविधाओं से ट्रेन लैस है। वंदेभारत की सि्टंग चेयर्स है 360 डिग्री घूम जाती हैं। इस ट्रेन में भोजन और नाश्ता भी परोसा जाता है। जिसकी कीमत टिकट में ही शामिल होती है। यात्रियों की सुविधा के मद्देनजर इस ट्रेन को पूरी तरह से ऑनबोर्ड वाईफाई की सुविधा से लैस किया गया है। साथ ही हर सीट के नीचे मोबाइल और लैपटॉप चार्ज करने के लिए चार्जिंग प्वाइंट््स दिए गए हैं।

hari jhandi copy

वन्देभारत एक्सप्रेस में जीपीएस प्रणाली लगी है, जिसके माध्यम से आने वाले स्टेशन और अन्य सूचनाओं की जानकारी मिलती रहती है। स्वच्छता को ध्यान में रखते हुए इस ट्रेन में विमान की तरह बायो वैक्यूम शौचालय का निर्माण किया गया है। यात्रियों को ट्रेन से बाहर का नजारा अच्छे से दिखाई दे, इसके लिए इसमें बड़ से शीशें लगाए गए हैं। यात्रियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए हर डिब्बे में सीसीटीवी लगाए गए हैं। यात्रियों की सेफ्टी को ध्यान में रखते हुए जब ट्रेन पूरी तरह से रूक जाती है, तब ही दरवाजे खुलते हैं, ताकि यात्री चलती ट्रेन में न ही चढ़ और न ही उतरें। वन्देभारत एक्सप्रेस ट्रेन के निर्माण में दिव्यागों की सुविधाओं का विशेष ध्यान रखा गया है। इस ट्रेन के कुछ डिब्बों में व्हीलचेयर रखने के लिए अलग से स्थान बनाया गया है।

 

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘PUNJAB KESARI’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOK, INSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो कर सकते हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ten + six =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।