सिल्कयारा टनल में फंसे मजदूर ने अपनी माँ को भेजा भावनात्मक संदेश, जानिए क्या कहा?

उत्तरकाशी में सिल्कयारा सुरंग में फंसे श्रमिकों को कुछ राहत मिली क्योंकि 10 दिनों तक सुरंग में फंसे रहने के बाद कुछ श्रमिकों ने पहली बार अपने रिश्तेदारों से बात की। सिल्कयारा सुरंग ढहने के चल रहे मामले में एक बड़ी सफलता हासिल करते हुए बचाव दल के अधिकारी मंगलवार सुबह 6 इंच की पाइपलाइन के माध्यम से फंसे हुए श्रमिकों के साथ सफलतापूर्वक बातचीत करने में सफल रहे।

  • उत्तरकाशी में सिल्कयारा टनल में फंसे श्रमिकों ने पहली बार अपने रिश्तेदारों से बात की
  • बचाव दल मंगलवार सुबह श्रमिकों के साथ सफलतापूर्वक बातचीत करने में सफल रहे
  • फंसे हुए मजदूरों में से एक ने सुपरवाइजर से अपनी मां को कुछ बताने के लिए रिकॉर्ड करने को कहा
  • उन्होंने कहा, मां मेरी चिंता मत करो, मैं ठीक हूं। कृपया आप और पिताजी समय पर खाना खाएं

मां मेरी चिंता मत करो, मैं ठीक हूं- मजूदर जयदेव

फंसे हुए मजदूरों में से एक, जयदेव ने सुरंग ढहने वाली जगह पर सुपरवाइजर से बात करते हुए बांग्ला भाषा में कहा, कृपया रिकॉर्ड करें, मैं अपनी मां को कुछ बताऊंगा उन्होंने कहा, मां मेरी चिंता मत करो, मैं ठीक हूं। कृपया आप और पिताजी समय पर खाना खाएं।

कुछ अन्य श्रमिकों ने भी अपने रिश्तेदारों से संपर्क किया

सुपरवाइजर को सुरंग के अंदर फंसे लोगों से चिंता न करने और उन्हें जल्द ही बाहर निकालने के लिए कहते हुए सुना जा सकता है। सुपरवाइजर ने मजूदर से पूछा कि क्या वह अपने माता-पिता को कुछ बताना चाहता है क्योंकि वॉयस रिकॉर्डिंग उसके माता-पिता को घर वापस भेज दी जाएगी। फंसे हुए कुछ अन्य श्रमिकों ने भी अपने रिश्तेदारों से संपर्क स्थापित किया और 10 दिनों से सुरंग में फंसे होने के बावजूद, उन्होंने असाधारण स्तर के धैर्य और साहस का परिचय दिया और अपने रिश्तेदारों से उनके बारे में चिंता न करने के लिए कहा।

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘PUNJAB KESARI’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOK, INSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

twelve − 11 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।