J&K : घुसपैठ की साजिश को नाकाम करने के लिए नियंत्रण रेखा पर सेना सतर्क

सेना ने कम दृश्यता का फायदा उठाते हुए गणतंत्र दिवस समारोह में खलल डालने के लिए आतंकवादियों की घुसपैठ की किसी भी कोशिश को विफल करने के लिए जम्मू-कश्मीर के राजौरी और पुंछ जिलों में नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर अपनी चौकसी तेज कर दी है। अधिकारियों ने यह जानकारी दी।

सेना ने कम दृश्यता का फायदा उठाते हुए गणतंत्र दिवस समारोह में खलल डालने के लिए आतंकवादियों की घुसपैठ की किसी भी कोशिश को विफल करने के लिए जम्मू-कश्मीर के राजौरी और पुंछ जिलों में नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर अपनी चौकसी तेज कर दी है। अधिकारियों ने यह जानकारी दी।
सेना के अधिकारियों ने बताया कि राजौरी के सुंदरबनी सेक्टर से शुरू होकर पुंछ के सौजियान में खत्म होने वाली 220 किलोमीटर लंबी नियंत्रण रेखा पर सीमा सुरक्षा ग्रिड खराब मौसम के कारण पिछले पांच दिनों से ‘हाई अलर्ट’ पर है।
उन्होंने कहा कि पूरे खंड में पिछले पांच दिनों से रुक-रुक कर बारिश हो रही है, साथ ही कोहरे की स्थिति और कम दृश्यता भी है।
सैन्य अधिकारी ने कहा, “कम दृश्यता का लाभ उठाकर आतंकवादियों द्वारा गणतंत्र दिवस को बाधित करने के लिए घुसपैठ के प्रयासों की आशंका बनी हुई है। इसलिए हम उनके नापाक मंसूबों को विफल करने के लिए सतर्क हैं।”
उन्होंने कहा कि नियंत्रण रेखा की रक्षा करने वाले जवान हालांकि हमेशा चौबीसों घंटे ‘हाई अलर्ट’ पर रहते हैं, लेकिन समारोह में खलल डालने की किसी भी कोशिश को नाकाम करने के लिए राष्ट्रीय कार्यक्रमों जैसे कई मौकों पर अतिरिक्त सतर्कता बरती जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

eleven − six =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।