Punjab की वो जेल, जहां तैनात अधिकारी पैसे लेकर कैदियों को उपलब्ध कराते ड्रग्स

वैसे तो किसी भी कैदी को जेल में सजा काटने के लिए भेजा जाता है ताकि वो फिर से अपराध की दुनिया में कदम न रखे। लेकिन पंजाब की इस जेल में तो अपराधियों को अपराध के लिए बढ़ावा दिया जा रहा है दरअसल ऐसा हम इसलिए कह रहे क्योंकी जिस ड्रग्स का व्यापार करना अपराध माना जाता हो वही अपराध जेल के अंदर पुलिस की मिली भगत से धड़ल्ले से चल रहा है जिसका अब परर्दाफाश हो चुका है।
मनसा जेल में कैदियों को ड्रग्स सप्लाई की जा रही
पंजाब के मनसा का ये पूरा मामला है जहा कैदियों से पैसे लेकर ड्रग्स सप्लाई किया जा रहा है। जब इस मामले का खुलासा हुआ तो 2 सहायक अधीक्षकों और 4 वार्डरों सहित 6 जेलकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है। इन जेलकर्मियों को कथित तौर पर कैदियों से पैसे लेकर उन्हें जेल में ड्रग्स मुहैया करवाने के आरोप में सस्पेंड किया गया है।
ADGP ने कई अधिकारियों को क्या सस्पेंड
गुरुवार को ADGP अरुण पाल सिंह द्वारा जारी एक पत्र में बताया कि उन्होंने इस मामले में मनसा जेल के दो सहायक अधीक्षक और 4 वार्डरों के निलबित कर दिया है।
जेल में कई तरह की सुविधाएं दी जा रही है
सुभाष कुमार अरोड़ा ने मनसा जेल की पोल खोलते हुए आगे बताया कि मनसा जेल में पैसे वालें कैदियों को जेल अधिकारी ड्रग्स के अलावा कई और तरह की सुख-सुविधाएं प्राप्त करते हैं।
सुभाष कुमार अरोड़ा ने किया खुलासा
अरोड़ा ने आगे बताया कि जेल अंदर ज्यादातर कैदी बड़े पैमाने पर मोबाइल फोन का इस्तेमाल करते है। अरोड़ा के इस बयान के बाद ADGP अरुण पाल सिंह ने इस मामले में कड़ी कर्रवाई करते हुए मनसा जेल के सहायक अधीक्षक कुलजीत सिंह, भिवम तेज सिंगला और वार्डर हरप्रीत सिंह, निर्मल सिंह, सुखवंत सिंह और हरप्रीत सिंह, को सस्पेंड कर दिया गया है।

जेल से रिहा हुए थे सुभाष
ड्रग्स के इस खुलासे के बारे में बात करे तो कुछ हफ्ते पहले मनसा जेल से रिहा हुए सुभाष कुमार अरोड़ा के बयान के बाद हुई है। बता दें कि, सुभाष कुमार अरोड़ा कुछ हफ्ते पहले ही मनसा जेल रिहा हुए थे।
मीडिया से बात करते हुए किया खुलासा
जेल से बाहर आने के बाद सुभाष कुमार अरोड़ा ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि जेल में कैदी अधिकारियों को पैसे देकर अपने लिए ड्रग्स और बाकी के नशीले पदार्थ मंगवाते हैं। अब इस मामले का खुलासा हो चुका है जिसके बाद से ही पूरे पुलिस महकमें में हड़कंप मचा हुआ है ड्रग्स स्पलाई के इस मामले में कई अधिकारियों को सस्पेंड कर दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

nineteen − twelve =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।