वीरांगनाओं को न्याय दिलाने के लिए सचिन पायलेट ने सीएम गहलोत पर हमला किया

राजस्थान में वीरांगनाओं की मांग को लेकर लगातार विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है।दरअसल कई दिनों से वीरांगनाएं राजस्थान से मांग कर रही थी कि पुलवामा अटैक में शहीद जवानों के परिवारों को पैसे और एक सदस्य को सरकरी नौकरी देने की मां की थी।

राजस्थान में वीरांगनाओं की मांग को लेकर लगातार विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है।दरअसल कई दिनों से वीरांगनाएं राजस्थान से मांग कर रही थी कि पुलवामा अटैक में शहीद जवानों के परिवारों को पैसे और एक सदस्य को सरकरी नौकरी देने की मां की थी।
लेकिन सरकार उनकी मांग को नहीं मान रही है। वीरांगनाएं आरोप लगा रही है कि उनको सहायता नहीं मिल रही है बल्की उनको पिटा जा गया। जिसके बाद शनिवार को  जयपुर में वीरांगनाओं और सांसद किरोड़ीलाल मीणा से बदसलूकी को लेकर भाजपा कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया।  इस दौरान बीजेपी कार्यकर्ता जब मुख्यालय से सहकार भवन की ओर जा रहे थे तो सैकड़ों कार्यकर्ताओं को पुलिस ने रोकने का प्रयास किया।

कार्यकर्ताओं ने पुलिस की गाड़ी पर पथराव किया1678537788 an1
इस बीच कुछ कार्यकर्ताओं ने पुलिस की गाड़ी पर पथराव किया। प्रदर्शन के दौरान विधायक मदन दिलावर पुलिस के पैरों में लेट गए। वहीं बैरिकेड पार करने के दौरान प्रदेशाध्यक्ष डाॅ सतीश पूनिया के पैरों में चोट लगी। वहीं विरोध प्रदर्शन को लेकर बीजेपी के  सतीश पूनिया ने कहा कि हमारे नेताओं और पुलवामा शहीदों की पत्नियों का अपमान किया गया। हम इसका विरोध कर रहे हैं। आने वाले दिनों में जन आक्रोश अभियान चलाया जाएगा, जहां हम किसानों का कर्ज माफ करने, भ्रष्टाचार जैसे मुद्दों को उठाया जाएगा। इससे पहले भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश मुख्यालय के बाहर नेताओं-कार्यकर्ताओं ने सभा भी की थी जिसमें हजारों लोग शामिल थे।
वीरांगनाओं को लेकर  सचिन पायलट ने अपनी सरकार को घेरा1678537798 a2
इससे पहले शुक्रवार को पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट ने वीरांगनाओं के मुद्दे को पर अपनी ही सरकार को घेरा। सीएम पर तंज कसते हुए उन्होंने कहा। वीरांगनाओं को सुना जाना चाहिए था। उनकी मांगों को मानना या नहीं मानना। बाद का मुद्दा है। जहां तक नौकरियों की बात है। किसी को एक-दो नौकरी देने से बदलाव आने वाला नहीं है। अब देखने वाली बात होगी की क्या फिर राजस्थान की सरकार मेें उठापठक देखने को मिलेगी क्योंकी पायलेट फिर गहलोत पर हमला कर रहे है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

8 + 14 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।