Yashasvi Jaiswal:इस युवा बल्लेबाज़ ने दर्ज किया नया रिकॉर्ड

यशस्वी जायसवाल (Yashasvi Jaiswal) दूसरे टेस्ट के दूसरे दिन शनिवार को सुनील गावस्कर और विनोद कांबली के बाद टेस्ट में दोहरा शतक बनाने वाले तीसरे सबसे युवा भारतीय बन गए।

HIGHLIGHTS

  • यशस्वी जायसवाल (Yashasvi Jaiswal) ने अपने आक्रामक खेल के जरिये पूर्व भारतीय बल्लेबाज़ गौतम गंभीर कि याद दिला दी
  • यशस्वी जायसवाल (Yashasvi Jaiswal)  सुनील गावस्कर और विनोद कांबली के बाद टेस्ट में दोहरा शतक बनाने वाले तीसरे सबसे युवा भारतीय बन गए।
  • विनोद कांबली दोहरा शतक लगाने वाले सबसे युवा भारतीय375233 1

यशस्वी दोहरा शतक लगाने वाले तीसरे सबसे युवा बल्लेबाज़

इंग्लैंड के खिलाफ दूसरे टेस्ट में 22 साल और 77 दिन की उम्र में जयसवाल ने 277 गेंदों में अपनी उपलब्धि पूरी की। जायसवाल सलामी बल्लेबाज मयंक अग्रवाल (नवंबर 2019) के बाद खेल के सबसे लंबे प्रारूप में दोहरे शतक का आंकड़ा पार करने वाले पहले भारतीय बन गए।
युवा भारतीय सलामी बल्लेबाज, जो अपनी आक्रामक खेल शैली के लिए जाने जाते हैं, ने अंग्रेज गेंदबाजों द्वारा पेश की गई चुनौतियों का सामना करते हुए आक्रमण, कौशल और संयम का एक उल्लेखनीय मिश्रण दिखाया। जायसवाल की पारी भारतीय टीम के लिए आशा की किरण बन गई, खासकर जब विपरीत छोर पर नियमित अंतराल पर विकेट गिरते रहे।

गंभीर के बाद दोहरे शतक लगाने वाले पहले बाएं हाथ के बल्लेबाज़

आपको बता दू कि, न केवल जायसवाल दोहरे शतक के प्रतिष्ठित मील के पत्थर तक पहुंचे, बल्कि वह 2008 में गौतम गंभीर के बाद टेस्ट क्रिकेट में यह उपलब्धि हासिल करने वाले पहले भारतीय बाएं हाथ के बल्लेबाज भी बन गए। भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 206 रन बनाए थे और अब जायसवाल भी उतनी ही उल्लेखनीय पारी के साथ उनके नक्शेकदम पर चलते हैं।375172

गंभीर जैसे ही आक्रामक खेलते है जायसवाल

200 रन के आंकड़े तक पहुंचने के लिए 277 गेंदें खेलकर, जायसवाल की पारी ने न केवल उनके आक्रामक स्वभाव का प्रदर्शन किया, बल्कि स्थिति की मांग होने पर धैर्य के साथ अपनी आक्रामकता को कम करने की उनकी क्षमता भी प्रदर्शित की। इसी बिच यशस्वी जायसवाल (Yashasvi Jaiswal) ने अपने आक्रामक खेल के जरिये पूर्व भारतीय बल्लेबाज़ गौतम गंभीर कि याद दिला दी, इस युवा का खेलने का रवैया काफी हद तक गौतम गंभीर से भी मिलता है. सायद आपको पता होगा गंभीर अपने खेल के साथ साथ वह गरम मिजाज़ के खिलाडी भी थे उनके बारे में आप अक्सर खिलाडियों से विवाद सुना होगा, पर यशस्वी के अन्दर ऐसा नहीं है वह सिर्क खेल में आक्रामक रवैया दिखाते है.

विनोद कांबली दोहरा शतक लगाने वाले सबसे युवा भारतीय

पूर्व बल्लेबाज, विनोद कांबली दोहरा शतक लगाने वाले सबसे कम उम्र के भारतीय बने हुए हैं, उन्होंने 1993 में वानखेड़े में इंग्लैंड के खिलाफ 21 साल और 32 दिन की उम्र में यह उपलब्धि हासिल की थी। टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में सबसे कम उम्र में दोहरे शतक लगाने वाले जावेद मियांदाद हैं, जिन्होंने 19 साल 140 दिन की उम्र में यह उपलब्धि हासिल की थी।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

two × 2 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।